...तो आइये जानते हैं, गर्म पानी से नहाना सही या ठंडे पानी से – यह कहता है विज्ञान

By: jhansitimes.com
Nov 22 2017 07:14 pm
2220

सर्दियों का मोसम चालू होते ही लोगो के मन मे गर्म और ठंडे पानी से नहाने को लेकर दुविधा पैदा हो जाती है और हम कई लोगों को देखते हैं इस बात के बारे में चर्चा करते हुए कि आख़िर गर्म पानी से या ठंडे पानी से किससे नहाना ज़्यादा फायदेमंद है? अधिकतर लोग सर्दियों मे गरम पानी से नहाते हैं ताकि वो अपनी शरीर को साफ-सुथरा रख पाएं। गरम पानी से नहाने के फायदे तो होते हैं पर इसके कुछ नुकसान भी हैं | 

गरम पानी से नहाने से स्ट्रैस और टेंशन दोनों खत्म हो जाते हैं, मगर इसके इससे त्वचा का सारा तेल निकल जाता हैं और त्वचा सूख जाती हैं नतीजा त्वचा में खुजली हो सकती हैं। वहीं ठंडा पानी हर मायने में आपके लिए बेहद लाभदायक होता है, ये न सिर्फ आपकी प्यास बुझाता है और आपके शरीर को आवश्यक मिनरल देता है, बल्कि इससे नहाने से आपके शरीर को भी कई प्रकार के फायदे भी होते हैं।

ठंडे पानी से नहाने के फायदे

ठंडा पानी आपको सुबह सुबह जगा देता

ठंडा पानी आपको सुबह सुबह जगा देता है और आलस्य से छुटकारा पाने में भी मदद करता है। ठंडा पानी स्नान तंत्रिका को प्रोत्साहित करता है। सुबह को ठंडे पानी से नहाने से आलस तो दूर होता ही है, आप पूरे दिन तरो-ताजा भी महसूस करते हैं। एक शोध में ये बात सामने आई है कि ठंडे पानी से नहाने से मूड फ्रेश रहता है। दरअसल जब आप ठंडे पानी से नहाते हैं, तो हल्का सा शॉक जैसा लगा है जिससे आपकी सांसे तेज़ चलने लगती है और दिल की धड़कन भी थोड़ी बढ़ जाती हैं। इससे आपके शरीर कार रक्त प्रवाह बढ़ जाता है और आप तरोताज़ा महसूस करने लगते हैं।

त्वचा के लिए ठंडे पानी से नहाना है फायदेमंद

स्किन एक्सपर्ट्स बताते हैं कि ठंडे पानी से नहाने पर बालों के साथ-साथ त्वचा भी चमकदार बनती है। अगर आप मुहांसों से परेशान हैं तो ठंडे पानी से नहाएं। इससे अपकी त्वचा रूखी और बेजान होने से बचेगी। ठंडा पानी आपकी त्वचा को चमकदार बनता है।

ठंडा पानी से नहाना दूर करेगा अनिंद्रा की समस्या 

ठंडा पानी अपकी स्वसन प्रणाली को बेहतर बनाते हुए थकान भगाने में मदद करता है। यही नहीं यदि नींद आने में समस्या हो तो भी ठंड़े पीनी से नहाना लाभदायक होता है, इससे अनिंद्रा की समस्या दूर होती है।

ठंडे पानी से स्नान बचाएगा डिप्रेशन (अवसाद) से

ठंडे पानी से स्नान बीटा एंडोर्फिन जैसे डिप्रेशन (अवसाद) को दूर करने वाले केमिकल्स को मुक्त करता है और इस तरह यह अवसाद के इलाज में मदद करता है।

पुरुष में प्रजनन क्षमता बढ़ाता है ठंडा पानी

शायद बहुत ही कम लोग इस तथ्य को जानते होंगे कि, ठंडे से पानी से स्नान करना पुरुषों में प्रजनन क्षमता को बढ़ा सकता है। वहीं दूसरी ओर गर्म पानी से स्नान करने से अंडकोष पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है, क्योंकि संभवतः गर्म पानी से नहाना शुक्राणुओं की संख्या कम कर सकता है। यदि आप घर में नए बच्चे को लाने की तैयारी कर रहे हैं तो ठंडे पानी से ही नहाएं।

ठंडे पानी से इम्युनिटी और रक्तसंचार होता है बेहतर

cold water ठंडे पानी से नहाने से रक्तसंचार तो अच्छा रहता ही है, साथ ही ठंडे पानी से आपकी इम्युनिटी अर्थात प्रतिरक्षा प्रणाली भी मजबूत होती है। इम्युनिटी के मज़बूत होने से शरीर में वाइट ब्लड सेल्स बढ़ती हैं जो कई प्रकार की बिमारियों से लड़ने में मदद करती हैं। यह फेफड़ों के कार्यो में सुधार लाने में भी मदद करता है। ठंडे पानी से स्नान शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली और लसीका को उत्तेजित करता है, जो संक्रमण के खिलाफ लड़ने वाली कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ाता है।

