कितने संघी थे अटल जी ...

कितने संघी थे अटल जी ...

(EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH)   हालांकि प्रधानमंत्री के रूप में अटल बिहारी बाजपेयी ने अपने संघ ...
पढ़ लीजिये, राहुल को घेरने में खुद भी घिर गये अमित शाह

पढ़ लीजिये, राहुल को घेरने में खुद भी ...

(EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH) कह नही सकते कि जब मंडल आयोग की रिपोर्ट लागू की गई थी उस समय अमित शाह ...
सरकार के रंग ढंग से सवर्णों में स्यापा.... बता रहे, चौंकाने वाला खुलासा प्रधान संपादक के.पी सिंह

सरकार के रंग ढंग से सवर्णों में स्यापा.... ...

लोक सभा चुनाव के नजदीक आने के साथ सरकार ने सामाजिक न्याय के मोर्चे पर जिस तरह ...
भ्रष्टाचार के खिलाफ हल्ला बोल कितना सार्थक होगा

भ्रष्टाचार के खिलाफ हल्ला बोल कितना ...

(EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी समझ रहे हैं कि सन्निकट ...
स्त्री और दलितों से जुड़ी अपवित्रता की ग्रंथि.... पढ़ लीजिये, प्रधान संपादक के.पी सिंह के साथ

स्त्री और दलितों से जुड़ी अपवित्रता ...

हमीरपुर जिले के मुस्करा खुर्द गांव में भाजपा की महिला विधायक के महिलाओं के लिए ...
जुमलेबाज नहीं क्रांतिद्रष्टा बनिये मोदी जी.... प्रधान संपादक के. पी सिंह

जुमलेबाज नहीं क्रांतिद्रष्टा बनिये ...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जुमलेबाजी की कला का वैसे भी कोई जबाव नही है। अपने ...
बड़ी देर कर दी मेहरबां आते-आते....प्रधान संपादक के.पी सिंह की कलम से

बड़ी देर कर दी मेहरबां आते-आते....प्रधान ...

उत्तर प्रदेश में चुनावी मानसून आ गया है। वैसे भी अटकलें है कि लोकसभा के चुनाव ...
बेचारे अंबानी कहें गरीबी क्या होती है यह तो वे ही जानते हैं, तो मोदी जी आपको कैसा लगेगा!

बेचारे अंबानी कहें गरीबी क्या होती ...

(EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH) राहुल गांधी राजनीतिक रणक्षेत्र में हथियार भांजने के शौकीन जरूर ...
राहुल से मुख्य प्रतिद्वंदता समझने की मोदी की भूल

राहुल से मुख्य प्रतिद्वंदता समझने ...

(EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH) तो क्या भाजपा गंभीरता पूर्वक यह मानती है कि अगर विपक्ष के भाग्य ...
लाखों ईमानदार स्वयं सेवकों वाले संघ की संतान सरकारें दागी क्यों

लाखों ईमानदार स्वयं सेवकों वाले संघ ...

(EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH) केंद्र के साथ-साथ देश के अधिकांश राज्यों में भी भाजपा की सरकारें ...

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।