गुजरात में गरजे राहुल गांधी: मोदी के GST का मतलब, गब्बर सिंह टैक्स

By: jhansitimes.com
Oct 23 2017 10:22 pm
142

गांधीनगर। एक महीने में तीसरी बार गुजरात दौरे पर पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गांधीनगर में आज एक जनसभा को संबोधित किया । यहां वे ओबीसी सम्मेलन में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने मोदी सरकार पर कई मुद्दों पर तंज कसे। गुजरात में 30 हजार लोग रोजगार ढूंढने रोज निकलते हैं. लेकिन नरेंद्र मोदी सरकार सिर्फ 400 लोगों को रोजगार देती हैं| जीएसटी का जिक्र करते हुए कांग्रेस वाइस प्रेसिडेंट ने कहा कि इनका जो GST है, ये GST नहीं, ये है गब्बर सिंह टैक्स है।

राहुल गांधी ने कहा कि गुजरात में आज एक भी ऐसा शख्स नहीं है, जो किसी ना किसी आंदोलन में शामिल ना हो। पूरा प्रदेश आंदोलन में लगा हुआ है। क्यों हो रहा ये? इसलिए, क्योंकि 22 साल में गुजरात में जनता की नहीं, कुछ कारोबारियों की सरकार चली है। इसलिए गुजरात का समाज सड़कों पर है। अपनी लड़ाई लड़ रहा है।

 मंच पर बैठे हुए अल्पेश ठाकोर की ओर इशारा करके हुए उन्होंने कहा कि आप इस जनता को शांत रहने के लिए कहते हैं कि लेकिन अब यह शांत नहीं रहेंगे..... राहुल गांधी ने कहा कि इस आवाज को दबाया नहीं जा सकता है और न खरीदा जा सकता है.... यह गुजरात की आवाज है इसे  पूरी दुनिया के पैसे से नहीं खरीदा नहीं जा सकता है... कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि गांधी जी की आवाज को भी अंग्रेजों ने दबाने की कोशिश की थी.... लेकिन उन्होंने सुपरपावर को भगा दिया. मोदी जी... इसकी कोई कीमत नहीं है. 

राहुल ने कहा कि मोदी जी मन की बात कहते हैं कि लेकिन आज में मोदी जी को गुजरात की दिल की बात कहना चाहता हूं कि गुजरात के युवा शिक्षा चाहते हैं.... गुजरात के विश्वविद्यालयों को उद्योगपतियों के हाथों सौंप दिया है... गुजरात कोे युवा 10-15 लाख रुपए शिक्षा के लिए नहीं दे पाते हैं. 

गौरतलब है जब यहां छोटे कारोबारी कर्जा माफी की बात करते हैं, तो कहा जाता है कि यहां सिर्फ करोड़पतियों का कर्जा माफ किया जा सकता है। आपने नैनो के लिए टाटा को पैसा दिया। किसानों की बिजली और पानी दिया। मोदी जी मैं आपसे पूछना चाहता हूं कि आपने टाटा को 35 हजार करोड़ करोड़ रुपए दिया। कितनी नैनो बनीं। मोदी जी ने कहा था कि ना खाउंगा और ना खाने दूंगा। अब देखिए, यहां हमारे मित्र हैं, दुकानें होंगी।

राहुल गांधी ने कहा कि टाटा को नैनो के लिए 35 हजार करोड़ रुपया दिया उससे किसानों का कर्ज माफ हो सकता था. लेकिन मोदी जी बताएं कहां कि उन पैसों से कितनी नैनो बनीं.  वहीं अमित शाह के बेटे का मुद्दा उठाते हुए कहा था कि पीएम मोदी ने अमित शाह के बेटे के बारे में एक भी शब्द नहीं बोला. मोदी जी कहते थे कि न खाउंगा, न खाने दूंगा...अब तो खिलाना शुरू कर दिया. जेटली जी और मोदी जी कहते हैं कि कांग्रेस की बात जीएसटी पर नहीं सुनेंगे. ..जीएसटी लागू कर दीजिए... लेकिन मैं आपको बताना चाहता हूं कि इनका जो जीएसटी है यह जीएसटी नहीं.... यह 'गब्बर सिंह टैक्स' है..पूरे देश की इकॉनमी को मोदी जी ने चौपट कर दिया है.. जीएसटी कांग्रेस की सोच है और इसके पीछे सोच समझिए. 

मेक इन इंडिया और स्टाटअर्प इंडिया फेल हो गया 

पूरे हिंदुस्तान में मेक इन इंडिया और स्टाटअर्प इंडिया फेल हो गया। कितनी कंपनी बंद हो गई। जय शाह की कंपनी की 50 हजार से शुरू हुई। 16 हजार गुना ज्यादा कमा लिया। मोदी जी के मुंह से एक शब्द नहीं निकला लेकिन अब तो बोल दीजिए।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।