मायावती के चक्रव्यूह में फंसी भाजपा, पंडित भी रह गए फेल, हिट हुआ 1 विधायक वाली BSP का प्लान

By: jhansitimes.com
May 20 2018 08:48 am
6314

बेंगलुरु। दो दिन पुराने कर्नाटक सीएम येदुरप्‍पा ने बहुमत परीक्षण से पहले ही इस्तीफा दे दिया है, वो केवल ढाई दिन के लिए कर्नाटक के मुख्यमंत्री रहे। इस्तीफे से पहले कर्नाटक विधानसभा को संबोधित करते हुए येदुरप्‍पा ने कहा कि मैं वापस आऊंगा, 150 से ज्यादा सीटें जीतकर आऊंगा, उन्होंने कहा कि बीजेपी के पास बहुमत नहीं है और वो अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंपने जा रहे हैं। जैसे ही येदुरप्‍पा ने इस्तीफा दिया वैसे ही कांग्रेस और जेडीएस खेमा खुशी से नाच उठा है, विधानसभा में ही कांग्रेसी नेताओं ने विजयी चिह्न दिखाकर एक-दूसरे को बधाई दी।

बसपा सुप्रीमो मायावती का दिमाग 

आज कांग्रेस और जेडीएस विधायकों का जश्न ये बता रहा है कि उन्होंने बीजेपी को हरा दिया है। अगर कांग्रेस अगर 100 से भी कम नंबर लेकर भी सत्ता में बनी हुई तो उसके पीछे दिमाग उस व्यक्ति का है, जिसने चुनाव नतीजों के तुरंत बाद ही यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी को फोन करके कहा कि वो एचडी देवगौड़ा को गठबंधन के लिए फोन करे।

माया के चक्रव्यूह में फंसी भाजपा 

और देखते ही देखते बीजेपी की 104 विधायको के सामने कांग्रेस और जेडीएस का गठबंधन 117 विधायकों के नंबरों के आंकड़े के साथ आकर खड़ा हो गया, और ये दिमाग था बसपा सुप्रीमो मायावती का, जिन्होंने 15 मई को जैसे ही चुनाव नतीजों में त्रिशंकु विधानसभा की आहट देखी, तो वो किंगमेकर के तौर पर खुद आगे बढ़ी और देखते ही देखते हर बाजी पलट दी।

एग्जिट पोल के नतीजों में कर्नाटक में त्रिशंकु विधानसभा के आसार थे, तब राजनीति के कई पुरोधाओं ने कहा था कि अगर ऐसा हुआ तो बीजेपी और जेडीएस साथ आकर सरकार बना लेंगे क्योंकि उनका साथ पूर्व में भी रहा है लेकिन किसी ने नहीं सोचा था कि कांग्रेस और जेडीएस साथ आ जाएंगे और कांग्रेस सीएम की कुर्सी का मोह छोड़ देगी।

एक सीट पर जीत हासिल की है बसपा ने 

गौरतलब है कि बहुजन समाज पार्टी ने कर्नाटक चुनाव में जेडीएस के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन किया था। चुनाव के दौरान मायावती ने जेडीएस नेताओं के साथ संयुक्त तौर पर रैली भी की थी। मालूम हो कि बहुजन समाज पार्टी ने प्रदेश की 20 सीटों पर चुनाव लड़ा था, जिसमें उसे एक सीट पर जीत हासिल हुई।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।