इस दिमाग की उपज थी पोर्न फिल्म और कंडोम्स, ये है आपकी जरूरत की 15 चीजों की रोचक कहानी

By: jhansitimes.com
Jul 08 2017 11:37 am
2357

अक्सर ही ऐसा होता है कि हम कोई डिश खा रहे होते हैं और अचानक मन में ख्याल आता है कि इसकी खोज किसने की होगी यार? ऐसा लगता है कि जाकर उस व्यक्ति के हाथों को चूम लें। ऐसा सिर्फ खाने की चीजों के बारे में नहीं हैं। हमारे आसपास तो हर रोज ही कई अविष्कार होते हैं। इनमें से कई अविष्कार हमारी जिंदगी बदल देते हैं। वहीं उनमें से तो कई तो हमारी डेली लाइफ का हिस्सा भी बन जाते हैं। 

मगर हम बहुत कम ही ये पता लगाने की कोशिश करते हैं कि इनका अविष्कार किसने किया होगा। कभी-कभी कुछ चीजों को लेकर लगता भी हैं कि यार इसे इन्वेन्ट करने वाले ने कोई बड़ा कमाल कर दिया है। तो चलिए आज हम आपको ऐसी ही कुछ मजेदार चीजों के अविष्कार से जुड़ी कहानियां और इनके अविष्कारक के बारे में बताते हैं। यकीन मानिए, इसे पढ़कर आप भी हैरान रह जाएंगे।

कंडोम

खास रातों में कपल्स के लिए वरदान माने जाने वाले कंडोम अचानक ही प्रकट नहीं हो गए थे। हाँ लेकिन सबसे पुराने कंडोम का जिक्र 1642 के समय का मिलता है। फिर आज के रबर कंडोम की बात करे तो उनका जन्म तो 1839 में Charles Goodyear द्वारा 'रबर वल्केनाइजेशन' प्रोसेस के अस्तित्व में आने के बाद हुआ था। 

किसने की ब्रा की खोज

ब्रा 

अगर मैं गलत नहीं हूं तो ब्रा लड़कियों का सबसे प्रिय सहारा होती हैं। इसके अविष्कार के पीछे की कहानी यह है कि 1910 में मैरी फेल्प्स जैकब (Caresse crosby) ने एक ट्रांसपेरेंट गाउन खरीदा। लेकिन इसके अंदर वो कॉर्सेट नहीं पहन सकती थी। फिर उन्होंने सिल्क रुमाल, कुछ पिंक रिबन और कॉर्ड के साथ नया इन्वेंशन किया और अपना नाम इतिहास में दर्ज करवा लिया।

अंडरवियर 

ये अंतरवस्त्र हमारी लाज रखते हैं। इसे पहनने वालों ने क्या कभी ये सोचा था कि इसकी खोज कब हुई थी। हम बताते हैं। दरअसल अंडरवियर का इतिहास आज से 7000 साल पहले मिलता है। उस समय इन्हें loincloth कहा जाता था। वैसे उस वक्त यह अंडर नहीं आउटवियर हुआ करता था। वैसे आजकल भी कभी-कभी ऐसा हो जाता है। 

 कौन था चप्पल को खोजने वाला

चप्पल 

वो चप्पल जो घर पर माँ के हाथ से खानी पड़ती है तो कभी-कभी कुछ मजनुओं को सड़कों पर भी इसके दर्शन हो जाते हैं। यकीन मानिए, ये वाकई बहुत पुराना हथियार है। गूगल महाराज के अनुसार इसका इतिहास 12वीं सदी में मिलता है। हालांकि तब इन्हें सुल्तान और रईस लोग ही पहना करते थे।

झाड़ू

मोदी जी के स्वच्छता अभियान की बदौलत देश में सफाई तो होने लगी है। साथ-साथ झाड़ू का रुतबा भी बढ़ गया है। अक्सर ही यह सेलिब्रिटी के हाथों में भी दिख जाती है। वर्ना पहले तो बस माँ के हाथ में झाड़ू से बच्चों की पूजा होती थी। झाड़ू के इतिहास पर जाए तो क्वालिटी झाड़ू तो 1797 में Levi Dickenson नाम के किसान ने अपनी धर्मपत्नी के लिए बनाई थी। 

सेल्फी 

सेल्फी तो आप रोजाना ही ले लेते हैं। आजकल तो इस पर गाने भी बनने लगे हैं। अब आप ही बताओ कि आपकी इस हॉबी को खोजा किसने था। नहीं पता? चलो हम बता देते हैं। अमेरिकन फोटोग्राफर Robert Cornelius ने पहली बार 1839 में खुद की तस्वीर ली थी। फिर 1900 में पोर्टेबल कैमरा आने के बाद तो चलन बढ़ता ही गया। 

