बांग्लादेश को हराकर टीम इंडिया का लंका में बजा डंका, जीत के हीरो बने DK, छक्का लगाकर बनाया चैंपियन

By: jhansitimes.com
Mar 19 2018 07:59 am
879

कोलंबो: टीम इंडिया ने फाइनल मुकाबले में निधास ट्रॉफी त्रिकोणीय टी20 सीरीज में दिनेश कार्तिक के आखिरी गेंद पर लगाए गए छक्‍के की बदौलत बांग्‍लादेश के खिलाफ 4 विकेट से जीत हासिल की. साथ ही टीम इंडिया ने निदहास टी-20 ट्राई सीरीज की ट्रॉफी पर कब्जा जमा लिया है। इस मैच के हीरो दिनेश कार्तिकेय रहे। उन्होंने 8 गेदों पर 29 रन बनाए। दिनेश कार्तिकेय ने आखिरी गेंद पर छक्का मार टीम इंडिया को जीत दिलाई। पारी की अंतिम बॉल पर भारत को जीत के लिए 5 रन चाहिए थे और दिनेश कार्तिक छक्का लगाकर मैच खत्म कर दिया। 

इस जीत के सहारे टीम इंडिया ने न केवल निधास ट्रॉफी चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया बल्कि बांग्‍लादेश के खिलाफ टी20 में अजेय रहने का अपना रिकॉर्ड बरकरार रखा. बांग्‍लादेश के खिलाड़ि‍यों के अहंकार को चूर-चूर करते हुए रोहित शर्मा बिग्रेड ने यह जीत हासिल की है. भारत के आमंत्रण पर पहले बैटिंग करते हुए बांग्‍लादेश टीम ने सब्‍बीर रहमान (77 रन, 50 गेंद, 7 चौके और चार छक्‍के) की आतिशी पारी की मदद से  20 ओवर में 8 विकेट खोकर 166 रन बनाए. जवाब में लक्ष्‍य का पीछा करते हुए रोहित शर्मा और शिखर धवन ने तेज शुरुआत की लेकिन टीम लगातार विकेट गंवाती रही. कप्‍तान रोहित शर्मा (56 रन, 42 गेंद, चार चौके, तीन छक्‍के) टॉप स्‍कोरर रहे. रोहित की इस पारी के बावजूद भारतीय जीत के हीरो दिनेश कार्तिक साबित हुए. 

उन्‍होंने महज आठ गेंदों पर नाबाद 29 रन (दो चौके, तीन छक्‍के) जड़ते हुए भारत को लगभग असंभव मानी जाने वाली जीत तक पहुंचा दिया. आखिरी ओवर में टीम को जीत के लिए 12 रन की दरकार थी. सौम्‍य सरकार की ओर से फेंके गए इस ओवर की आखिरी गेंद पर छक्‍का जमाते हुए कार्तिक ने बांग्‍लादेशी खेमे को निराशा की गर्त में पहुंचा दिया. कार्तिक को उनकी पारी के लिए मैन ऑफ द मैच घोषित किया गया जबकि पूरे टूर्नामेंट में शानदार गेंदबाजी करने वाले वाशिंगटन सुंदर मैन ऑफ द सीरीज रहे.

19वें ओवर में बल्लेबाजी करने आए कार्तिक ने मात्र 8 गेंदे खेलीं और 3 छक्कों, 2 चौकों की मदद से 29 रन ठोंक बांग्लादेश को हरा दिया। कार्तिक जब बैटिंग करने आए थे तो टीम इंडिया को जीत के लिए 12 बॉल पर 34 रन की दरकार थी। सबको लग रहा था कि भारत इस मैच को जीतने में कामयाब नहीं रहेगा। लेकिन उन्होंने पहले रुबेल हुसैन के ओवर में दो चौके और दो छक्के जड़कर 22 रन ठोक डाले। 

इसके बाद अंतिम ओवर में भारत को जीत के लिए 12 रन चाहिए थे। बांग्लादेश की ओर से अंतिम ओवर सौम्य सरकार करने आए और सामने स्ट्राइक पर विजय शंकर होते हैं। सरकार पहली बॉल वाइड फेंकते हैं और अब टीम इंडिया को जीतकर के लिए 11 रन चाहिए थे। इसकी अगली बॉल पर शंकर रन बनाने से चुक जाते हैं लेकिन दूसरी बॉल पर वह किसी तरह एक रन बनाने में कामयाब रहते हैं और स्ट्राइक कार्तिक के पास आ जाती है। 

जिस तरह से कार्तिक रन बना रहे थे उसे देखते हुए लग रहा था अगली बॉल पर वह बाउंड्री मारने में कामयाब रहेंगे लेकिन ऐसा नहीं होता है और उन्हें एक रन से संतोष करना होता है। ओवर की चौथी बॉल पर शंकर चौका लगाने में कामयाब रहते हैं। अब भारत को चैंपियन बनने के लिए अंतिम दो बॉल पर 5 रन चाहिए थे। लेकिन शंकर 5वीं बॉल पर कैच आउट हो जाते हैं पर अच्छी बात यह रहती है कि स्ट्राइक कार्तिक के पास आ जाती है। 

अब टीम इंडिया को एक बॉल पर जीतने के लिए 5 रन चाहिए थे और सामने कार्तिक खड़े होते हैं। सरकार ऑफ स्टंप के बाहर फुल लेंथ की गेंद फेंकते हैं, जिसे कार्तिक ऑफ स्टंप पर आकर एक्सट्रा कवर पर छक्का मारने में कामयाब रहते हैं और इसी के साथ भारत निदाहास ट्रॉफी जीतने में कामयाब रहता है।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।