CM योगी के पास नई घोषणाओं के लिए झोली खाली, पुरानी मंजूरियों का झुनझुना झाँसी में फिर बजाया

By: jhansitimes.com
Apr 16 2018 04:29 pm
3454

अंकित चौधरी के साथ मोनू शाक्या और सनी सरदार की रिपोर्ट, झांसी। केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा कि बुंदेलखंड तो बन जाता, मगर आज मप्र के हिस्से के लोग बुंदेलखंड का हिस्सा बनने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि जब भी राज्य पुनर्गठन आयोजन का गठन होगा, तो उनकी पार्टी इसका पूरा समर्थन करेगी और जल्द से जल्द बुंदेलखंड पृथक राज्य का निर्माण कराएगी। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन ने यहां बनने वाले डिफेंस कॉरीडोर को देश के लिए समर्पित करते हुए कहा कि  जो हथियार हमें विदेशों से लेने पड़ते थे, वे अब यहां बनेंगे। इससे देश का पैसा देश में ही रहेगा। वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डिफेंस कारीडोर व फूड प्रोसेसिंग प्लांट को बुंदेलखंड के लिए एक विशेष सौगात बताया। उन्होंने कहा कि इनके लगने से बुंदेलखंड में विकास होगा और बेरोजगारों के पलायन पर पूरी तरह रोक लगेगी। सभी नेता झांसी के क्राफ्ट बाजार मैदान में जनसभा को संबोधित कर रहे थे। 

लगभग एक करोड़ की परियोजनाओं का हुआ लोकापर्ण व शिलान्यास

केंद्र सरकार की रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय मंत्री उमा भारती और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज झाँसी आकर एक स्थानीय होटल में अधिकारियों के साथ बैठक की और डिफेंस कॉरीडोर के संबंध में आवश्यक जानकारी लेते हुए दिशा-निर्देश दिए। इसके बाद सभी नेता क्राफ्ट बाजार मेला ग्राउण्ड पर पहुंचे। यहां पर उन्होंने स्कूली बच्चों को ड्रेस, बस्ता, जूते मोजे आदि का वितरण किया। साथ ही प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों को प्रमाण पत्र भी वितरित किए। इसके अलावा इन अतिथियों ने झांसी जनपद के लिए 1126 करोड़ की परियोजनाओं का लोकापर्ण किया। इसके अलावा 8205 करोड़ रुपए की 33 परियोजनाओं का शिलान्यास किया गया। 

एक लाख पैंतीस हजार बेरोजगारों को जल्द मिलेगा रोजगार: योगी आदित्यनाथ

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जब मैं झांसी और बुंदेलखंड की बात करता हूं तो लगता है कि इस क्षेत्र में यदि पिछली सरकारों ने ध्यान दिया होता तो यहां के लोगों को आज पलायन के लिए मजबूर नहीं होना पड़ता। ये केवल बुंदेलखंड की बात नहीं। 2014 से पहले की सरकारों के एजेंडों में विकास, महिलाएं और किसान नहीं थे।  प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने देश के विकास और सुशासन का नजरिया बदला। उसका ही परिणाम है कि आज देश के किसान शासन और सत्ता के हिस्सा बने हैं। उन्होंने कहा कि आज पीएम के कारण ही गरीबों के एकाउंट खुले। महिलाओं के लिए उज्जवला योजना शुरू हुई। नौजवनों के लिए मुद्रा योजना आई। पीएम ने उप्र के अंदर व्यापक निवेश की संभावनाओं को टटोला। इसके चलते ही रोजगार की संभवनाओं को क्रियान्वित करने के लिए पहली बार उप्र में सत्तर हजार करोड़ रुपए के प्रस्ताव को शुरू करने का प्रयास किया जा रहा है। जल्द ही एक लाख पैंतीस हजार नौजवानों को रोजगार मिलने की संभावना है। उन्होंने कहा कि विकास नौकरी और रोजगार नौजवानों का हक है। हम लोग उप्र के अंदर गरीबी को दूर करके विकास के रास्ते बनाएंगे। उप्र सरकार ने विकास के लिए बुंदेलखंड और पूर्वांचल को विशेष रूप से शामिल किया। इन दोनों जगहों को रोजगार परक बनाएंगे। यहां के नौजवानों के रोजगार और नौकरी के लिए काम करेंगे।