डियोड्रेंट 

पहले लोग जहां अपने क्रश की खुशबू को याद रखा करते थे। आज उनके डियो की खुशबू को याद रखा जाता है। वैसे इतिहास तो डियो का भी पुराना ही है। वो हुआ यूं कि 1888 में एक सर्जन ने अपने हाथों को पसीने से बचाने के लिए एंटीपर्सपिरेंट की खोज की। फिर उनकी बेटी एडना मर्फी को इसे आर्मपिट पर लगाने का आइडिया आया और उसने इस आइडिया को फैला भी दिया। 

 किसने बनाई पहली पोर्न फिल्म

पोर्नोग्राफी 

कई लोगों की अकेली रातों की साथी पोर्नोग्राफी का अविष्कार तो मोशन पिक्चर्स के कुछ वक्त बाद ही हो गया था। इरोटिक फिल्मों की शुरुआत दो फ्रेंचमैन ने की थी। 1896 की एक इरोटिक फिल्म में बाथरूम सीन फिल्माया गया था। आगे बात किस की। 

किस

अपने पार्टनर से इस खूबसूरत तरीके से तो आपने अपना प्यार जताया ही होगा। मगर आपने कभी सोचा है कि सबसे पहला किस किसने किया होगा? दरअसल इस मामले में किसी एक व्यक्ति का नाम तो सामने नहीं आता है। मगर आज से लगभग 3,500 वर्ष पहले वेदों में सबसे पहले चुंबन का जिक्र मिलता है। 

 कैसे आया तकिया दुनिया में

तकिया 

मेरी तरह और भी कई लोग हैं, जिन्हें बिस्तर और उस पर तकिया मिल जाए तो उन्हें जीवन में किसी और चीज की जरुरत ही नहीं होती है। तो हम लोगों के इस प्रिय तकिये की कहानी की शुरुआत 7,000 बीसी में प्राचीन मेसोपोटामिया में मानी जाती है। उस वक्त की एक खास बात यह है कि उस वक्त लोग पत्थर से बने तकियों पर सोते थे। चौंकिए मत। यही सच है।

जीन्स 

आज के फैशन में तो जीन्स ही जीन्स नजर आती हैं। हम लोग पैरों को भी जरा सांस लेने देना चाहते हैं ना। लेकिन बात अगर जीन्स के इतिहास की हो तो जीन्स शब्द पहली बार 1795 में सामने आया था। इसके बाद 1873 में जैकब डेविस और लेवी स्ट्रॉस ने जीन्स के लिए यूएस पेटेंट अपने नाम करवा लिया था। 

यूं हुआ सेफ्टी पिन का अविष्कार

सेफ्टी पिन 

बचपन में रुमाल लगाने से लेकर बड़े होकर दांत साफ करती यह छोटी पिन वाकई कई मौकों पर हमारी रक्षा भी करती है। अमेरिका के मैकेनिक वॉल्टर हंट को इस छोटी मगर बड़े काम की चीज की खोज का क्रेडिट जाता है। 

टैटू 

पिछले कुछ सालों में युवाओं के बीच टैटू बनवाने के चलन बहुत बड़ा है। लेकिन टैटू की कला कोई नई चीज नहीं है। सबसे पहला टैटू Otzi the Iceman नाम की एक ममी में देखा गया था। जो 3370 से 3100 बीसी के बीच की थी।

 देखिये कौन लाया था लॉलीपॉप। 

लॉलीपॉप 

लॉलीपॉप से तो लगभग सभी के बचपन की कई यादें जुड़ी होती हैं। वैसे युवा होने पर भी कोई यह कैंडी ऑफर कर दे तो न बोलने का मन नहीं होता। लॉलीपॉप के इतिहास की बात करें तो दावा किया जाता है कि अमेरिका के जॉर्ज स्मिथ ने 1908 में मॉडर्न लॉलीपॉप का अविष्कार किया था।

एडहेसिव टेप 

आम लोगों से लेकर कई बड़े बिजनेसों में भी यह टेप बड़े काम आती है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि टेप का अविष्कार एक सर्जन Dr. Horace Day ने 1845 में किया था। फिर 1901 में जर्मनी के Oscar Troplowitz ने Leukoplast नाम के एडहेसिव पैच का निर्माण किया और इतिहास बदल दिया।   


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।