किसान ! जान देने के बाद जान लेने की बारी

...

(editor-in-chief, K.P SINGH) अभी तक किसान जान दे रहे थे तो सत्ता के गलियारों में उनकी कीमत नहीं ...
योगी को फिर भी नहीं आता ताव...

योगी को फिर भी नहीं आता ताव...

(EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH) उत्तर प्रदेश में नौकरशाही इन दिनों कार्य कुशलता के लिए नहीं भ्रष्टाचार ...
आखिर पकड़ ही लिया चंद्रशेखर रावण को, देखो आ गया न रामराज्य

आखिर पकड़ ही लिया चंद्रशेखर रावण को, ...

(EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH) भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर रावण को हिमाचल प्रदेश के डलहौजी में गिरफ्तार ...
विपक्ष की महारैली को लेकर अभी तमाम ऊहा-पोह... बता रहे, प्रधान संपादक के.पी सिंह

विपक्ष की महारैली को लेकर अभी तमाम ...

27 अगस्त को पटना में संयुक्त विपक्ष की वृहद रैली आयोजित होने जा रही है। इस रैली ...
अमेठी राजघराने की शान में गुस्ताखी भारी पड़ रही गायत्री को

अमेठी राजघराने की शान में गुस्ताखी ...

समाजवादी पार्टी की सरकार में सुपर मिनिस्टर का दर्जा हासिल गायत्री प्रसाद प्रजापति ...
योगी के ग्राफ में और गिरावट का इंतजार, बीजेपी नेतृत्व लोकसभा चुनाव से पहले यूपी में कर सकता है फेर

योगी के ग्राफ में और गिरावट का इंतजार, ...

19 मार्च को मुख्यमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ ने शपथ ग्रहण की थी। उसके भी ...
वर्ण व्यवस्थावादी नजरिया योगी सरकार पर पड़ रहा भारी, प्रदेश में सामाजिक सदभाव हो सकता है तार-तार

वर्ण व्यवस्थावादी नजरिया योगी सरकार ...

सहारनपुर में असाध्य बनता जा रहा जातीय दंगा योगी सरकार की वर्ण व्यवस्थावादी दृष्टि ...
सजातीय गुंडागर्द अधिकारियों के लिए योगी सरकार के पास क्या वास्तव में है कोई इलाज

सजातीय गुंडागर्द अधिकारियों के लिए ...

(K.P SINGH, EDITOR-IN-CHIEF) योगी सरकार पर जातिगत पक्षपात का आरोप बहुत गहनता से तारी है। इसके ...
भीम आर्मी को भिंडरवाले की तरह प्रोजेक्ट करने की फिराक में तो नहीं भाजपा

भीम आर्मी को भिंडरवाले की तरह प्रोजेक्ट ...

सहारनपुर में ठाकुरों और दलितों के बीच छिड़ा संग्राम प्रदेश की राजनीति में चर्चा ...
चंबल में फूट रही नई सुबह की पौ... बता रहे, प्रधान संपादक के.पी सिंह

चंबल में फूट रही नई सुबह की पौ... बता रहे, ...

यह चंबल है बगावत और बलिदान की धरती, चंबल की तस्वीर का यह एक पहलू है। दूसरा पहलू ...

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।