Rio 2016 : हॉकी में भारतीय टीम ने अर्जेंटीना को 2-1 से दी शिकस्त

By: jhansitimes.com
Aug 09 2016 09:53 pm
377

रियो ओलिंपिक में हॉकी- पूल B के मैच में भारतीय पुरुष टीम ने अपने तीसरे लीग मैच में अर्जेंटीना को 2-1 से हरा दिया. भारत इस जीत के साथ अपने ग्रुप में दूसरे स्थान पर पहुंचे गया है. दो बार की ओलिंपिक चैंपियन जर्मनी ग्रुप में पहले स्थान पर है. इस ग्रुप की शीर्ष 4 टीमें क्वार्टरफाइनल खेलेंगी. भारत ने टूर्नामेंट में अभी तक 3 मैच खेले हैं, जिनमें से उसे दो में जीत (आयरलैंड और अर्जेंटीना के खिलाफ) मिली है और जर्मनी से 1-2 से हार का सामना करना पड़ा था.

 

चौथे और अंतिम क्वार्टर में अर्जेंटीना ने दबाव बनाया, लेकिन भारतीय डिफेंडरों ने उसे नाकाम कर दिया. आयरलैंड के खिलाफ 8 पेनल्टी कॉर्नर लुटा देने वाली भारतीय टीम ने अर्जेंटीना को भी 5 पेनल्टी कॉर्नर दे दिए. क्वार्टरफाइनल में पहुंचने के लिए भारत को यह मैच जीतना जरूरी था, क्योंकि अभी तक वह अपने पूल में चौथे नंबर पर थी.

 

चौथे क्वार्टर यानी आखिरी के 15 मिनट के खेल में में अर्जेंटीना ने दबाव बनाने की कोशिश की. वह इसमें सफल भी हो गई, जब फॉरवर्ड गोन्जालो पीलट ने फील्ड गोल ठोककर स्कोर 1-2 कर दिया. इसके बाद तो उत्साहित अर्जेंटीना ने हमलों की बाढ़ ला दी और आखिरी के 7 मिनट में लगातार दो पेनल्टी कॉर्नर हासिल कर लिए. हालांकि भारतीय टीम भाग्यशाली रही कि कोई गोल नहीं हुआ. कप्तान श्रीजेश ने दोनों बार खूबसूरत बचाव किए. भारतीय कोच भी परेशान दिखे, क्योंकि उनको पिछले दो मैच में अंतिम समय में टीम के बिखरने से चिंता हो रही थी. हो भी क्यों न भारत ने एक बार फिर विरोधी को 5 पेनल्टी कॉर्नर दे दिए. हालांकि भारत ने आखिरी के 3 सेंकेंड में जर्मनी से हार से सबक लेते हुए गोल नहीं होने दिया.

 

 

 

तीसरे क्वार्टर में मैच के 35वें मिनट में कोठाजीत सिंह ने भारत के लिए टूर्नामेंट का पहला फील्ड गोल किया. उन्होंने रमनदीप सिंह के पास पर यह गोल किया. गौरतलब है कि भारत ने ओलिंपिक में अभी तक जितने गोल भी किए हैं , वह सब पनेल्टी कॉर्नर से आए हैं. फील्ड गोल के नाम पर उसके पास कुछ भी नहीं है. ऐसा नहीं है कि भारत ने मूव अच्छे नहीं बनाए, लेकिन वह उन्हें गोल में नहीं बदल पाया. तीसरे क्वार्टर में भारत ने एक के बाद हमले करके अर्जेंटीना की रक्षापंक्ति को खासा परेशान किया.

 

दूसरे क्वार्टर में अर्जेंटीना टीम बदली-बदली नजर आई और भारत पर कई हमले किए, लेकिन बीच में मैच को धीमा कर दिया, फिर अचानक ही हमला बोल दिया और एक बार फिर भारतीय गोलकीपर श्रीजेश बमुश्किल ही रोक पाए.भारत की ओर से रमनदीप सिंह ने काउंटर अटैक किया और अच्छा मूव बनाया, लेकिन गोल नहीं कर पाए. भारतीय रक्षापंक्ति ने अच्छा खेल दिखाया और विरोधी टीम के हमलों को कई बार नाकाम किया. दूसरे क्वार्टर की समाप्ति तक भारत ने 1-0 की बढ़त बरकरार रखी. इसमें भारत का खेल मिलाजुला रहा. अब उसे जर्मनी के खिलाफ की गई गलती से बचना होगा. भारत के मनप्रीत सिंह को यलो कार्ड भी दिखाया गया. ऐसे में उन्हें सावधान रहना होगा.

 

भारत ने अर्जेंटीना पर शुरू से ही आक्रमण किया और पहले क्वार्टर के 8वें मिनट में पहला पेनल्टी कॉर्नर हासिल कर लिया, लेकिन अर्जंटीना ने उस नाकाम कर दिया. फॉर्म में चल रहे रुपिंदर पाल सिंह ने करारा शॉट लगाया, लेकिन विरोधी टीम के गोलकीपर ने खूबसूरती से उसे रोक लिया. रुपिंदर की ड्रैग फ्लिक के नाकाम रहने के बाद भारत ने दूसरा पेनल्टी कॉर्नर भी ले लिया, जिसे चिंगलेनसाना सिंह ने गोल में तब्दील करके भारत को 1-0 की बढ़त दिला दी. पहले क्वार्टर के आखिरी मिनट में भारत गोल खाते-खाते रह गया, जब अर्जेंटीना के फॉरवर्ड मर्नेट ब्रूनेट ने करारा शॉट लगाया और गेंद गोलपोस्ट से टकरा बाहर चली गई, जबकि भारतीय कप्तान और गोलकीपर श्रीजेश पूरी तरह चूक गए थे.

 

भारत की ओर से रुपिंदर पाल सिंह और वीआर रघुनाथ ने अभी तक अच्छा प्रदर्शन किया है. रुपिंदर के नाम जहां दो मैचों में 3 गोल हैं, वहीं रघुनाथ के नाम दो मैचों में एक गोल है.

 

गौरतलब है कि भारतीय पुरुष हॉकी टीम का रियो ओलिंपिक में अब तक प्रदर्शन काफी हद तक संतोषजनक रहा है. पहले मैच में टीम ने आयरलैंड पर 3-2 की जीत दर्ज की थी, जबकि दूसरे मैच में जर्मनी के हाथों अंतिम क्षणों में 2-1 से निराशाजनक हार का सामना करना पड़ा था.


Tags:
RIO2016
comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।