सरकार के शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार व महिला सुरक्षा वादे पर सवाल उठाइये ...

By: jhansitimes.com
Aug 08 2017 11:48 am
180

14वीं लोकसभा के चुनाव में देश में लंबे- लंबे वादों से बनी मोदी सरकार तीन साल बाद भी जनता के अहम सवालों की जवाबदेही से कतरा रही है। मीडिया को अपने कंट्रोल में लेकर महत्वपूर्ण मुददों को दफनाया जा रहा है।

आज देश के कुछेक ईमानदार पत्रकार भी इस मुददे को उठाने से कतरा रहें है। कारण साफ है या तो उनकी हत्या कर दी जाती है या उनकी पैसों के दम पर क़लम ख़रीद ली जाती है। जिससे न चाहते हुए भी वो पंगु बन जाते है। आख़िर सत्ता का पावर कुछ ऐसा ही होता है।

आप किसी भी शहर के न्यूज़ पेपरों को उठा लीजिये रोजाना की तरह सरकार की भक्ति करते हुए दिखाई देंगे और न्यूज़ चैनलों का और भी बुरा हाल है, लगता है हम किसी लोकतांत्रिक देश में हैं ही नहीं। न्यूज़ चैनलों के हेड लाईनें सरकार की मंशा के अनुरूप लिखी जा रही है।

ठीक इन्हीं कारणों से देश के महत्वपूर्ण मुददे जानबूझकर दफनाये जा रहे है। कभी-कभी तो ऐसा लगता है जैसे देश के विपक्ष को सांप सूंघ गया हो। शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार व महिला सुरक्षा पर लिखना या बोलना अपनी जान जोखिम में डालने जैसा हो गया है।

14वीं लोकसभा के लिए चुनी गई सरकर अपनी कमजोरियों को छिपाने के लिए पूर्व की सरकारों का जोरदार विरोध करती रहती है। क्या सरकार के इन विरोधों के कारण देश के महत्वपूर्ण मुददे सुलझ जाएंगे?

बिल्कुल नहीं? जाति व धर्म की आड़ में आप जनता को बरगलाने का काम ही कर सकते है। आज सबका-साथ, सबका-विकास का नारा पूरी तरह झूठा साबित हो रहा है। सरकर के नुमाइंदे इस बात को भली भांति जानते है इसलिए देश को फ़र्जी राष्ट्रवाद की ओर ले जा रहे है।सरकार के इस रवैये से देश के दलित, आदिवासी, ओबीसी व अल्पसंख्यक समुदाय अपने आपको कमजोर समझ रहा है।

आज देश में बेरोजगारी अपने पूरे चरम पर है, रोजगार मिलना काफ़ी मुश्किल हो गया है। प्राइवेट स्वास्थ्य सेवाएं बहुजन समाज के दायरे से बहुत ऊपर निकल गयीं है और सरकारी अस्पतालों की स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरफ चरमराई हुईं हैं। वहीं शिक्षा का व्यापारीकरण करके दलितों, आदिवासियों, ओबीसी व अल्पसंख्यक समुदाय को शिक्षा से वंचित किया जा रहा है।

देश के सरकारी स्कूलों में सबसे ज्यादा बहुजन समाज के बच्चें पढ़ते है जिसे मिड डे मील के चक्कर में अपंग बनाया जा रहा है।जो सरकर की बहुजन समुदाय को शिक्षा से वंचित रखने की बहुत बड़ी सोची समझी रणनीति का हिस्सा मात्र है।

वहीं दूसरी ओर कॉलेज व यूनिवर्सिटी में भी शिक्षा का भगवाकरण तो किया ही जा रहा है, वहीं पाठ्यक्रम भी बदले जा रहें  हैं ये भी किसी आपातकाल से कम नहीं है।

ग़रीबी, महिला सुरक्षा, अपराध, कानून व्यवस्था के बारे में तो आज कोई अखबार लिखना ही नहीं चाहता है, टीवी चैनलों पर सिर्फ एक विशेष धर्म को चमकाने का लाइव टेलीकास्ट किया जा रहा है। जो भारत जैसे धर्म निरपेक्ष गणराज्य में रह रहे बहुजन समाज के बहुत बड़े हिस्से के साथ धोखा है।

देखिए, बहुजन समाज का एक छोटा सा हिस्सा होने के नाते हमनें तो अपना दृष्टिकोण आप सबसे शेयर कर दिया। अब आप सब अपने नजरिये से अच्छे- बुरें का अंदाजा लगते रहिये और प्रत्यक्ष- अप्रत्यक्ष रूप से बहुजन समाज को हर तरह से मजबूत करने की सांझा जिम्मेदारी उठाइये...

लेखक - अशोक बौद्ध


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।