रातभर 17 लाशों की जेब में बजता रहा फोन, कुछ ऐसा था दर्दनाक मंजर

By: jhansitimes.com
Aug 26 2017 11:13 am
891

यौन शोषण मामले में गुरमीत राम रहीम को सीबीआई कोर्ट द्वारा दोषी करार देते ही शुक्रवार को दोपहर चार बजे उनके समर्थक बेकाबू हो गए.  दिल्ली, हरियाणा समेत 6 राज्यों में तोड़फोड़ और आगजनी की है.

पुलिस और डेरा समर्थकों के बीच हिंसा में कई लोगों की मौत हो चुकी है. रिपोर्ट्स के मुताबिक शुक्रवार को पंचकूला  में 30  लोगों की मौत हो गई| 30  में से 17 की लाश पंचकूला सिविल अस्पताल में है, अब तक इनमें से किसी की भी पहचान नहीं हुई है. हॉस्पिटल सूत्रों के मुताबिक मृतकों की जेब में रखे फोन लगातार बज रहे हैं.

 इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक हॉस्पिटल के अधिकारियों ने स्टाफ को आदेश दिया है कि वह फोन कॉल न रिसीव करें अधिकारियों का कहना है कि ऐसा करने से कर्फ्यू के बावजूद हॉस्पिटल में लोगों की भीड़ लग जाएगी. 

नाम न बताने की शर्त पर एक डॉक्टर ने कहा कि इन 17 लोगों की मौत गोली लगने से  हुई है. इनमें से कुछ पत्थर की वजह से घायल भी हुए थे| मृतकों के गर्दन, छाती और पीठ में गोली लगी है. लाशों की पहचान होने के बाद इनका पोस्टमॉर्टम किया जाएगा. इनमें से ज्यादातर गांववाले हैं, जिनके पास पहचान का कोई दस्तावेज नहीं है. माना जा रहा है मृतकों में ज्यादातर संख्या डेरा समर्थकों की है.

हॉस्पिटल सूत्रों के मुताबिक 4.30 बजे के बाद एम्बुलेंस में सैकड़ों की संख्या में घायल लोगों को अस्पताल लाया जा रहा था. सैनिटेशन डिपार्टमेंट के स्टाफ के मुताबिक ये बेहद खौफनाक मंजर था|  इमेरजेंसी वॉर्ड के अंदर 100 से ज्यादा लोग स्ट्रेचर पर लेटे थे. इनमें से कई लोगों  की मौत हो चुकी थी. वॉर्ड के पूरे फर्श में खून बिखरा पड़ा था.

किसी को नहीं पता था कि ये कौन लोग है. इमरजेंसी में घायलों और मृतकों के परिजनों की भीड़ इतनी बढ़ गई थी कि पुलिस को उन्हें बाहर खदेड़ना  पड़ा और हॉस्पिटल के गेट पर बैरिकेड लगाने पड़े| आपको बता दें कि अगले कुछ दिनों तक हॉस्पिटल के सारे डॉक्टर्स की छुट्टियां रद्द कर दी गई है.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।