हमाारी सरकार बुंदेलखंड को ऐसी सौगात देने जा रही है। बुंदेलखड एक्सप्रेस वे, झांसी के लिए डिफेंस कॉरीडोर, रेल मंत्री द्वारा झाँसी में रेल कारखाना आदि यहां स्थापित होंगे। यहां पर फूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में हमें प्रस्ताव प्राप्त हुए थे। किसानों की आय को दोगुना करने के लिए पीएम ने यहां ये कार्यक्रम प्रारंभ किया है। जो किसानों को नई ऊर्जा के साथ आर्थिक समृद्धि भी देंगे। 

मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार में किए गए जनकल्याणकारी कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हमे खुशी है हमने झांसी जनपद में 48 हजार 94 किसानों का कर्ज माफ किया। झांसी जनपद में  शौचालय बनवाए गए। गरीब महिलाओं को निशुल्क गैस संयोजन उज्जवला योजना में दिए गए। विद्युत संयोजन भी दिए गए। नए विद्युतीकरण कराये। झांसी जनपद में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गरीबों को निशुल्क आवास उपलब्ध कराए गए। पीएम शहरी योजना के तहत आावासों का निर्माण कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि शिक्षा और स्वास्थ्य की दिशा में भी हमने कई बड़े कार्य किए, जिनका प्रभाव आज देखने को मिल रहा है। 

डिफेंस कॉरीडोर बनने से खुलेंगे रोजगार के रास्ते, रुकेगा बुंदेलखंड का पलायन: रक्षा मंत्री

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने संबोधन में कहा कि भारत देश की रक्षा का भार प्रधानमंत्री ने उन्हें सौंपा है। उन्होंने डिफेंस कॉरीडोर की विस्तृत जानकारी देते हुए इससे क्षेत्र में होने वाले विकास के बारे में भी लोगों को बताया। उन्होंने कहा कि यहां बनने वाले हथियारों को हम सेना के लिए खरीदेंगे। यहां के उत्पादन को देश की रक्षा के लिए इस्तेमाल किया जाएगा। इसके बनने से बुंदेलखंड का पलायन रुकेगा और बेरोजगारों को नौकरी मिलेगी। केंद्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि अभी तक विदेश से शस्त्र लिए जाते थे। लेकिन डिफेंस कॉरीडोर बनने के बाद यहीं पर हथियार बनेंगे। हालांकि यह डिफेंस कॉरीडोर तुरंत तो बन नहीं जाएगा। इसकी पूर्ति के लिए छोटे-छोटे व मध्यम वर्गीय उद्योगपतियों से शस्त्र बनवाए जाएंगे। इस कॉरीडोर में वर्दी, शस्त्र और टैंक बनेंगे। एनोवेशन में छोटे-बड़े शस्त्रों का प्रदर्शन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि डिफेंस में पॉलिसी के तहत बदलाव किया जा रहा है। जिससे सिस्टम के तहत बड़े प्लेटफार्म तैयार किए जाएंगे। केंद्र और यूपी सरकार में सामंजस के तहत काम किया जाएगा। कॉरीडोर में जो कंपनी काम करेगी। वही इंजीनियरिंग, पॉलीटेक्निक व आईटीआई के बच्चों को ट्रेनिंग देगी। डिफेंस कॉरीडोर चेन्नई के बाद अब यूपी में बन रहा है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में पूर्वांचल और बुंदेलखंड की स्थिति काफी कमजोर है। इसे इस प्रकार बनाया जाएगा, कि देश में अच्छे प्रदेशों में यूपी की गिनती हो। केंद्र सरकार की पहल पर उत्तर प्रदेश में झांसी में रेल कारखाना और ललितपुर में फूड प्रोसेसिंग और बुंदेलखंड में एक्सप्रेस लाए गए हैं। प्रदेश में एक जिला एक इंडस्ट्री की योजना शुरू की जा रही है। ताकि विकास का पहिया तेजी के साथ घूमे और लोगों का भी विकास हो।

