शानदार वापसी के साथ रवि शास्त्री बने हेड कोच, जहीर गेंदबाजी के कोच और द्रविड़ बल्लेबाजी सलाहकार

By: jhansitimes.com
Jul 12 2017 08:19 am
446

नई दिल्‍ली: मंगलवार रात भारतीय क्रिकेट के मुख्य पटल पर पूर्व क्रिकेटर रवि शास्त्री की उस वक्त शानदार वापसी हुई जब उनको टीम का मुख्य कोच नियुक्त किया गया है|  एक साल पहले उनको बड़े ही अप्रत्याशित ढंग से बाहर जाना पड़ा था. शास्त्री पूर्व स्पिन गेंदबाज अनिल कुंबले का स्थान लेंगे जिन्होंने कप्तान विराट कोहली के साथ मतभेदों के बाद पिछले दिनों कोच का पद छोड़ दिया था. कुंबले और कोहली के मतभेदों की खूब चर्चा हुई थी. 

 बीसीसीआई के कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना ने बताया कि रविशंकर जयाद्रिथा शास्त्री (रवि शास्त्री) टीम इंडिया के नए हेड कोच होंगे। पूर्व तेज गेंदबाज जहीर खान को टीम इंडिया में बोलिंग कोच की भूमिका सौंपी गई है। बीसीसीआई ने यह भी स्पष्ट किया है कि रवि शास्त्री 2019 वर्ल्ड कप तक टीम इंडिया के कोच रहेंगे। इससे पहले मीडिया में शाम को भी रवि शास्त्री को कोच बनाने का ऐलान किया गया था, लेकिन बीसीसीआई ने इस खबर का खंडन कर दिया था।

भारतीय टीम की गेंदबाजी खासकर पेस बैट्री को मजबूत बनाने के मकसद से पूर्व तेज गेंदबाज जहीर खान को गेंदबाजी का कोच बनाया गया है. किसी समय टीम इंडिया की ‘दीवार’ रहे द्रविड़ को बल्लेबाजी सलाहकार बनाया गया है, हालांकि वह कुछ खास विदेशी दौरों पर ही वह इस भूमिका का निर्वहन करेंगे. 

बीसीसीआई के कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना ने इस नियुक्ति की पुष्टि करते हुए कहा, "क्रिकेट सलाहकर समिति की सिफारिश पर हमने रवि शास्त्री को मुख्य कोच नियुक्त करने का फैसला किया है जबकि जहीर खान को दो साल के लिए गेंदबाजी कोच नियुक्त किया गया है." शास्त्री तीसरी बार अधिकारी के रूप में भारतीय क्रिकेट टीम के साथ जुड़े हैं. इससे पहले वह 2007 में बांग्लादेश दौरे के दौरान क्रिकेट मैनेजर थे और इसके बाद अगस्त 2014 से जून 2016 तक उन्हें टीम निदेशक बनाया गया जिस दौरान भारत ने श्रीलंका के खिलाफ उसकी सरजमीं पर टेस्ट सीरीज जीती और 2015 विश्व कप तथा 2016 विश्व टी20 के सेमीफाइनल में जगह बनाई.

टीम इंडिया के नए कोच के चयन को लेकर आज दिनभर गहमागहमी चलती रही. दिन में पहले रवि शास्त्री को टीम इंडिया का कोच बनाए जाने की खबर आई थी लेकिन देर शाम बीसीसीआई की ओर से इसका खंडन आ गया. बीसीसीआई सचिव अमिताभ चौधरी ने साफ किया कि नए कोच को लेकर कोई फैसला नहीं हुआ है. जैसे ही कोई फैसला लिया जाएगा, जानकारी दी जाएगी. हालांकि देर रात रवि शास्त्री को टीम इंडिया का हेड कोच और जहीर खान को बॉलिंग कोच नियुक्त किए जाने की बीसीआई ने पुष्टि कर दी. विदेशी दौरों के लिए राहुल द्रविड़ बैटिंग कंसल्टेंट नियुक्त किए गए हैं.  

गौरतलब है कि मंगलवार को दोपहर बाद रवि शास्‍त्री को टीम इंडिया का कोच चुने जाने की खबरें आईं. इन मीडिया रिपोर्ट्स के बाद बीसीसीआई सचिव चौधरी ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस बुलाकर बोर्ड का रुख स्‍पष्‍ट करते हुए कहा कि कोच नियुक्ति संबंधी खबरें सही नहीं हैं. क्रिकेट सलाहकार समिति के तीन दिग्‍गज सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्‍मण ही इस संबंध में कोई फैसला लेंगे और चयन हो जाने के बाद मीडिया को जानकारी दी जाएगी.

भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच के चयन में एक और मोड़ आ गया था, जब सर्वोच्च अदालत द्वारा भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का कामकाज देखने के लिए बनाई गई प्रशासकों की समिति (सीओए) ने बोर्ड से कहा था कि राष्ट्रीय टीम के मुख्य कोच के नाम की घोषणा आज ही (मंगलवार को) की जाए. सूत्रों की मानें तो सीओए मानना था कि कोच के नाम की घोषणा के लिए किसी का इंतजार नहीं किया जाए और क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) अपना फैसला बोर्ड को बताए.

गौरतलब है कि पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण की तीन सदस्यीय सीएसी ने सोमवार को कोच चयन को नाटकीय मोड़ देते हुए अपना फैसला रोक लिया था और कहा था कि वह टीम के कप्तान विराट कोहली से बात करने के बाद कोच के नाम का ऐलान करेगी.

सीएसी ने सोमवार को पांच लोगों के इंटरव्यू लिए थे. इन पांच लोगों में रवि शास्त्री, वीरेंद्र सहवाग, रिचर्ड पायबस, लालचंद राजपूत और टॉम मूडी शामिल रहे.

गांगुली ने सोमवार को कोच पद के लिए इंटरव्यू लेने के बाद कहा था, "हमने फैसला किया है कि हम कुछ समय के लिए कोच पद के नाम की घोषणा को रोकेंगे. हमें इसके लिए कुछ और दिनों की जरूरत है और साथ ही हम कुछ संबंधित लोगों से बात करना चाहते हैं. इसके बाद हम अंतिम फैसला लेते हुए कोच के नाम का ऐलान करेंगे. हम इस समय किसी भी तरह की जल्दबाजी में नहीं हैं."

दरअसल, सीओए के अध्यक्ष विनोद राय हैं और इसके सदस्यों में विक्रम लिमिए और डायना इडुल्जी शामिल हैं. कोच की दौड़ में शास्त्री का नाम सबसे आगे माना जा रहा था. इसकी वजह कप्तान कोहली और शास्त्री के संबंध थे. कोहली, शास्त्री के पक्ष में खड़े थे.

गौरतलब है कि अनिल कुंबले ने कप्तान कोहली से मतभेद की बात स्वीकार करते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. उनका कार्यकाल 18 जून को संपन्न हुए आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी तक का था, बोर्ड ने विंडीज दौरे तक उनके कार्यकाल को विस्तार दिया था, लेकिन, कुंबले ने अचानक इस्तीफा दे दिया और विंडीज दौरे पर भारतीय टीम के साथ नहीं गए.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।