नींद की गोली लेने के हैं इतने सारे Side Effects, हकीकत जानकर- उड़ जाएगी नींद

By: jhansitimes.com
Feb 05 2018 08:11 pm
175

अगर आपको नींद ना आने की समस्या है तो स्लीपिंग पिल्स लेने से आपको नींद लेने में आसानी होती है लेकिन ऐसे नींद की दवाइयां लेने से आपको कई सारे साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं जैसे दिन में सुस्ती महसूस होना, रात में बुरे सपने आना, सिर दर्द होना और लाल चकत्ते पड़ना आदि। इन दवाइयों के गलत इस्तेमाल से आप कोमा में जा सकते हैं या फिर आपको मौत हो सकती है।

यूएस में लगभग 50 से 70 मिलियन लोग नींद ना आने की बीमारी से प्रभावित हैं। सेंटर ऑफ़ डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ने इस बीमारी को पब्लिक हेल्थ प्रॉब्लम कहा है। ऐसे बहुत से लोग हैं जो कम सोने के बाद भी इससे होने वाले थकान, तनाव आदि को नजरअंदाज कर देते हैं। 

 दुर्भग्य्वाश इन दवाइयों के बहुत सारे साइड इफेक्ट्स हैं इसलिए इनका इस्तेमाल करने से पहले आपको इसके बारे में जान लेना चाहिए कि यह कैसे काम करते हैं और इसके क्या परिणाम हो सकते हैं।

ऐसे काम करती है स्लीपिंग पिल्स 

दो तरह की स्लीपिंग पिल्स होती हैं एक तो जो पहले इस्तेमाल होती थी जैसे बेन्जोडायजेपाम जिसमे लॉरमेट्राजेपाम, डायजेपाम, निट्राजेपाम या लोप्राजोलाम आदि शामिल हैं जो ब्रेन में नींद को प्रमोट करने वाले रिसेप्टर को टारगेट करती हैं लेकिन इसकी आपको लत लग जाती है। 

जबकि न्यू जेनरेशन स्लीपिंग पिल्स पहले वाली की तुलना में ज्यादा असरदार होती हैं लेकिन ऐसा नहीं है कि इनके साइड इफेक्ट्स नहीं होते हैं। US के नेशनल सर्वे के मुताबिक पूरे यूएस में 20 साल के सभी वयस्कों में से 4 प्रतिशत लोग यह सर्वे को होने से पहले ही स्लूपिंग पिल्स इस्तेमाल कर चुके हैं।

 साइड इफेक्ट्स 

अक्सर डॉक्टर स्लीपिंग पिल्स को जल्दी इस्तेमाल करने को नहीं बोलते है जब तक कि मरीज को गंभीर नींद की समस्या ना हो। आइये हम आपको बताते हैं इन स्लीपिंग पिल्स को इस्तेमाल करने के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

1- दिन में सुस्ती होना: कुछ लोगों को इन स्लीपिंग पिल्स को खाने के अगले ही दिन सुस्ती महसूस होती है और कुछ लोगों को उसके भी अगले दिन महसूस होता है क्योंकि यह दवा आपके शरीर में काफी देर तक अपना असर रखती है।

2- रात में खराब सपने आना: जालेप्लोन, जोपिक्लोन और जोल्पिडेम आदि ऐसी दवाइयां हैं जिन्हें 2 से 4 हफ़्तों के लिए दिया जाता है। कुछ लोगो में इसकी वजह से बुरे सपने आते हैं।

 

3- स्लीप एप्निया को बिगाडती हैं: अगर आपको पहले से स्लीप एप्निया की समस्या है तो ये स्लीपिंग पिल्स इसे और खराब कर देती हैं। स्लीप एप्निया में आपको सोते समय सांस लेने में तकलीफ होती है। इस वजह से आप पूरी नीन्द नहीं ले पाते है और ज्यादातर जगे ही रहते हैं।

4- ड्रग की लत लगना: अगर आप ज्यादा दिन से इन दवाइयों का इस्तेमाल कर रहें हैं तो आपको इनकी आदत पड़ जायेगी और बिना इनका सेवन किये आपको नींद भी नहीं आएगी। इन दवाइयों को आप अचानक से छोड़ भी नहीं सकते हैं क्योंकि इससे आपको और भी दिक्कत होगी जैसे मिचली, उल्टी और बेचैनी आदि हो सकते हैं।

5- दर्द होना: मेलैटोनिन आधारित नींद की दवाइयां अनिद्रा को और अधिक बढ़ा देती हैं। इनके सेवन से आपको सिर दर्द, पीठ दर्द या फिर जोड़ों में दर्द आदि महसूस होंगे।

6- मौत भी हो सकती है : अगर आप स्लीपिंग पिल्स के साथ कोई अन्य दूसरी ड्रग जैसे दर्द निवारक दवाइयां या कफ संम्बंधित दवाइयां आदि लेते हैं तो इससे आपको कई सारी समस्याएं हो सकती है जैसे आप कोमा में जा सकते है या फिर आपको मौत भी हो सकती है।

7- पागलपन बढ़ सकता है: अगर आप स्लीपिंग पिल्स को तीन महीने से ज्यादा दिन तक इस्तेमाल करते हैं तो आपको दिमाग से जुडी कई समस्याएं हो सकती हैं जैसे आपको एलजीमर डिसीज हो सकती है जिसमे आप चीजों को भूलने लगते हैं।

8- मोर्टेलिटी रिस्क बढ़ जाता है: साल 2010 में लगभग 6 से 10 प्रतिशत अमेरिकन वयस्कों ने अपनी अनिद्रा की समस्या के लिए स्लीपिंग पिल्स का इस्तेमाल किया। आपको बता दें कि अगर आप साल में इन दवाइयों की 132 खुराक लेते है तो आपके मरने की संभावना उन लोगों की तुलना में 5 गुना ज्यादा होती है जो लोग इन्हें नहीं लेते हैं। अगर आप स्लीपिंग पिल्स की 132 खुराक से ज्यादा लेते हैं तो आपको कैंसर भी हो सकता है।

9- अनुचित प्रयोग से नुकसान होना: अगर आप स्लीपिंग पिल्स का इस्तेमाल करते हैं तो आपको बाहरी काम जैसे गाडी चलाने या कोई मशीनरी काम करने से दूर रहना चाहिए क्योंकि आपकी बॉडी संतुलन में नहीं होती है और आपको खतरा हो सकता है।

10. दिल के दौरे का खतरा डॉक्‍टरों के मुताबिक नींद की अधिक गोलियों का सेवन करने से हार्ट अटैक का खतरा 50 गुना अधिक बढ़ जाता है। वैज्ञानिकों ने नींद की दवाओं में मौजूद तत्व - जोपिडेम को दिल की बीमारियों की वजह बताया है।

11. कैंसर एक शोध के मुताबिक यह बात भी सामने आई है कि जो लोग रोजाना इसी गोली पर निर्भर रहते हैं, उन्‍हें कैंसर का भी खतरा होता है। इन गोलियों में ऐसे तत्‍व पाए जाते हैं जिनका रोजाना सेवन नहीं करना चाहिये, नहीं तो ओवरडोज़ हो जाता है।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।