गर्म पानी से नहाने के फायदे 

हम सभी जानते हैं, गर्म तापमान अधिक कीटाणुओं को मारने के लिए होता है। इसलिए गरम पानी के साथ स्नान से शरीर शुद्ध (साफ) होता है।

यह खांसी और सर्दी के इलाज के लिए भी फायदेमंद है, इसकी भाप नली (वायुमार्ग), गले और नाक को साफ करती है। (और पढ़े: खांसी का घरेलू उपचार, ड्राई कफ हो या वेट कफ)

गर्म पानी से नहाने के फायदे मांसपेशियों के लिए

गुनगुना पानी मांसपेशियों के लिए भी लाभकारी होता है। गुनगुने पानी मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन को ठीक करता है। यह गठिया, शुगर या अन्य किसी चोट के कारण होने वाले मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन को भी ठीक कर देता है। अध्ययनों से पता चला है कि गरम पानी से स्नान मांसपेशियों के लचीलेपन में सुधार लाने और सूजी हुई मांसपेशियों को आराम देने में भी मदद करता है।

गर्म पानी से नहाने से ऑस्टियोआर्थराइटिस का दर्द कम होता है

हल्के गुनगुने पानी से नहाने पर ऑस्टियोआर्थराइटिस और टेन्डीनिटिस के दर्द से राहत मिलती है। ऑस्टियोआर्थराइटिस हड्डियों व टेन्डीनिटिस नसों की सूजन से संबंधित बीमारी होती है। हल्के गुनगुने पानी से नहाने पर हड्डियों और नसों की सूजन को कम करने में मदद मिलती है।

गर्म पानी से नहाने के फायदे मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिये

गुनगुना पानी कमाल का स्‍ट्रेस बूस्‍टर होता है, और मानसिक शांति प्रदान करता है। गुनगुने पानी से नहाने पर शरीर के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य भी बेहतर होता है। गुनगुने पानी से नहाने के बाद आप ज्यादा शांत, खुश और आराम महसूस करते हैं। दिनभर थकान के बाद घर आने के बाद गुनगुने पानी से नहाने के बाद तरोताजा महसूस होता है।

गर्म पानी या ठंडे पानी से स्नान का चुनाव विज्ञान के अनुसार

स्नान करने के लिए क्या बेहतर है – ठंडा या गर्म पानी? विज्ञान के पास इसका जवाब है। विज्ञान सुझाव देता है कि आपको शरीर के लिए गर्म पानी और सिर के लिए ठंडे पानी का उपयोग करना चाहिए। क्योंकि आँखो और बालों को गर्म पानी से धोना आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है। (और पढ़े: उलझे बालों को सुलझाने के घरेलू टिप्स ताकि वो टूटे नहीं)

विज्ञान सलाह देता है कि पानी का तापमान निम्नलिखित कारकों के आधार पर तय होना चाहिए:

उम्र के अनुसार पानी का तापमान का चयन 

युवाओं को ठंडे पानी से स्नान करने की सलाह दी जाती है। जबकि वृद्ध लोगों के लिए, गर्म पानी के साथ स्नान करना सही माना जाता है। लेकिन अगर आप एक छात्र हैं तो ठंडे पानी से स्नान करना आपके लिए फायदेमंद होगा। इससे आपकी स्मरण सक्ति मई सुधार होगा| (और पढ़े: अगर चाहिए परीक्षा के समय तेज दिमाग तो बच्चों के आहार में सामिल करें इन चीजो को)

शरीर के प्रकार के अनुसार पानी का चयन 

यदि आपके शरीर का प्रकार (type) पित्त है, तो आपके लिए ठंडे पानी से स्नान लेना बेहतर होगा, और अगर आपके शरीर का प्रकार (type) कफ या वात है, तो हल्के गर्म पानी का उपयोग करें। (और पढ़े: सर्दियों में पालक, चुकंदर और गाजर रखेगें शरीर स्वस्थ्य)

बीमारी के अनुसार पानी के तापमान का चयन

अगर आप किसी भी पित्त संबंधित रोग से पीड़ित हैं जैसे अपच या यकृत विकार, तो ठंडे पानी से स्नान करना आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद रहेगा। और अगर आप कफ या वात से संबंधित विकारों से ग्रस्त हैं, तो आपको हल्के गर्म पानी से स्नान करने की सलाह दी जाती है

आदत के अनुसार पानी का चयन करना 

अगर आप नियमित रूप से व्यायाम करते हैं, तो आपको गर्म पानी से स्नान करने का सुझाव दिया जाता है। इससे आपके बॉडी के बैक्टीरिया ख़त्म होगे| (और पढ़े: जिम जाने वालों के काम की है ये टिप्स, इन बातों का ध्यान रखेंगे, तो रहेंगे फिट!)

