मायावती ने की बड़ी घोषणा: बसपा रहेगी परिवारवाद से मुक्त, पार्टी के संविधान में किए अहम बदलाव

By: jhansitimes.com
May 26 2018 09:22 pm
1370

लखनऊ : मायावती ने बहुजन समाज पार्टी को परिवारवाद से मुक्त रखने के लिए पार्टी संविधान में अहम बदलाव किए हैं. अब बसपा का जो भी राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया जाएगा, उसके जीते-जी व उसके न रहने के बाद भी उसके परिवार के किसी भी नजदीकी सदस्य को पार्टी संगठन में किसी भी स्तर के पद पर नहीं रखा जाएगा.

बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने पार्टी संविधान में कई महत्वपूर्ण संशोधन करके पार्टी को परिवारवाद आदि से मुक्त रखने के संकल्प की घोषणा पार्टी की आल-इंडिया बैठक में की. लखनऊ में शनिवार को हुई इस बैठक में मायावती ने कहा है कि उनके समेत उनके बाद अब आगे भी बीएसपी का जो भी राष्ट्रीय अध्यक्ष बनेगा उसके जीते-जी और उसके न रहने पर भी उसके परिवार के किसी भी नजदीकी सदस्य को पार्टी संगठन में किसी भी पद पर नहीं रखा जाएगा. उसके परिवार के सदस्य साधारण कार्यकर्ता के रूप में ही निःस्वार्थ भावना से पार्टी में कार्य कर सकेंगे.

झांसी विकास प्राधिकरण द्वारा स्वीकृत प्लाट बिकाऊ है आसान किस्तों पर, इंजीनियरिंग कालेज के पास कानपुर रोड दिगारा भगवंतपुरा बाईपास रोड झांसी पर स्थित

सम्पर्क करें- 08858888829, 07617860007, 09415186919, 08400417004

बीएसपी के नए संविधान के अनुसार राष्ट्रीय अध्यक्ष यदि ज्यादा उम्र होने पर पार्टी में फील्ड का कार्य करने में खुद को कमजोर महसूस करता है तब फिर उसकी सहमति से उसे पार्टी का राष्ट्रीय संरक्षक नियुक्त कर दिया जाएगा. उसकी सलाह पर ही बीएसपी का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष कार्य करेगा.

बीएसपी में ’नेशनल कोआर्डिनेटर’ की नियुक्ति की व्यवस्था भी की गई है. पहले चरण में इस पर दो नेताओं वीर सिंह एडवोकेट और जयप्रकाश सिंह जाटव की नियुक्ति की गई है. इसी क्रम में पार्टी संगठन में कई बदलाव करते हुए नई जिम्मेदारियों की घोषणा भी की गई है. यूपी के लिए आरएस कुशवाहा को पार्टी का नया प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया  गया है. निवर्तमान अध्यक्ष राम अचल राजभर को राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया है. कुछ राज्यों के लिए कोऑर्डिनेटरों की भी नियुक्ति की गई है. लालजी वर्मा छत्तीसगढ़ के और अशोक सिद्धार्थ दक्षिण भारत के तीन राज्यों के कोआर्डिनेटर नियुक्त किए गए हैं.

चुनावी गठबंधन को लेकर भी बीएसपी ने अपनी नई नीति बनाई है. अब पार्टी किसी भी राज्य में और किसी भी चुनाव में किसी भी दल के साथ केवल सम्मानजनक सीटें मिलने की स्थिति में ही कोई चुनावी गठबंधन या समझौता करेगी. ऐसा न होने पर बसपा अकेले ही चुनाव लड़ेगी. बीएसपी की उत्तर प्रदेश सहित कई अन्य राज्यों में गठबंधन करके चुनाव लड़ने के लिए अन्य दलों से बातचीत चल रही है.

मायावती ने लखनऊ में पार्टी के प्रदेश कार्यालय में बीएसपी की आल-इंडिया बैठक को सम्बोधित किया. पार्टी की प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक मायावती ने बैठक में पार्टी के कार्यकर्ताओं को बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक कांशीराम के जीवन से जुड़े कुछ सख़्त फैसले याद दिलाए. उन्होंने कहा कि कांशीराम ने तीन अहम फैसले लिए थे. पहला फैसला था कि वे किसी के भी शादी-विवाह, जन्म व मृत्यु आदि के कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पाएंगे ताकि जीवन का एक-एक पल पार्टी व मूवमेंट के कार्यों में ही लगा रहे. दूसरा फैसला था, वे आजीवन अविवाहित ही रहेंगे ताकि पारिवारिक मोह आदि से हमेशा दूर रहें और अपने खास उद्देश्य से न भटक सकें. तीसरा फैसला था, पार्टी में अपने मां-बाप, सगे भाई-बहिन एवं नजदीकी रिश्तेदारों को हमेशा सक्रिय राजनीति से दूर रखेंगे. उनको पार्टी में न कोई पद देंगे और न ही उनको कोई चुनाव लड़ाएंगे.

झांसी विकास प्राधिकरण द्वारा स्वीकृत प्लाट बिकाऊ है आसान किस्तों पर, इंजीनियरिंग कालेज के पास कानपुर रोड दिगारा भगवंतपुरा बाईपास रोड झांसी पर स्थित

सम्पर्क करें- 08858888829, 07617860007, 09415186919, 08400417004

मायावती ने कहा कि कांशीराम से प्रेरित होकर ही उन्होंने भी अपने जीवन से जुड़े इन तीनों अहम व सख्त फैसलों पर, पूरी ईमानदारी व निष्ठा से अमल किया है. उन्होंने कहा कि पिछले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा के चुनाव के बाद उन्होंने थोड़ा परिवर्तन करते हुए अपने छोटे भाई आनंद कुमार को खासकर पेपर-वर्क के लिए पार्टी संगठन के एक पद पर रख लिया था. इस फैसले के कुछ समय बाद ही भाजपा व अन्य पार्टियों की तरह ही बीएसपी पर भी परिवारवाद को बढ़ावा देने के आरोप लगने लगे. अब पार्टी में परिवार के सभी नजदीकी सदस्यों को सक्रिय राजनीति से दूर रखने के फैसले पर फिर पूरी सख्ती से अमल करना पड़ा है ताकि फिर कोई भी विरोधी पार्टी व मीडिया आदि परिवारवाद को बढ़ावा देने का आरोप न लगा सके.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।