शिवराज सरकार की शर्मनाक तस्वीर, बेटे को गठरी में बांध अस्पताल पहुंचा पिता, क्योंकि...

By: jhansitimes.com
Jun 15 2017 12:21 pm
215

ग्वालियर: मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की शिवराज सरकार  में स्वास्थ सेवाओं की पोल खोलने के लिए ग्वालिओं की ये तस्वीर ही काफी है | अंचल के सबसे बड़े अस्पताल जेएएच के ट्रॉमा सेंटर में घायल बेटे को भर्ती कराने पहुंचे पिता को स्ट्रेचर न मिलने से बेटे को फट्टी (प्लास्टिक की बोरियों को सिलकर बनी) में बांधकर भर्ती के लिए ले जाना पड़ा। सालाना 9 करोड़ के बजट वाले जेएएच में बुधवार को यह शर्मनाक वाकया इसलिए हुआ क्योंकि घायल युवक के पिता कैलाश सिंह निवासी कौंथर मुरैना के पास स्ट्रेचर के बदले जमा कराने के लिए 100 रुपए नहीं थे।

कौंथर निवासी मुकेश (30) का दिमागी बुखार के कारण मानसिक संतुलन गड़बड़ा गया था। घर वाले उसे इलाज के लिए ग्वालियर ला रहे थे तभी सुबह शौच जाते समय कुएं में गिरने से वह घायल हो गया। उसे पहले मुरैना जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालत गंभीर होने पर जेएएच भेजा गया था। जहां कहा गया कि अापका मरीज चलने में असमर्थ है, उसके लिए स्ट्रेचर चाहिए तो 100 रुपए जमा कराना होंगे। 

उन्होंने स्ट्रेचर की तलाश की तो गार्ड ने कहा- कैजुअल्टी से ले आओ। वह कैजुअल्टी पहुंचे तो कर्मचारी बोला 100 रुपए जमा कराओ जब स्ट्रेचर लौटाने आओगे तो 100 रुपए वापस ले जाना। कैलाश बोले, मेरे पास 10 रुपए भी नहीं हैं, 100 रुपए कहां से लाऊं?

भर्ती का पर्चा बनवाने के लिए भी कैलाश से 100 रुपए जमा कराने को कहा गया। उन्होंने लाचारी जताई तो कर्मचारी बोला- सीएमओ से लिखवा लाओ। कैलाश फिर ट्रॉमा पहुंचे और डॉक्टर ने पर्चे पर फ्री लिखकर दिया तब जाकर भर्ती का पर्चा बना।

स्ट्रेचर के लिए 100 रुपए जमा कराने को कहा था। मेरे पास पैसे नहीं थे। ऐसे में क्या करता? मजबूरन फट्टी में बांधकर बेटे को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराना पड़ा। मेरे पास दीनदयाल कार्ड है जो भूल आया था।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।