नवरात्र विशेष 2017 : जानें, किस दिन आदि शक्ति के किस रूप की होगी पूजा

By: jhansitimes.com
Sep 21 2017 10:49 am
79

आज से शारदीय नवरात्र की शुरुआत हो गई है। घरों में नौ दिनों तक देवी के नौ रूपों की पूजा की जाएगी। नवरात्र में मां आदि शक्ति के नौ रूपों का पूजन किया जाता है। हर दिन शक्ति के अलग रूप की पूजा होती है। नवरात्र का हर दिन समान भक्ति भाव से पूजा जाता है।

-नवरात्र का पहला दिन, मां शैलपुत्री: नवरात्र के पहले दिन शक्ति स्वरूपा मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है। मां शैलपुत्री को आदि शक्ति का प्रथम स्वरूप माना जाता है। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका नाम ‘शैलपुत्री’ पड़ा। नवरात्र-पूजन में प्रथम दिवस इन्हीं की पूजा और उपासना की जाती है। मां के दाहिने हाथ में त्रिशूल और बायें हाथ में कमल का फूल सुशोभित है। शैलपुत्री माता का वाहन बृषभ है।

-नवरात्र का दूसरा दिन, मां ब्रह्मचारिणी: नवरात्र के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा जाती है। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का अर्थ हुआ तप का आचरण करने वाली। मां ब्रह्मचारिणी के दांए हाथ में जप की माला और बाएँ हाथ में कमंडल रहता है। मां दुर्गा का यह स्वरूप भक्तों और सिद्धों को अनंत फल देने वाला है। इनकी उपासना से तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार और संयम की वृद्धि होती है।

- नवरात्र का तीसरा दिन, मां चन्द्रघण्टा: नवरात्र के तीसरे दिन मां के चंद्रघंटा स्वरूप का पूजन किया जाता है। मां चंद्रघंटा का स्वरूप शांतिदायक और कल्याणकारी है। मां चंद्रघंटा के माथे पर अर्धचंद्र शोभित रहता है। इसी लिए मां को चंद्रघंटा कहा जाता है। चंद्रघंटा मां के तीन नेत्र व दस भुजाएं हैं। मां अनेक अस्त्र शस्त्र से सुशोभित हैं। मां का वाहन सिंह है।

- नवरात्र का चौथा दिन, कूष्माण्डा माता: नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। माँ की आठ भुजाएँ हैं। ये अष्टभुजा देवी के नाम से भी विख्यात हैं। इनके सात हाथों में कमंडल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा है। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जपमाला है। 

- नवरात्र का पांचवा दिन, स्कन्दमाता: शेर पर सवार होकर माता दुर्गा अपने पांचवें स्वरुप स्कन्दमाता के रुप में भक्तजनों के कल्याण के लिए सदैव तत्पर रहती हैं। शास्त्रों के अनुसारा माता स्कन्दमाता की पूजा करने से सारी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती है और उसे इस मृत्युलोक में परम शांति का अनुभव होने लगता है। माता की कृपा से उसके लिए मोक्ष के द्वार स्वमेव सुलभ हो जाता है।

- नवरात्र का छठा दिन, मां कात्यायनी: माँ दुर्गा के छठे स्वरूप का नाम कात्यायनी है। इनके पूजन से अद्भुत शक्ति का संचार होता है व दुश्मनों का संहार करने में ये सक्षम बनाती हैं। पूरे मन से पूजा करने वाले भक्तों को बहुत सरलता से माँ के दर्शन प्राप्त हो जाते हैं।

- नवरात्र का सातवां दिन, मां कालरात्रि: माँ दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं। दुर्गापूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है। माँ की नाक के छिद्रों से आग की भयंकर ज्वालाएँ निकलती रहती हैं। इनका वाहन गदहा है। ये ऊपर उठे हुए दाएं हाथ की मुद्रा से सभी को वर प्रदान करती हैं। बाईं तरफ के ऊपर वाले हाथ में लोहे का काँटा तथा नीचे वाले हाथ में कटार है।

- नवरात्र का आठवां दिन, मां महागौरी: महाष्टमी के दिन महागौरी की पूजा का विशेष विधान है। देश भर में महाष्टमी की पूजा की छटा देखते ही बनती है। महागौरी का स्वरूप उज्जवल, कोमल, एवं श्वेत है। मां की चार भुजाएं हैं। इन चारों भुजाओं में शंख, चक्र, धनुष और वाण धारण किए हुए हैं।

- नवरात्र का नौवां दिन, मां सिद्धिदात्री: माँ दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं। ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं। मां सिद्धिदात्री सुर और असुर दोनों के लिए पूजनीय हैं। जैसा कि मां के नाम से ही प्रतीत होता है मां सभी इच्छाओं और मांगों को पूरा करती हैं। ऐसा माना जाता है कि देवी का यह रूप यदि भक्तों पर प्रसन्न हो जाता है, तो उसे 26 वरदान मिलते हैं। माँ सिद्धिदात्री चार भुजाओं वाली हैं। ये कमल पुष्प पर भी आसीन होती हैं। इनकी बाएं तरफ के नीचे वाले हाथ में कमलपुष्प है।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।