 

फिर बुंदेलखंड का रोना रो गई उमा भारती

जनसभा में बोलते हुए केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा कि निर्मला सीतारमण जैसी महिलाओं ने सारे पुराने मिथक तोड़ दिए। प्रधानमंत्री ने उन्हें रक्षा मंत्री बनाया तो मेरा हृदय बहुत प्रसन्न हुआ। वे देश की पहली रक्षा मंत्री बनीं, जिन्होंने सुखोई विमान उड़ाया। जब डिफेंस कॉरीडोर की घोषणा उन्होंने की तो मैं पीछे पड़ गई, कि आप जल्दी झांसी आकर इसकी घोषणा करें। उमा भारती ने कहा कि बीस हजार करोड़ की योजना है डिफेंस कॉरीडोर। यहां के लोग बड़ी संख्या में दिल्ली जाते हैं काम करने। जिस दिन ये डिफेंस कॉरीडोर आ जाएगा, तीन साल में बुदेलखंड़ देश के पिछड़े प्रदेशों से निकलकर अगड़े प्रदेशों में गिनती करने लगेगा। लोगों को यहीं रोजगार मिलेगा। एक समय आएगा जब यहां के लोग दिल्ली जाएंगे तो वहां काम करने नहीं, बल्कि राज करने जाएंगे। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उमा ने महान तपस्वी बताया। उन्होंने कहा कि वे प्रदेश की ही नहीं देश की भी रक्षा करेंगे। उनहें बुंदेलखंड की बहुत फिक्र है। 

उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी ने बुंदेलखंड के नाम पर इकाई बनाई थी। पृथक बुंदेलखंड के निर्माण की पूरी संभावनाएं थी। सारी तैयारियों पूरी हो गई थी पृथक राज्य निर्माण की। लेकिन आज मध्य प्रदेश के लोग बुंदेलखंड का हिस्सा बनने को तैयार नहीं है। मायावती के समय पर जो घोषणा हुई थी, वह संभव नहीं थी राज्य निर्माण के लिए। मैं  बुंदेलखंड वासियों की आवाज को उठा रही हूँ, जब भी राज्य पुनर्गठन आयोग का गठन होगा, हमारी पार्टी उसका समर्थन करेगी। तब तक हम बुंदेलखं का विकास करेंगे। यहां के लोगों को देश के अगड़ों में शामिल करेंगे। महिलाओं को भी आत्मनिर्भर बनाया जाएगा, ताकि उन्हें पैसों के लिए किसी के आगे  हाथ न फैलाना पड़ें। उन्होंने कहा कि उप्र में अन्य दलों के नेताओं ने दसियों साल शासन किया। उनके परिवार के लोग धनाढ्य हो गए और उप्र के लोगों को भुखमरी के कगार पर ला दिया गया।  जब शासन प्रशासन योगी के हाथ आया तो अब यहां विकास हो रहा है। केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा कि बुंदेलखंड की जलवायु, इजराइल की तरह है। यहां फूड प्रोसेसिंग की तैयारी की जा रही है। इसके लिए चालीस हजार लोगों को टे्रनिंग दी जाएगी। क्रांति पथ बनेगा। बीस लाख लोगों को प्रदेश में रोजगार दिया जाएगा। उन्होंने सभी लोगों से आपसी सहयोग के तहत काम करने की अपील की। उन्होंने मोदी व  योगी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने जो डिफेंस कॉरीडोर व फूड प्रोसेसिंग की सौगात बुंदेखंड को दी। उन्होंने मंच ही बुंदेलखंड की जय के नारे लगाए। 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।