बड़े भंडाफोड़ से क्यों कतरा रहे नसीमुद्दीन

...

बसपा में विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही हलचलें तेज हैं। पार्टी अस्तित्व ...
वीवीआईपी खात्मे की पहल, निशाने पर कौन ?...पढ़िए, प्रधान संपादक के.पी सिंह के साथ

वीवीआईपी खात्मे की पहल, निशाने पर कौन ...

भारतीय जनता पार्टी की सरकारों ने हाल में दो महत्वपूर्ण फैसले लागू किए हैं पहला ...
बसपा के सामने अस्तित्व का संकट, भाजपा ने कर ली है माया और आनंद को जेल भेजने की तैयारी

बसपा के सामने अस्तित्व का संकट, भाजपा ...

बहुजन समाज पार्टी फर्श से अर्श पर पहुंची थी जिसके बारे में यह कल्पना नहीं की गई ...
सीएम की राह आसान नहीं योगी आदित्यनाथ के लिए... प्रधान संपादक, के.पी सिंह की कलम से

सीएम की राह आसान नहीं योगी आदित्यनाथ ...

योगी आदित्यनाथ की उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में सफलतापूर्वक कार्य ...
किसकी शह पर मंत्री कर रहे हैं योगी की हुक्मउदूली का दुस्साहस... बता रहे, प्रधान संपादक के.पी सिंह

किसकी शह पर मंत्री कर रहे हैं योगी की ...

पार्टी विद ए डिफरेंस का नारा भाजपा के लिए लालकृष्ण आ़डवाणी के जमाने में ही अभिशाप ...
 राजनीति कोई मुलायम सिंह से सीखे... बता रहे, के.पी सिंह

राजनीति कोई मुलायम सिंह से सीखे... बता ...

समाजवादी पार्टी के भविष्य को लेकर मुलायम सिंह का पैंतरा गैरों के लिए कम उनके ...
कितने कदम चल पाएगा महागठबंधन... बता रहे हैं, प्रधान संपादक के.पी सिंह

कितने कदम चल पाएगा महागठबंधन... बता रहे ...

उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा दोनों ही महागठबंधन के रास्ते पर आ गये हैं लेकिन अभी ...
सरकार के शरणम् गच्छामि होकर समाजवाद की विरासत मजबूत करने का दावा

सरकार के शरणम् गच्छामि होकर समाजवाद ...

धर्म का रहस्यवादी रुख उन मनोविकारों के उत्प्रेरण का कारण सिद्ध हुआ है जिनसे ...
शिवपाल को 10 मिनट की मुलाकात में योगी आदित्यनाथ से क्या हो पाया हासिल... बता रहे, के.पी सिंह

शिवपाल को 10 मिनट की मुलाकात में योगी ...

(प्रधान संपादक, के.पी सिंह की कलम से ) मुलायम सिंह यादव के अनुज और समाजवादी पार्टी ...
मुलायम सिंह और एक जिम्मेदार पिता, प्रतीक को सेट करने का मोर्चा फतह करेंगे मुलायम: के.पी सिंह

मुलायम सिंह और एक जिम्मेदार पिता, प्रतीक ...

अंदरूनी घमासान का लावा फूट पड़ने की वजह से समाजवादी पार्टी एक बार फिर कुछ बात ...

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।