बॉलीवुड में यौन शोषण पर खुलकर बोलीं- ऋचा चड्ढा, किया गंदे सच को उजागर

By: jhansitimes.com
Dec 07 2017 11:11 am
733

पूरी दुनिया में इस वर्ष  यौन शोषण के खिलाफ एक आवाज उठी, जिसे #MeToo का नाम दिया गया। ये आवाद इतनी बुलंद थी कि प्रतिष्ठित टाइम मैगजीन ने साल 2017 के लिए इसे अपना 'पर्सन ऑफ द ईयर' चुना। अमेरिका से उठी ये आवाज भले पूरी दुनिया में फैल गई हो, लेकिन बॉलीवुड अभिनेत्री ऋचा चड्ढा का मानना है कि इसे भारत आने में वक्त लगेगा। ऋचा ने कहा कि अगर बॉलीवुड में यौन उत्पीड़न की बात की जाएगी तो इंडस्ट्री अपने कई हीरो खो देगा।

 हॉलीवुड में पिछले एक-दो महीने से प्रोड्यूसर हार्वे विन्सटन चर्चा में हैं। कई अभिनेत्रियों ने उनपर यौन शोषण का आरोप लगया है। इसी घटना ने इस साल एक ऐसी क्रांति को जन्म दिया, जिसने पूरी दुनिया की महिलाओं को साथ ला खड़ा कर दिया। इसमें आम लड़कियों से लेकर जानी-मानीं महिलाएं थीं। बॉलीवुड में होने वाले यौन शोषण पर लोग खुलकर नहीं बोलते। इसपर ऋचा ने कहा कि ऐसा एक दिन बॉलीवुड में होगा, लेकिन इसमें वक्त लगेगा।

ऋचा ने कहा, 'हमारे देश में पीड़ित का नाम उजागर कर उसे शर्मिंदा करने की संस्कृति को देखते हुए मुझे नहीं लगता कि ऐसा जल्द होगा। लेकिन जब ऐसा होगा है, जैसा कि हॉलीवुड में अभी हो रहा है, पूरा स्ट्रक्चर बदल जाएगा। जिन लोगों को आप फेमिनिस्ट फिल्में बनाते और प्रगतिशील होने का दावा करते देखते हैं, वे सब नीचे गिरने लगेंगे।' ऋचा ने आगे कहा कि दिन ऐसा हुआ, उस दिन हम अपने कई हीरो और विरासतें खो देंगे।

ऋचा ने कहा कि अगले 4-5 सालों में ऐसा हो जाएगा जब महिलाएं खुलकर यौन शोषण के खिलाफ बोलेंगी। हॉलीवुड में एक्टर्स को रॉयल्टी मिलती है। उनमें काम खोने का डर नहीं होता। ऋचा को लगता है कि बॉलीवुड के चुप रहने के पीछे एक कारण ये भी है। उन्होंने ये भी कहा कि बॉलीवुड ही ऐसी जगह नहीं है जहां यौन शोषण होता है। उन्हें गिरे हुए लोग बताकर बॉलीवुड को निशाना जल्द बनाया जाता है।

बॉलीवुड काफी वक्त से यौन शोषण और कास्टिंग काउच का शिकार रहा है लेकिन काफी कम लोग इसके खिलाफ आवाज उठा पाते हैं। हाल ही में टीवी एक्ट्रेस सुलगना चटर्जी ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर कास्टिंग काउच का गंदा सच उजागर किया था। उन्होंने एक एजेंट से बातचीत का स्क्रीनशॉट डाला था जिसमें वो उनसे कॉम्प्रोमाइज करने के लिए कह रहा था।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।