1 दिसंबर से बिना फास्ट टैग वाली गाड़ियों की हाइवे पर नो एंट्री, टोल पर कैश का लैनदेन पूरी तरह से बंद

By: jhansitimes.com
Aug 21 2019 03:46 pm
1143

नई दिल्ली: अब मोटर व्हीकल संशोधन बिल 2019 कानून का रूप ले चुका है. इस कानून को सख्ती के साथ लागू करने में सरकार जुटी है. हालांकि, शुरुआत में कानून के कुछ प्रावधानों को ही लागू किया जाएगा. धीरे-धीरे कानून के अन्य नियमों को भी सख्ती के साथ लागू किया जाएगा. एक दिंसबर से बिना फास्ट टैग वाली गाड़ियां नेशनल हाइवे पर नहीं चल पाएंगी. हाइवे पर टोल पार करने के लिए परिवहन मंत्रालय ने फास्ट टैग को हर व्हीकल पर जरूरी कर दिया है. इसी के साथ ही सड़क पर ट्रैफिक उल्लंघन करने वालों पर भी एक सितंबर से सख्ती शुरू हो जायेगी. केंद्र सरकार मोटर व्हीकल एक्ट के 63 प्रावधान पूरे देश में 1 सितंबर से लागू करने जा रही है. जिसमें ट्रैफिक के नियम तोड़ने पर भारी जुर्माने और सजा का प्रावधान है.

जिस तरह से देश भर में सड़क हादसे हो रहे हैं उसको देखते हुए केंद्र सरकार व्यापक प्लान के साथ इनको कम करने की कोशिश में जुट गई है. परिवहन मंत्री नितिन गड़करी ने कहा है कि अगले पांच साल में 50 फीसदी तक हादसे कम करने का लक्ष्य रखा गया है और इसके लिए केंद्र सरकार 14000 करोड़ रुपये देश भर में सड़कों के सुधार और ब्लॉक स्पॉट खत्म करने पर खर्च करेगी. जिसके तहत राज्यों और नगरपालिकाओं की सड़कों से लेकर हाइवे की सड़को की डिजाइन, मरम्मत ,सुधार और निर्माण पर काम होगा.  
इसके साथ ही सरकार सड़क पर लापरवाह रूप से गाड़ी चलाने वालों पर सख्ती से निपटने के लिए नये मोटर व्हीकल एक्ट के नियमों को लागू करने जा रही रही है. कानून मंत्रालय से परामर्श के बाद केंद्र ने नये मोटर व्हीकल एक्ट कानून के  63 प्रोवीजन को एक सितंबर से हर राज्य को लागू करना जरूरी कर दिया है. मोटर व्हीकल एक्ट के बाकी के प्रावधानों में राज्य अपने हिसाब  से बदलाव कर सकेंगे.
परिवहन मंत्रालय के मुताबिक दुनिया में सबसे ज्यादा सड़क हादसे भारत में होते हैं और इन हादसों के चलते हर साल हजारों लोगों की मौत हो जाती है साथ ही जीडीपी का दो फीसदी नुकसान भी होता है. यही वजह कि तमाम राज्यों के साथ मशवरा करके नया कानून बनाया गया. नये प्रोवीजन जो 1 सितंबर से लागू होंगे वो हैं.

1. शराब पीना पड़ेगा भारी, अब 10,000 फाइन.
2. नशे में गाड़ी चलाने पर कम से कम 10,000 रुपये का जुर्माना देना होगा.
3. रैश ड्राइविंग पर फाइन भी अब एक सिंतबर से  5,000 रूपये देना होगा.
4. बिना लाइसेंस के गाड़ी चलाने पर 5,000 रुपये भरने होंगे पहले ये जुर्माना 500 रुपये था. 
5. यही नहीं सीट बेल्ट और ओवर स्पीड पर भी एक सितंबर से 100 रुपये की बजाय 1,000 देना होगा. 
6. इसके अलावा तय सीमा से अधिक स्पीड से चलाने पर 400 के स्थान पर 1,000 से 2,000 रुपये तक फाइन देना होगा.
7. मोबाइल पर बात करते हुए पकड़े गये तो 5,000 रूपये का जुर्माना लगना तय है
सरकार के सोच है कि कड़े प्रावधान के साथ ही सड़क पर पर्याप्त सहूलियतें भी होगी जिससे देश में सड़क हादसों को कम करने में मदद मिलेगी. परिवहन मंत्री नितन गड़करी का दावा है कि ट्रैफिक नियमों की सख्ती से सड़क दुर्घटनाओं में कमी आयेगी. सख्त नियमों के साथ ही सरकार अपनी तरफ से सुरक्षित सफर के लिए कई इंतजाम कर रही है. नेशनल हाइवे पर हर 50 किलोमीटर पर एक एंबुलेंस तैनात होगी. हर जिले में सांसद की अध्यक्षता में रोड सेफ्टी बोर्ड गठित होगा जो सड़क हादसों के स्पॉट का दौरा करेगी और सुझाव देगी. 

राष्टीय राजमार्गों पर कुल साढ़े चार सौ एंबुलेंस तैनात की जा रही है. यही नहीं टोल बूथ पर लगने वाले जाम से निजात दिलाने के लिए एक दिसंबर से हर गाड़ी पर फास्ट टैग लगाना मेंडेटरी कर दिया गया है. यानि एक दिसंबर से टोल पर कैश का लैनदेन पूरी तरह से बंद हो जायेगा. 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।