गुणों से भरपूर दही एक, फायदे अनेक, आईये जानते हैं करीब से

By: jhansitimes.com
Jun 05 2018 09:11 am
255

हमारे यहां शुभ काम की शुरूआत दही चीनी के साथ करना का पुराना रिवाज़ है, यही दही है जो कभी पराठों का दोस्त बन जाता है तो कभी लस्सी बन गर्मी के मौसम में ठंडक पहुचाता है । खाने में दही का प्रयोग पिछले लगभग 4500 साल से किया जा रहा है। दूध के मुकाबले जल्दी पच जाने वाला दही प्रो़टीन का अच्छा सोर्स है, जिससे रोज़मर्रा के खाने में शामिल कर आप अच्छी सेहत का उपहार पा सकते है ।

यदि आप अपने भारी भरकम बिजली के बिल से तंग आ चुके हैं, तो सोलर पैनल है सबसे बेहतर विकल्प, आकर्षक ऑफर, कीमत  मात्र 29,990/  में,जल्दी करें

सम्पर्क करें: 09935965454, 0510-2445454

दही अपने अदंर कई गुणो को छुपाए है, दूध मे हल्की सी खटास मिला कर दही को जमाया जाता है । अकसर हमारे घरो मे मिट्टी के बर्तन मे या स्टील के बर्तन मे दही जमा कर तैयार किया जाता है । स्वाद मे हल्की खटास लिए दही, तासीर मे शीतल माना जाता है ।  गुणो से भरपूर दही को आइए कुछ और करीब से जानते है

गुणो का खज़ाना

दूध प्रोटीन का अच्छा सोर्स है इसलिए उससे बनाने वाला दही भी प्रोटीन का अच्छा सोर्स है । इसके साथ ही दही की तासीर ठंडी होती है जो शरीर मे शीतलता पहुँचाने का काम करती है साथ ही यह प्रोटीन, कैल्शियम, राइबोफ्लेविन, विटामिन B6 और विटामिन B12जैसे पोषक तत्वों से का एक बेहतरीन सोर्स है ।

अनिद्रा से मुक्ति

दही का रोज़ सेवन करने से नींद ना आने की समस्या मे राहत मिलती । बहुत से लोगो का ये भी माना है कि दही मे प्याज़ मिलाकर खाने से भी अनिद्रा मे फायदा मिलता है ।

पेट के कीड़ो का रामबाण

अगर आपको पेट के कीड़े की समस्या है तो दही मे शहद मिलाकर कुछ दिन सुबह खाली पेट इसका सेवन करे, ध्यान रखे इस तरीके के लिए असली शहद का ही प्रयोग करे ।

बेहतर पाचन शक्ति के लिेए

दही के नियमित सेवन से आपको पेट से जुड़ी समस्यें नही होती क्यूकिं दही पचाने मे सरल होता है और साथ अम्ल की अधिकता के कारण इसमे मौजूद तत्व पाचन प्रक्रिया को मज़बूत करने का काम करते है ।

पेट से जुड़ी अधिकतर परेशानियों मे जैसे- अपच, कब्ज, गैस आदि मे दही का सेवन करने की सलाह दी जाती है उनके लिए दही या उससे बनी लस्सी, मट्ठा, छाछ का उपयोग करने से आंतों की गरमी दूर हो जाती है। इससे डाइजेशन अच्छी तरह से होने लगता है और भूख खुलकर लगती है।

 गर्मी से छुटकारा

लू लग जाने पर छाछ या सामान्य दही का सेवन अच्छा होता है इससे शरीर की गर्मी मे राहत मिलती है । गर्मियों के मौसम मे दही की छाछ या लस्सी बनाकर पीने से ठंडक मिलती है।

पेट में गड़बड़ होने पर दही के साथ ईसबगोल की भूसी लेने या चावल में दही मिलाकर खाने से दस्त बंद हो जाते हैं। पेट के अन्य रोगों में दही को सेंधा नमक के साथ लेना फायदेमंद होता है। एकशोधके अनुसार दही का नियमित सेवन करने से आंतों के रोग और पेट संबंधित बीमारियां नहीं होती हैं।

