बाल विवाह पर झाँसी जिला प्रोबेशन अधिकारी का बड़ा बयान, पढ़ लीजिये

By: jhansitimes.com
Apr 17 2018 11:54 am
595

झाँसी। बाल विवाह कानूनन अपराध है। इसके रोकथाम के लिए सरकार प्रयासरत है। फिर भी रूढि़वादी परंपराओं के चक्कर में पडक़र लोग अपने बच्चों का बचपन ही खराब नहीं करते, उनका पूरा जीवन दांव पर लगा देते हैं। इसके खिलाफ वृहद स्तर पर जिला प्रोबोशन अधिकारी ने अभियान चलाने का निर्णय लिया है। 

मालूम हो कि रूढि़वादी परंपराओं के कारण समाज के कुछ लोग विवाह योग्य पुत्र-पुत्रियों का विवाह अक्षय तृतीय जैसे पर्व पर कर देते हैं। 18 अप्रैल को अक्षय तृतीया का पर्व होने के कारण कई सामाजिक, धर्माथ न्यास, समाजसेवी बड़े स्तर पर सार्वजनिक विवाह समारोह व कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं। जिला प्रोबेशन अधिकारी नंदलाल ने ऐसे आयोजकों से अपील की है कि इस सामाजिक पर्व पर किसी प्रकार का बाल विवाह न होने दें और न ही बाल विवाह जैसी कुरीति में शामिल हों। बाल विवाह के दुष्परिणाम हमेशा सामने आए हैं, जिनमें शिशु व मातृ मृत्यु दर में वृद्धि होना पाया जाता है।

उन्होंने बताया कि बाल विवाह कानून अपराध है। 21 वर्ष से कम का लडक़ा और 18 वर्ष से कम की लडक़ी होने पर बाल विवाह अधिनियम 2006 के अंतर्गत पंद्रह दिन का साधारण कारावास व 1000 रुपए का अर्थदण्ड लगाया जाता है। या फिर दोनों सजाए हो सकती हैं। साथ ही पॉक्सो ऐक्ट के तहत भी मामला दर्ज किया जा सकता है। यदि लडक़े की उम्र 21 वर्ष से अधिक हो और वह 18 वर्ष की आयु से कम की लडक़ी से शादी करता है तो उसे तीन माह की कैद व अर्थदण्ड की सजा हो सकती है। ऐसे विवाह को कराने वाले अभिभावक व आयोजकों को भी सजा का प्रावधान है। 

जिला प्रोबेशन अधिकारी ने बताया कि अक्षय तृतीया के दिन महिलाएवं बाल कल्याण विभाग जनपद में बाल विवाह की रोकथाम के लिए युद्धस्तर पर अभियान चलाएगा। यदि किसी भी व्यक्ति को बाल विवाह संबंधी जानकारी हो तो वह निकट के थाने में, 181 महिला हेल्प लाइन, 100 नंबर, 1098 चाइल्ड हेल्प लाइन एवं बाल संरक्षण अधिकारी अभिषेक मिश्रा के मोबाइल नंबर 9453666106 पर सूचना दे सकता है। सूचना प्राप्त होते ही सकारात्मक कार्रवाई की जाएगी। 

 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।