छेड़खानी का आरोप लगाने वाली पीड़िता ने कोर्ट में पत्रकार फिरोज को बताया निर्दोष

By:
Oct 11 2018 06:40 pm
981

झांसी। किसी ने सच ही कहा कि एक अच्छे इंसान को बदनाम और बुरा बनाने में खाकी की अहम भूमिका होती है। इसका उदाहरण झांसी में नजर आया। जहां एक थानेदार ने अपनी निजी खुन्नस निकालने के लिए एक युवक पर न केवल छेड़खानी का आरोप लगाकर बदनाम किया, बल्कि उसके खिलाफ झूठा मुकद्मा तक दर्ज कर डाला। जबकि जिस लड़की और महिला को आगे कर युवक पर आरोप लगाया गया था वह महिला और लड़की कोर्ट में साफ मुकर गई है। 

बता दें कि झांसी के बरुआसागर थाना क्षेत्र में अवैध कारोबार तेजी से फल-फूल रहा था। जिसे उजागर करने के लिए मीडियाकर्मी फिरोज अली आगे आये और उन्होंने क्षेत्र में चल रहे अवैध कारोबार के खिलाफ अभियान चलाकर अपनी संस्था में समाचार प्रकाशित किये। जब इसकी जानकारी थानेदार को हुई तो यह बात उन्हें नगवार गुजरी। उन्होंन फिरोज अली से बदला लेने की योजना बनाई। आखिर में उन्होंने गणेश विसर्जन के दौरान हुए विवाद को मोहरा बना लिया। उन्होंने एक महिला और एक नाबालिग लड़की को आगे कर पहले जबरन मीडियाकर्मी के खिलाफ छेड़खानी समेत मारपीट की धाराओं में मामला दर्ज किया। इसमें थानेदार के कुछ चहेतों ने भी खूब साथ दिया। इतनी हीं नहीं थानेदार साहब ने जोश में आकर माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की भी धज्जियां उड़ा डाली और महिला की निजता का हनन तक कर डाला।  

इधर मामला दर्ज होने के बाद लड़की के न्यायालय में 164 के बयान हुए। जिसमें लड़की ने कहा कि पिछले दिनों जब वह दुकान पर थी। तभी जुबैर, अश्फाक और सद्दाम आये। इसके बाद उन्होंने उसकी मां के साथ गाली गलौज की। यह देख जब उसने अपनी मां को बचाया तो तीनों ने उसके साथ अभद्रता करते हुए छेड़खानी की। जिस पर उसने शोर मचाया। शोर सुनकर जब तक पड़ोसी आये तब तक वहां से तीनों भाग गये। 

लड़की के न्यायलय में हुए बयान में यदि गौर फरमाया जाए तो उसने फिरोज नाम के किसी भी व्यक्ति का जिक्र नहीं किया है। अब ऐसे में सवाल है कि जब लड़की ने फिरोज अली का नाम ही नहीं लिया तो फिर थानेदार ने उसे छेड़खानी का आरोपी कैसे बता दिया। आरोपी तो बताया ही, साथ ही सार्वजनिक तौर पर उसकी छवि धूमिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। फिलहाल अब देखना है कि थानेदार के खिलाफ इस बयान के बाद क्या कार्रवाही होती है। या फिर सत्ताधारी नेताओं और अधिकारियों का सरक्षंण पाकर वह बच जाते हैं। यह तो आने वाला समय ही बतायेगा। 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।