राजनीति में भी भारी पड़ जाती पहलवानी, चरखा दांव के आगे पैंतरे बेमानी

राजनीति में भी भारी पड़ जाती पहलवानी, ...

(एडिटर-इन-चीफ, के.पी सिंह )  राजनीति के लिए पहलवान होना कोई विशेष योग्यता हो सकती ...
भ्रष्टाचार और काले धन से निजात के सब्जबाग में कितनी हकीकत कितना फसाना: के.पी सिंह

भ्रष्टाचार और काले धन से निजात के सब्जबाग ...

(एडिटर-इन-चीफ, के.पी सिंह)  भ्रष्टाचार के खिलाफ खांचाबंदी आसान नहीं है। नैतिक ...
पढ़िए, मोदी की नीयत पर सवाल उठने की वजहें क्या हैं?

पढ़िए, मोदी की नीयत पर सवाल उठने की वजहें ...

(एडिटर-इन-चीफ, के.पी सिंह )  सत्ता हमेशा भ्रष्ट होती है यह सर्वमान्य सूत्रवाक्य ...
नोटबंदी के साइड इफेक्ट से बेचैन पीएम मोदी ने आखिर ऐसा क्या कह दिया जिससे बात और गई उलझ

नोटबंदी के साइड इफेक्ट से बेचैन पीएम ...

(के.पी सिंह,एडिटर-इन-चीफ ) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के फैसले के कारण ...
उत्तर प्रदेश में महागठबंधन के शोशे का बुलबुला क्यों फूटा: एडिटर-इन-चीफ, के.पी सिंह

उत्तर प्रदेश में महागठबंधन के शोशे ...

बिहार की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में भाजपा के मुकाबले के लिए महागठबंधन बनाने का ...
उत्तर प्रदेश के नेताओं को क्यों हुआ सन्निपात: एडिटर-इन-चीफ, के.पी सिंह

उत्तर प्रदेश के नेताओं को क्यों हुआ ...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 500 व 1000 के नोट रद्द करने के फैसले के रातोंरात अचानक ...
मोदी ! दिलेर या पैंतरेबाज: एडिटर इन चीफ, के.पी सिंह

मोदी ! दिलेर या पैंतरेबाज: एडिटर इन चीफ, ...

मंगलवार की शाम अचानक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम संबोधन के द्वारा ...
जानिए, जबलपुर हाईकोर्ट ने ऐसा क्या कमेंट लिखा जो आज उत्तर प्रदेश की राजनीति को झकझोरने का बना कार

जानिए, जबलपुर हाईकोर्ट ने ऐसा क्या ...

(चीफ एडिटर, के.पी सिंह )  इंदौर के एक सांसद शायद 70 के दशक में थे जिनके खिलाफ दिल्ली ...
सिल्वर जुबली सम्मेलन के बाद सपा, मर्ज बढ़ता गया ज्यों-ज्यों दवा की: चीफ एडिटर, के.पी सिंह

सिल्वर जुबली सम्मेलन के बाद सपा, मर्ज ...

शनिवार को समाजवादी पार्टी की स्थापना का बहुप्रतीक्षित सिल्वर जुबली समारोह ...
अपनी फजीहत कराने में कांग्रेस को आ रहा है कौन सा मजा: चीफ एडिटर के.पी सिंह

अपनी फजीहत कराने में कांग्रेस को आ ...

कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के लिए अपने अभियान का श्रीगणेश मुख्यमंत्री के रूप ...

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।