यूपी में पत्रकारिता खतरे में, थानेदार की गुंडई, पत्रकार को घसीट-घसीटकर बेरहमी से पीटा, पिलाई पेशा

By: jhansitimes.com
Jun 12 2019 03:52 pm
1287

उत्तर प्रदेश  के शामली जनपद में जीआरपी पुलिस की गुंडागर्दी का लाइव वीडियो सामने आया है...जहाँ पर एसओ जीआरपी राकेश कुमार ने न्यूज़24 चैनल के पत्रकार की जबरदस्त पिटाई की है...दबंग एसओ ने अपने छः अन्य पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर थप्पड़ों व घुसो से पत्रकार को जबरदस्त तरीके से पीटा है...इतना ही नहीं पत्रकार को जबरन पेशाब भी पिलाई...पीड़ित पत्रकार का नाम अमित शर्मा है जो शामली जनपद में न्यूज़24 न्यूज़ चैनल में बतौर रिपोर्टर के कार्य करता है...
घटना उस समय की है जब पीड़ित पत्रकार अमित शर्मा को ट्रैन डिरेल होने की सूचना मिली...जिसकी सूचना पर पत्रकार अमित शर्मा तत्काल मौके पर पहुँचे ओर हादसे की खबर कवरेज करने लगे...जब अमित शर्मा अपना कैमरा चला रहे थे उसी दौरान एसओ राकेश कुमार भी मौके पर आ गए और खबर कवरेज करने का विरोध करने लगे...और देखते ही देखते एसओ राकेश कुमार का पारा सातवे आसमान पर चढ़ गया और एसओ ने अमित शर्मा के साथ अभद्र व्यवहार करते हुए उसके कैमरे पर हाथ मार दिया...और मारपीट करना शुरू कर दिया...जिसमे पत्रकार अमित शर्मा का कैमरा टूट गया...लेकिन दबंग एसओ यही नही रुको उन्हें अपने अन्य छः पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर पत्रकार को घेर लिया और पत्रकार अमित पर जानलेवा हमला कर दिया...दबंगों ने पत्रकार को जान से मारने की नीयत से एक के बाद एक कई थप्पड़ जड़ दिए और लात घुसो करीब 500 मीटर तक पत्रकार को बुरी तरह पीटते हुए थाने ले गए...बेबस पत्रकार गिड़गिड़ाता रहा और अपनी जान की भीख मांगता रहा...लेकिन मानो एसओ राकेश कुमार व उसके गुर्गों के सर पर भूत सवार था...जहाँ पर बाद में पत्रकार अमित शर्मा को हवालात में डाल दिया...
गौरतलब है कि पत्रकार अमित शर्मा ने कुछ दिन पूर्व शामली रेलवे स्टेशन पर काम कर रहे अवैध वेंडरों की खबर चलाई थी...जिस पर एसओ जीआरपी की फजीहत हुई थी...जिससे झल्लाए एसओ ने आज अपना बदला पुरा किया और बदले में बेबस पत्रकार की पिटाई करते हुए हवालात में डाल दिया...प्रदेश भर में जगह जगहो पर पत्रकारों से अभद्रता के मामले देखने को मिल रहे है...अधिकरियों को पत्रकारिता से नाराजगी रहे ये तो आम बात है लेकिन इस तरह का रवय्या पत्रकारों के प्रति शर्मनाक है...दबंग एसओ का दावा है कि ऊपर से लेकर नीचे तक कही भी शिकायत कर लो लेकिन उसका कुछ नही बिगाड़ पाओगे... अब सवाल यूपी के मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ से और शामली जिला प्रशासन से है कि उक्त दबंग एसओ के खिलाफ क्या एक्शन लिया जायेगा ।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।