मज़बूत हड्डियो के लिए

दही मे दूध के मुकाबले 18 गुणा ज़यादा कैल्सियम होता है जो कि हड्डियों के बहुत ही लाभकारी है । महिलाओं को दही का रोज़ना सेवन करना चाहिए क्यूकिं पीरडस् के कारण शरीर में अकसर कैल्सियम की कमी हो जाती है जिससे दही और दूध के रोज़ना इस्तेमाल से आप पूरा कर सकते है ।

यदि आप अपने भारी भरकम बिजली के बिल से तंग आ चुके हैं, तो सोलर पैनल है सबसे बेहतर विकल्प, आकर्षक ऑफर, कीमत  मात्र 29,990/  में,जल्दी करें

सम्पर्क करें: 09935965454, 0510-2445454

दिल की बेहतर सेहत के लिेए

दिल के रोग, हाई ब्लड प्रेशर और गुर्दों की बीमारियों को रोकने की बेजोड़ ताकत दही की एक खा़स खुबी है। यह कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकता है और दिल की धड़कन सही बनाए रखता है।

जलने व खुश्की

अगर आप कही से जल गए है या शरीर और बालो मे खुश्की की परेशानी झेल रहे है तो दही को उस स्थान पर लगाए, ये आपकी स्कीन व बालो को जरुरी नमी देकर उन्हे मुलायम बनाती है ।

बवासीर

बवासीर रोग के कारण कितने ही लोग काफी परेशानियों का सामना करते है इस रोग से पीडि़त रोगियों को दोपहर के भोजन के बाद एक गिलास छाछ में अजवायन डालकर पीने से लाभ मिलता है।

हेयर टॉनिक

बालों को सुंदर और आकर्षक बनाए रखने के लिए दही या छाछ से बालों को धोने से फायदा होता है। इसके लिए नहाने से पहले बालों में दही को अच्छी तरह लगना कर थोड़ी देर छोड़ दे ।कुछ समय बाद बालों को धो ले आपके बाल ज़्यादा मुलायम और चमकदार बन जाएगे । आप दही मे मेथी दाना और नीम्बू को मिलाकर भी बालो मे लगा सकते है ।इसके नियमित इस्तेमाल से बालो का झड़ना भी कम होता है ।

स्कीन टॉनिक

दही त्वचा की रंगत निखारने के साथ साथ टैनिगं को भी दूर करता है त्वचा के लिए दही अमृत समान है इसकी मदद से आप अपनी त्वचा को रिपेयर कर सकते है दही ड्राई त्वचा वाले व्यक्ति के लिए बहुत ही बढ़िया है ।

इसमें नींबू का रस मिलाकर चेहरे, गर्दन, कोहनी, एड़ी और हाथों पर लगाने से शरीर निखर जाता है। दही की लस्सी में शहद मिलाकर पीने से सुंदरता बढ़ने लगती है। दही और बेसन के मिश्रण से मालिश करें। पसीने की दुर्गंध दूर हो जाएगी।

वजन बढ़ाने और घटाने में सहायक

दही में किशमिश, बादाम या छुहारा मिलाकर दिया जाए तो ये आप वजन में इजा़फा करता है, वही दही के सेवन से शरीर की फालतू चर्बी को भी घटाया जा सकता है क्योकि इसके सेवन से पाचन तंत्र सही से काम करने लगता है ।

इसके अलावा झाईयाँ, फटे होठ, अपच, दाद आदि जैसी कई परेशानियों में दही बहुत बेहतर तरीके से काम करता है। बस ध्यान देने वाली बात ये है कि इसको रात के समय इस्तेमाल ना किया जाए और साथ ही आपकी तासीर शीतल है तो इसका सेवन कम करे । बासी दही और ज़्यादा खटा दही बलग़म बनता है तो उसका प्रयोग ना करे। दही गुणो की खा़न है इसको समझदारी से अपनी रोज़मर्रा की ज़िदंगी में शामिल करे और मन चाहा लाभ उठाए ।

यदि आप अपने भारी भरकम बिजली के बिल से तंग आ चुके हैं, तो सोलर पैनल है सबसे बेहतर विकल्प, आकर्षक ऑफर, कीमत  मात्र 29,990/  में,जल्दी करें

सम्पर्क करें: 09935965454, 0510-2445454


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।