नहाने के समय अनुसार पानी का चयन

अगर आप सुबह के समय स्नान करते हैं, तो ठंडे पानी के साथ स्नान करना अच्छा होता है। लेकिन अगर आप रात में स्नान कर रहे हैं, तो गर्म पानी से स्नान आपको काफ़ी आराम देता है।

खाना खाने के तुरंत बाद नहीं नहाना चाहिए

खाना खाने के बाद शरीर के तापमान में गिरावट आ जाती हैं और फिर इसको कंट्रोल करने के लिए खून का फ्लो शरीर के बाकी हिस्सों की ओर बढ़ जाता हैं। जब हम नहाते हैं तो ब्लड का फ्लो अधिक मात्रा में त्वचा तक पहुंचता हैं, जिसके कारण शरीर को गर्मी मिलती हैं। नहाना इसलिए नहीं चाहिए क्योंकि पेट के इर्द-गिर्द जो खून होता हैं, वो खाना खाने में मदद करता हैं, लेकिन नहाते वक्त वही ब्लड शरीर के दूसरों हिस्सों में चला जाता हैं और वहां देर तक रूका रहता है, जिससे खाना ठीक से नहीं पच पाता।

स्नान करने का तरीका विज्ञान के अनुसार 

विज्ञान के अनुसार, “जल्दी में किया गया स्नान, जल्दबाजी में किए गये भोजन के समान है, जिससे आपका शरीर ना तो ठीक से साफ हो पाता है और ना ही ठीक से सभी लाभो को प्राप्त कर पाता है।” ताज़गी हासिल करने के लिए, एक अच्छे स्नान का अनुभव बहुत जरूरी होता है। इस तरह नहाना चाहिए कि आपके शरीर का हर हिस्सा अच्छे से साफ हो जाये।

विज्ञान के अनुसार आपको नीचे दी गई प्रक्रिया के अनुसार स्नान करना चाहिए:

सबसे पहले अपने हाथ और पैर धो लें।

अगर आप ठंडे पानी से स्नान कर रहे हैं, तो आपको सिर से पाँव की ओर बढ़ना चाहिए।

और अगर आप गर्म पानी के साथ स्नान कर रहे हैं, तो पहले अपने पैर की अंगुलियों से शुरू करें और फिर सिर की ओर बढ़ें।

अगर आप गर्म पानी से नहा रहें हैं तो ऐसे साबुन से बचे को आपकी त्वचा को और रुखा बना दें। ऐसे में कम खुशबू वाले साबुत का इस्तेमाल करें। अगर अब भी आपको कोई संदेह है तो आप मॉइस्चराइजिंग सोप्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

स्नान से पहलेसरसों के तेल या तिल के तेल या ऑलिव ऑयल के साथ अच्छी तरह से मालिश करना आपके शरीर के लिए फायदेमंद होता है। इससे मांसपेशियों को नई ऊर्जा मिलती है और त्वचा की गुणवत्ता में भी सुधार होता है। तेल की दो से चार बूंदों का पानी में इस्तेमाल करने से त्वचा की नमी खोती नहीं है और यह रूखी व बेजान नहीं होती।

हालांकि आपको स्नान करते समय जल्दी नहीं करनी चाहिए, लेकिन बहुत देर तक स्नान करने का भी सुझाव नहीं दिया जाता है। ज्यादा देर तक पानी में नहाने से आपकी त्वचा के लिए और हानिकारक हो सकता है। इसके अलावा, बेहतर स्वच्छता के लिए, एक दिन में दो बार स्नान करना पर्याप्त होता है।

सर्दी के मौसम में ठंडे पानी से नहाना तो संभव नहीं है लेकिन बहुत अधिक गर्म पानी से नहाना भी सही नहीं है। ऐसे में हल्के गुनगुने पानी का ही इस्तेमाल करें। इससे खारिश नहीं होगी और त्वचा का नेचुरल मॉइश्चर भी बना रहेगा।

अपनी त्वचा को मॉइस्चराइस करें मॉइचराइस त्वचा बेहद खूबसूरत लगाती है। इससे आपके झुर्रियां और दाग ढाबे नहीं दीखते हैं। इसलिए अगर आप गर्म पानी से नहा रहें हैं तो नहाने के बाद मॉइस्चराइजिंग क्रीम जरूर लगाएं। अच्छे रिजल्ट के लिए मॉइचरीज़र तब लगाएं जब आपकी त्वचा गीली हो।

वैसे तो गर्म पानी आपको जितना आराम दे सकता है उतना कोई नहीं। लेकिन जरुरी है कि आप इसका तापमान कम रखें साथ ही ज्यादा देर तक गर्म पानी से ना नहाएं।अब आपको इस बात को ले कर कोई भी संदेह नहीं होगा कि गर्म पानी से नहाना आपके लिए बुरा है या अच्छा, क्योंकि अब आपको अपने सारे सवालों के जवाब मिल गएँ होंगे।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।