अखिलेश राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने की जिद पर क्यो डटे हुये हैं, जानिये इस बडे राज की वजह

By: jhansitimes.com
Jan 07 2017 02:15 pm
1585

सी एम अखिलेश यादव चुनावी दौर में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद न छोडने की जिद पर क्यों अडे हुये हैं जबकि उनको इसके कारण कपूत जैसे खिताब से नवाजने की कोशिशें हो रही हैं। क्या अखिलेश की महत्वाकांक्षी हविश इतनी बढ चुकी है कि वे अपने पिता को नीचा दिखाने की सीमा तक बढ गये हैं जबकि पिता ने उन्हे राजनीति में पूरी तरह जमाने के लिए अपने को पीछा करके सी एम का ताज उनके सिर पर रख दिया था। 

दूसरी ओर अखिलेश यादव का बार-बार यह कहना भी गौर तलब है कि  सिर्फ तीन महीने उन्हे राष्ट्रीय अध्यक्ष रहने दिया जाये। इसके बाद वे नेता जी को न केवल उनका पद् वापस कर देंगे बल्कि नेता जी चाहेंगे तो सारे पद् छोड़ कर एक किनारे हो जायेंगे । एक ओर पिता पुत्र के बीच कसम कौल की बाते, दूसरी ओर पार्टी और चुनाव चिन्ह पर वर्चस्व के लिए निर्वाचन आयोग का दरवाजा खटखटाने के मामले में तू डाल-डाल मैं पात-पात का खेल आखिर माजरा क्या है। 

जानकार बताते हैं कि अखिलेश का बागी नजर आ रहा स्टैण्ड इसलिए है कि उनके पास इस बात की जानकारी है कि अगर भावुकता में आकर चुनाव के पहले अध्यक्ष का पद् उन्होने पिता को वापस किया तो उनकी विमाता को मोहरा बनायें अमर सिंह और शिवपाल उनके जरिये नेता जी को मजबूर कर देंगे और उनके साथ टिकट वितरण में वही व्यवहार होगा जिसके होने के कारण राष्टी्रय सम्मेलन बुलाकर उन्हें नेता जी से पार्टी के सारे अधिकार अपने हाथ में लेने की तैयारी करनी पड़ी थी जिससे कानूनी तराजू पर उनका पलड़ा भारी हुआ है। राष्ट्रीय सम्मेलन के फैसले सें पीछंे होने पर उनके पास कोई तीर बचा नहीं रह पायेगा ।

अखिलेश को  यह भी मालूम हैं कि नेता जी के जरियें उन पर प्रोफेसर राम गोपाल यादव का साथ छोड़ने का दवाब इसलिए बनाया जा रहा है कि  वे निर्णायक तौर पर कमजोर पड़ जायें क्योकि पारिवारिक षड़यंत्र से पार पाने में राम गोपाल उनके लिए सबसे बड़े तारणहार साबित हुये हैं। 

अखिलेश केवल अपने राजनैतिक अस्तित्व को बचाने की सीमा तक पिता के दवाब का प्रतिकार कर रहे है लेकिन पिता की इज्जत बचाये रखने का भी उन्हें पूरा ख्याल है। राम गोपाल शुक्रवार को दिल्ली में आज ही चुनाव आयोग के सामने का राग जरूर अलापते रहें लेकिन गये-बये नही। इसमे अखिलेश का ही इशारा था क्यांेकि अखिलेश इस बात से पूरी तरह मुतमुईन हैं कि आखिर में नेता जी उनकी शर्तो पर झुक जायेंगे ताकि कोई समझौता हो सके। 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।