यह हेकड़ी मोदी को पड़ेगी भारी, कब तक सुरेश प्रभु की नालायकी को वे ढोएंगे

यह हेकड़ी मोदी को पड़ेगी भारी, कब तक ...

( EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH) भारतीय रेल सेवा में लोगों को मौत के सफर का अख्स दिखाई देने लगा है। ...
भाजपा में बार-बार दलित नेता क्यों हो रहे हैं मोहभंग का शिकार

भाजपा में बार-बार दलित नेता क्यों हो ...

( EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH)  सामाजिक समरसता की भाजपाई चादर के पैबंद झलके बिना नहीं रहते। दलित ...
स्वाधीनता दिवस और कृष्ण जन्माष्टमी किन आगत घटनाओं की सूचक

स्वाधीनता दिवस और कृष्ण जन्माष्टमी ...

( EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH) 2017 का 15 अगस्त इसलिए महत्वपूर्ण है कि एक ओर इस दिन स्वाधीनता की वर्षगांठ ...
क्या कड़ी कार्रवाई की परिभाषा बताएंगे सीएम योगी

क्या कड़ी कार्रवाई की परिभाषा बताएंगे ...

(EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH ) शुक्रवार को गोरखपुर मेडिकल कालेज में 48 घंटे के अंदर 30 बच्चों ...
सीएम के गृह नगर में मासूमों पर मौत का तांडव, इंद्रासन डोलने के बाद लीपापोती में जुटी सरकार

सीएम के गृह नगर में मासूमों पर मौत का ...

(EDITOR-IN-CHIEF, K.P SINGH ) शुक्रवार को खबर आई कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह नगर गोरखपुर ...
शरद यादव का पैंतरा :  सौ-सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली

शरद यादव का पैंतरा : सौ-सौ चूहे खाकर ...

जार्ज फर्नांडीज और शरद यादव से ज्यादा बड़ा पाखंडी कौन हो सकता है। गैर कांग्रेसवाद ...
गरीबी और बेरोजगारी ! जरूरत साहसिक पहल की... बता रहे, प्रधान संपादक के,पी सिंह

गरीबी और बेरोजगारी ! जरूरत साहसिक पहल ...

गरीबी और बेरोजगारी की समस्या उन्नत होती व्यवस्था और समाज के अस्तित्व के लिए ...
जातिगत अखाड़ेबाजी से चिथड़े-चिथड़े होती हिंदुत्व की छतरी

जातिगत अखाड़ेबाजी से चिथड़े-चिथड़े ...

(EDITOR-IN- CHIEF, K.P SINGH ) हिंदुत्व की डोर में सारी जातियों को बांधकर गैर धर्मावलम्बियों के ...
अपने कद को खतरा देख कड़े बोल बोलने को मजबूर प्रधानमंत्री मोदी

अपने कद को खतरा देख कड़े बोल बोलने को ...

आस्था जुनून पैदा करती है, अपने विश्वास की रक्षा के लिए मर मिट जाने का जुनून। ...
विधानसभा को उड़ाने की साजिश का मास्टर माइंड कौन

विधानसभा को उड़ाने की साजिश का मास्टर ...

(एडिटर- इन- चीफ, के.पी सिंह )  यूपी लगातार अभूतपूर्व घटनाओं को लेकर सुर्खियों ...

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।