आजाद के संघर्ष की असली कहानी है ‘राष्ट्रपुत्र’, 14 सितंबर को बायोपिक फिल्म हो रही रिलीज

By: jhansitimes.com
Jul 28 2018 09:26 pm
405

झांसी। भारत माता के वीर सपूत और शहीद क्रांतिकारी चंद्रशेखर तिवारी 'आजाद' के जीवन की असली कहानी पहली बार बड़े पर्दे पर सबके सामने आएगी। इसी साल 14 सितंबर 2018 को 26 भाषाओं में रिलीज हो रही आजाद की बायोपिक फिल्म ‘राष्ट्रपुत्र’ में आजाद और उनके परिवार की हालत कैसी थी ये सभी को फिल्म के माध्यम से बताया जाएगा। इसके अलावा आजाद हिंद फौज में 'आजाद' टाइटल क्यों दिया गया यह पहली बार लोगों को दिखाया जाएगा। यह जानकारी फिल्म के लेखक व निर्देशक आजाद ने दी।
आजाद मूल रूप से वाराणसी के रहने वाले हैं। वह आजाद से इतना ज्यादा प्रभावित थे कि उन्होंने अपना नाम आजाद ही रख लिया। आजाद ने बताया कि उन्होंने  ‘राष्ट्रपुत्र’ फिल्म की शूटिंग इलाहाबाद, लखनऊ, उन्नाव, झांसी में की थी। इसके अलावा फिल्म में कई सीन कानपुर के दिखाए जाएंगे जिस समय भगत सिंह की मुलाकात आजाद से होती है तब मशहूर पत्रकार और क्रांतिकारी गणेश शंकर विद्यार्थी देश की आजादी के लिए क्या रणनीतियां बनाते थे, ये सब कुछ फिल्म में दिखाया जाएगा। सोमवार 23 जुलाई को चंद्रशेखर आजाद की 112 वीं जयंती पर फिल्म स्टूडियो बॉम्बे टॉकीज ने ‘राष्ट्रपुत्र’ की रिलीज की घोषणा की। ‘राष्ट्रपुत्र’ चंद्रशेखर आज़ाद के व्यक्तित्व और कृतित्व पर आधारित है।

विदेश में भी रिलीज होगी 'राष्ट्रपुत्र'
सैनिक स्कूल, नासिक के छात्र लेखक-निर्देशक और अभिनेता आजाद ने चंद्रशेखर आज़ाद की जयंती पर उन्हें नमन करते हुए भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।  बॉम्बे टॉकीज ने अपनी बहुप्रतीक्षित फिल्म ‘‘राष्ट्रपुत्र’’ के मोशन पोस्टर का विमोचन किया और साथ ही ‘राष्ट्रपुत्र’ के वैश्विक रिलीज़ डेट के रूप में हिंदी दिवस 14 सितम्बर 2018 की घोषणा की।बॉम्बे टॉकीज़ करीब छह दशकों के अंतराल के बाद गिरीश घनश्याम दुबे के नेतृत्व में दोबारा सक्रिय होकर ‘राष्ट्रपुत्र’ के माध्यम से पुनरागमन कर रहा है। ’राष्ट्रपुत्र’ सैनिक विद्यालय के छात्र आज़ाद के द्वारा लिखित-निर्देशित-अभिनीत फिल्म है। यह फिल्म केवल भारत ही नहीं विदेश में भी रिलीज की जा रही है।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।