पार्टनर के सोने का तरीका बताता है रोमांटिक रिश्ते का सबूत, आईये पढ़कर जानते हैं

By: jhansitimes.com
Feb 06 2018 10:00 am
148

 पति-पत्‍नी के बीच का रिश्‍ता कई बार शब्‍दों से नहीं बल्‍कि उनके तौर तरीकों से भी नजर आता है |  सिर्फ़ आई लव यू बोलने  और गिफ्ट देने की आदत से ही ये नहीं पता चलता कि पति-पत्नी में कितना प्यार है, बल्कि कई बार कुछ आदतें भी कपल के प्यार की कहानी बयां कर देती है.बिना कहे भी समझ में आ जाता है कि वे एक दूसरे के बारे में कैसा महसूस करते हैं. खासतौर पर कपल के सोने का तरीका बताता है कि वो एक-दूसरे से कितनी मोहब्बत करते हैं.

आमतौर पर नई-नई शादी के बाद कपल एक-दूसरे को बाहों में भरकर सोते हैं. इस तरह सोना हेल्दी रिश्ते का सबूत है, लेकिन शादी के 10-15 साल बाद भी कपल ऐसे सोए ज़रूरी नहीं, क्योंकि आमतौर पर तब तक उनके रिश्ते का रोमांच और रोमांस कम हो जाता है.

चलिए आपको बताते हैं कि किस तरह का सोने का तरीका रोमांटिक रिश्ते का सबूत है

१ – पीठ से पीठ मिला कर सोना: अगर पाति पत्‍नी दोनों एक-दूसरे की तरफ पीठ करके सोते हैं लेकिन उनकी पीठ से से पीठ छूती रहती हैं तो इससे पता चलता कि दोनों को स्पेस चाहिए लेकिन एक-दूसरे के करीब रहकर. यह दोनों के बीच सुरक्षा और सहजता की भावना को स्‍पष्‍ट करता है. साथ ही एक दूसरे के प्रति बराबरी की भावना को दर्शाता है.

२ – एक दूसरे को बिना छुए पीठ करके सोना: अगर आप एक-दूसरे की तरफ पीठ करके सोते हैं और बीच में कोई फिजिकल कांटैक्ट न हो तो इसके कई मतलब हो सकते हैं. जैसे इसका मतलब हो सकता है कि आपकी आपसी समझ बहुत ऊंचे स्‍तर की है और बिना छुए भी एक दूसरे की मौजूदगी और सुरक्षा को महसूस कर सकते हैं. दूसरी ओर इसका मतलब ये भी हो सकता है कि आपके बीच ठंडापन आ रहा है और आप एक दूसरे से दूर रहना ही पसंद करते हैं.

३ – स्पून पोजीशन: स स्टाइल में या तो आदमी औरत को अपनी बाहों में ले लेता है या औरत आदमी को. इस पोजीशन में सोना एक-दूसरे के लिए सुरक्षा की भावना को दर्शाता है. यह इंटिमेट पोजीशन और दोनों के बीच पैशनेट लव, केयर, और समर्पण की झलक दिखाती है.

४ – पैर से पैर लिपटा के सोना: इस पोजीशन में कपल्‍स अपने पैरों को एक दूसरे जोड़े रहते है. ये पोजीशन इस बात की प्रतीक है कि आप एक दूसरे को बेहद प्‍यार भी करते हैं और नजदीक भी रहना चाहते है पर एक दूसरे के आराम का पूरा ख्‍याल भी रखना चाहते हैं. इसीलिए बिना नींद में खलल डाले जुड़े रहना चाहते हैं.

५ – लिपटकर सोना: जैसा कि इसके नाम से ही पता चला है ये प्‍यार के शुरूआती दौर या जुनून की हद तक एक दूसरे को चाहने वाले कपल्‍स की पोजीशन होती ह.। इसका मतलब यही है कि वे सोते समय भी एक दूसरे से अलग नहीं होना चाहते और उनकी दुनिया में किसी और के लिए कोई जगह नहीं है.

ये है सोने का तरीका और प्यार – तो चलिए याद करिए की आप किस तरह से सोते हैं. अपनी स्लिपींग पोज़ीशन से आप अपने रिश्ते की पोज़ीशन का अंदाज़ा लगा सकती हैं कि उसमें अब कितना रोमांस रह गया है.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।