MBBS छात्र ने ट्रेन में महिला का प्रसव कराया... शुक्रिया WhatsApp को, क्लिक कर पढ़ें इस खबर को

By: jhansitimes.com
Apr 11 2017 11:00 am
1841

नागपुर: मेडिकल के फाइनल ईयर  छात्र ने चलती ट्रेन में महिला का ऑनलाइन इंस्ट्रक्शन लेकर प्रसव कराया । दरअसल, महिला को चलती ट्रेन में लेबर पेन हुआ। तब, उसी ट्रेन से सफर कर रहे इस छात्र ने वॉट्सऐप पर अपने सीनियर डॉक्टर्स से इंस्ट्रक्शन लेकर डिलीवरी करवाने में मदद की।

नागपुर के विपिन भगवान राव खड़से ने 7 अप्रैल को फेसबुक पर इस पूरी घटना के बारे में विस्तार से जानकारी पोस्ट की. उन्होंने बताया कि यह काफी जटिल मामला था, लेकिन व्हाट्सऐप ने इस मुश्किल घड़ी में उनका काम आसान कर दिया. उन्होंने व्हाट्सऐप के जरिये दूसरे मेडिकल छात्रों और डॉक्टरों से तुरंत संपर्क किया, जिससे बच्चे का जन्म सकुशल हो सका. फेसबुक पर उन्होंने लिखा डॉक्टर बनने पर जितनी खुशी मुझे हुई थी, उससे 1000 गुना ज्यादा खुशी दो जिंदगियां बचाने पर हुई.

 

- रेलवे के चीफ पीआरओ पीडी पाटिल ने बताया कि, शुक्रवार को अहमदाबाद-पुरी एक्सप्रेस के जनरल कोच में रायपुर की चित्रलेखा सफर कर रही थी।

- वर्धा से नागपुर के बीच उसे लेबर पेन शुरू हो गया। उसके परिवार वालों ने चेन खींचकर ट्रेन रोकी और उसे हॉस्पिटल ले जाने के बारे में सोचने लगे।

 

- ट्रेन में नागपुर गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज के एमबीबीएस फाइनल इयर के स्टूडेंट विपिन खडसे भी थे। उन्होंने महिला के परिवार वालों से मदद की पेशकश की।

- विपिन के कहने पर बोगी में मौजूद दूसरी महिलाओं ने चलती ट्रेन में साड़ियों और चादरों से घेरकर लेबर रूम तैयार किया।

- विपिन ने फिर हॉस्पिटल की सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर शिखा मलिक से मदद मांगी।

- इसके बाद शिखा ने वॉट्सऐप पर कई इंस्ट्रक्शन दिए जिसे फॉलो करते हुए विपिन ने यह डिलीवरी करवाई।

- नागपुर के रेलवे ऑफिसर्स को इस बारे में पहले ही इन्फॉर्म कर दिया गया था, इसलिए मेडिकल टीम स्टेशन पर ही मौजूद थी। ट्रेन पहुंचते ही बच्चे की जांच की गई।

- महिला ने रायपुर लौटने की मंशा जाहिर की। इस पर डॉक्टर ने जांच के बाद उसे जाने की इजाजत दे दी। महिला और उसका बच्चा दोनों बिल्कुल ठीक हैं।

शुक्रवार को फेसबुक पर यह पोस्ट डाले जाने के बाद इसे 5600 लोग लाइक कर चुके हैं और 650 से अधिक बार इसे शेयर किया जा चुका है. अपने पोस्ट में इस मेडिकल स्टूडेंट ने बताया, मैं ट्रेन के जरिये अकोला से नागपुर जा रहा था. सफर के दौरान टिकट चेकर किसी डॉक्टर को ढूंढ रहे थे. मुझे लगा कि शायद कोई अनुभवी डॉक्टर मिल जाएगा, लेकिन जब मुझे महसूस हुआ कि ऐसा कोई डॉक्टर ट्रेन में मौजूद नहीं है, तो फिर मैंने मदद की पेशकश की.

 

इसके बाद वह जनरल डिब्बे में गए जहां बमुश्किल 22-23 साल की महिला प्रसव पीड़ा में थी. शुरू में इस मेडिकल छात्र को लगा कि महिला नॉर्मल डिलिवरी के जरिये बच्चे को जन्म दे सकती है, लेकिन बाद में उसे महसूस हुआ कि कोई दिक्कत पैदा हो गई है. बच्चे का सिर बाहर आने की बजाय उन्हें उसका कंधा नजर आया. इसके बाद उन्होंने तुरंत ही अपने कॉलेज के रेजीडेंट डॉक्टरों से संपर्क करने का फैसला किया. उन्हें एक खास प्रक्रिया अपनाने को कहा गया जिसे मेडिकल टर्म में एपिसियोटॉमी कहा जाता है, जिसे में एक छोटा चीड़ा लगाकर बच्चे की डिलीवरी कराई जाती है. हालांकि वह डरे हुए थे, लेकिन उन्होंने अकेले दम पर यह प्रक्रिया पूरी की. चूंकि वह एक इंटर्न हैं, इसलिए उनके पास कुछ मेडिकल उपकरण भी थे.

प्रसव के बाद जच्चा और बच्चा दोनों को कुछ स्वास्थ्य संबंधी समस्या हो गई. इसके बाद उन्हें महिला का रक्तस्राव रोकने के लिए पानी की ठंडी बोतलों का इस्तेमाल करना पड़ा. इसके बाद उन्होंने देखा कि बच्चा ठीक से सांस नहीं ले पा रहा है. बिना समय गंवाए उन्होंने तुरंत व्हाट्सऐप के जरिये अपने साथियों और सीनियर रेजीडेंट डॉक्टरों से संपर्क किया और उनके द्वारा बताए निर्देशों पर अमल करने लगे. तब ट्रेन नागपुर पहुंच चुकी थी जहां मां और बच्चे दोनों को समुचित मेडिकल सहायता दी गई. फेसबुक पर विपिन ने लिखा है कि महिला के रिश्तेदारों ने खुशी से मेरे हाथों में 101 रुपये रख दिए. उन्होंने अपने पोस्ट का अंत पूरा सहयोग देने के लिए अपने सहपाठियों, रेजीडेंट्स, ट्रेन के स्टाफ और यात्रियों को धन्यवाद देते हुए किया है.

हालांकि हम इस पोस्ट की सत्यता की पुष्टि नहीं कर सकते हैं, लेकिन यहां क्लिक कर आप इस पोस्ट को पढ़ सकते हैं. फेसबुक पर इस पोस्ट के लिए इस मेडिकल छात्र की खूब तारीफ हो रही है. एक ने कमेंट किया, यह एक लाइफटाइम अचीवमेंट है बॉस. शानदार काम. एक अन्य ने लिखा, आप पर हमें गर्व है.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।