सूर्य ग्रहण 2018: इस सूर्यग्रहण के वक्त भूलकर भी ना करें ये काम, ऐसे करें दीदार

By: jhansitimes.com
Jul 12 2018 08:17 pm
552

नई दिल्ली : शुक्रवार 13 जुलाई को साल 2018 का दूसरा सूर्यग्रहण (Solar Eclipse) होने वाला है. यह ग्रहण 2 घंटे 25 मिनट तक रहेगा. 13 जुलाई के बाद फिर 11 अगस्त को तीसरा सूर्यग्रहण पड़ेगा. 13 जुलाई को पड़ने वाले इस ग्रहण का समय सुबह 7 बजे से शुरू होकर 9 बजकर 44 मिनट में खत्‍म होगा. वहीं, ग्रहणकाल का सूतक लगभग 12 घंटे पहले लगेगा. हर बार इस ग्रहण के दौरान भी कुछ सावधानियां बरतनी जरूरी हैं, ताकि किसी भी नुकसान से बचा जा सके.लेकिन इससे पहले जानें कि आखिर सूर्य ग्रहण है क्या. 

क्या होता है सूर्य ग्रहण?

पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमने के साथ-साथ अपने सौरमंडल के सूर्य के चारों ओर भी चक्कर लगाती है. दूसरी ओर, चंद्रमा दरअसल पृथ्वी का उपग्रह है और उसके चक्कर लगता है, इसलिए, जब भी चंद्रमा चक्कर काटते-काटते सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है, तब पृथ्वी पर सूर्य आंशिक या पूर्ण रूप से दिखना बंद हो जाता है. इसी घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है. 

सूर्यग्रहण (Surya Grahan) के वक्त ना करें ये 8 काम

1. सूर्यग्रहण कभी भी नंगी आंखों से डायरेक्ट ना देखें. इससे आपकी आंखें डैमेज हो सकती है. 

2. सूर्यग्रहण का नजारा देखने के लिए एक जगह पर सीधे खड़े हो जाएं और आंखों को ग्लास या सोलर व्यूवर से जरूर ढक लें. सूर्य से नजर हटाने के बाद सोलर फिल्टर /व्यूवर को जरूर हटाएं. सोलर फिल्टर वाले चश्मों को सोलर-व्युइंग ग्लासेस, पर्सनल सोलर फिल्टर्स या आइक्लिप्स ग्लासेस भी कहा जाता है.

3. आपके नॉर्मल चश्मे या गॉगल्स आंखों को यूवी रेज़ से सुरक्षित नहीं रख सकते. इसीलिए अपने ग्लासेस से सूर्यग्रहण देखने की कोशिश ना करें.  

4. अगर आपके पास आंखों को बचाने के लिए कुछ भी ना हो तो सूर्यग्रहण के दौरान पीठ करके चलें. 

5. सूर्यग्रहण के दौरान सूरज को पिनहोल, टेलेस्कोप या फिर दूरबीन से भी ना देखें.  

6. अनफिल्टर्ड कैमरे से कभी भी सूर्यग्रहण की तस्वीरें न उतारें और न ही ऐसी कोई दूसरे डिवाइस का इस्तेमाल करें.

7. बहुत लोग सोलर फिल्टर लगाकर कैमरे से तस्वीर उतारते हैं, इसका असर भी आंखों के लिए खतरनाक हो जाता है. दरअसल कैमरे के लेंस और सोलर फिल्टर मिलकर किरणों को और तीव्र बना देती हैं जो हमारी आंखों को नुकसान पहुंचा देती हैं.

8. अगर आप नजर के चश्मे का इस्तेमाल करते हैं तो भी उसको ऊपर सोलर फिल्टर या इकलिप्स ग्लास जरूर पहनें. 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।