पढ़ लीजिये, भारत के इन 10 बदनाम विवादित धर्मगुरुओं की अनोखी करतूतें

By: jhansitimes.com
Aug 27 2017 09:40 am
1086

धर्म भारत की संस्कृति का अहम हिस्सा रहा है लेकिन धार्मिक होने की इसी वजह ने आज देश के लोगों को अंधविश्वासी बना दिया है। आज देश में अगर आप एक गरीब से भी धर्म के नाम पर कुछ मांगेंगे तो वह ना नहीं करेगा। धर्म और बाबाओं के नाम पर भारत में किसी को लूटना सबसे आसान है। यहां के बाबाओं ने भगवान केनाम का सहारा लेकर कई बार हमारे ऋषियों के पवित्र कार्यों को अपमानित भी किया है।

राधे मां

रातों रात प्रसिद्धी और ऎश्वर्य पाने वाली राधे मां का जीवन विवादों से घिरा रहा है। वे केवल मात्र सांसारिक विवादों में ही नहीं घिरी बल्कि जूना अखाड़े द्वारा उन्हें महामंडलेश्वर की उपाधि देना भी विवादों में आ गया। उन पर लगाए गए आरोप सही पाए जाने पर अखाड़े ने उनसे महामंडलेश्वर की उपाधि वापिस भी ले ली।

निर्मलजीत सिंह नरूला

वर्ष 1981 में निर्मलजीत सिंह नरूला ने निजी व्यवसाय आरंभ किया। एक के बाद एक कई व्यवसाय बदलने पर भी उन्हें सफलता नहीं मिली तो उन्होंने अपने आप को संत घोषित कर स्वयं को निर्मल बाबा नाम दिया। उन्होंने निर्मल दरबार आरंभ किया इसके बाद से पुलिस में उनके खिलाफ अवैध रूप से धन ठगने की सूचना आने लगी। वह निर्मल दरबार में अपनी दिव्य दृष्टि से लोगों की समस्याएं हल करने लगे। यदि प्रॉब्लम सॉल्व हो जाती तो वह लोगों से 10 फीसदी हिस्सा लेते।

आसाराम बापू

नाबालिग लड़की से रेप के मामले में जेल की सजा काट रहे आसाराम बापू के खिलाफ कई आपराधिक मामले दर्ज हैं। उनके खिलाफ गैरकानूनी रूप से जमीन हथियाने, तंत्र-मंत्र के लिए बच्चों की हत्या करने, रेप करने सहित अन्य कई मामलों में पुलिस जांच कर रही है।

स्वामी नित्यानंद

सेक्स टेप स्कैंडल से विवादों में आए स्वामी नित्यानंद बेंगलौर-मैसूर हाइवे पर नित्यानंद ध्यानदीपम आश्रम चलाते हैं। इस स्कैंडल में वह दक्षिण भारतीय अभिनेत्री रणजीता के साथ आपत्तिजनक स्थिति में दिखाई दिए जिसके बाद उनके समर्थकों ने खासा हंगामा किया।

स्वामी भीमानंद

विवादित संत स्वामी भीमानंद का नाम देश भर में व्‍यापक स्‍तर पर सेक्‍स रैकेट चलाने के बाद सामने आया। 1997 में उसे लाजपत नगर में पहली बार गिरफ्तार किया गया था। जब वह जेल से रिहा हुआ तो खुद को वह साई बाबा का शिष्य बताने लगा। उसने कुछ सालों में ही करोड़ रुपए बना लिए थे। अभी भी देश में कई और बाबा हैं जो धर्म की आड़ में न केवल गैर कानूनी काम कर रहे हैं बल्कि आम लोगों भाक्ति और श्रद्धा के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

बाबा गुरमीत राम रहीम

बाबा राम रहीम यूं तो अपने भक्‍तों के बीच सम्‍मान की नजर से देखें जाते हैं लेकिन कभी अपने फिल्‍मी अवतार, तो कभी कानूनी मामलों में उलझ जानें के चलते विवादों में रहे हैं। उन पर यूं तो कई प्रकार के आरोप लगे हैं, कभी आश्रम में रह रहे लोगों की नसबंदी कराने, तो कभी कुछ ने उनके चरित्र पर भी सवाल उठाए हैं। पंचकुला की सीबीआई अदालत में यौन उत्‍पीड़न से जुडें एक मामलें में भी केस चल रहा है। डेरा सच्‍चा सौदा के प्रमुख बाबा गुरमीत राम रहीम पिछले दिनों अपनी फिल्‍म एमएसजी (मैंसेंजर ऑफ गॉड ) को लेकर भी चर्चा में आए थे।

ओशो रजनीश

ओशो उन लोगों में शामिल थे जिनसे अमरीका के भक्त लोग डरते था। उन्होंने सभी धर्मो का खंडन करते हुए एक अलग ही पंथ चलाया था जिसने कई अमेरिकियों ने पसंद किया। संभोग से समाधि की ओर जैसी पुस्तकें लिख कर चर्चा में आए ओशो रजनीश का विवादों से गहरा नाता रहा। उन पर खुला व्यभिचार करने, अपने अमरीकी आश्रम में समर्थकों की हत्या का प्लान रचने जैसे कई आरोप लगे।

सत्य साईं बाबा

अपने आप को शिरड़ी के साईं बाबा का अवतार बताने वाले सत्य साईं बाबा भी आजीवन विवादों में घिरे रहे। उन पर हाथ की सफाई से विभूति लाना, घड़ी, नैकलेस आदि पैदा करने के आरोप लगे हालांकि उन्होंने इन पर चुप्पी साधी रही। सत्य साईं द्वारा स्थापित किए गए आश्रम की 126 देशों में शाखा है जिसके द्वारा क ाफी फ्री हॉस्पिटल, क्लिनिक चलाए जाते हैं।

चन्द्रास्वामी

एक मामूली कर्मचारी से शुरूआत कर विश्व की टॉप हस्तियों में एक बनने वाले चन्द्रास्वामी का जीवन भी काफी विवादग्रस्त रहा। एक तांत्रिक के रूप में विख्यात चन्द्रास्वामी सबसे ज्यादा तब चर्चा में आए जब उनके आश्रम पर इंकम टैक्स की रेड पड़ी और वहां पर आम्र्स डीलर अदनान खागोशी के 11 मिलियन डॉलर के ओरिजिनल ड्रॉफ्ट मिले।

बाबा रामपाल

63 साल का यह ठगी बाबा पिछले कई सालों से मासूम जनता को बहकाकर उनसे गलत काम करवाता था। यही नहीं, रामपाल अपने आश्रम में कई महिलाओं और बच्चों को कैद करके रखता था। अपने आश्रम से कई गैरकानूनी कामों को अंजाम देने वाला रामपाल आज पुलिस की गिरफ्त में है। कानून से खुद को उपर मानले वाला रामपाल पर 2006 में अपने समर्थकों द्वारा रोहतक के एक गांव के लोगों पर गोली चलावने का आरोप है। इस घटना में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और कई लोग घायल भी हुए।

अगर ऐसे ही हालात रहे हमारे देश के तो आप ही बताइये भला क्या होगा हमारे देश का? क्योंकि ये बाबा लोग भक्ति और श्रद्धा के नाम पर लोगों की इज्जत और पैसे दोनों लूटते हैं लेकिन फिर भी हमारे देशवासी भाई ऐसे लोगों के बहकावे में आ जाते हैं।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।