ये मॉडल बोली- करती हूं पतियों को खुश, 100 शादीशुदा मर्दों से बना चुकी संबंध

By: jhansitimes.com
Dec 06 2017 09:17 pm
600

शादी के बाद पार्टनर चाहते हैं कि एक-दूसरे के साथ वफादार रहें. वैसा ही प्यार करें जैसे शादी के पहले साल होता है. लेकिन एक पूर्व मॉडल और वित्तीय सलाहकार का मानना है कि शादी के बाद मर्द नाखुश रहते हैं और हमेशा निराश रहते हैं वो ऐसी महिला की तलाश करते हैं जो उनको टाइम दे पाएं. ऐसा मानना है पूर्व मॉडल ग्वेनेथ ली का. पति की मौत के बाद उन्होंने ऐसी चीज करने का फैसला लिया जिसने हर किसी को हैरानी में डाल दिया. आइए जानते हैं....

 100 से ज्यादा शादीशुदा मर्दों के साथ संबंध

मिरर की खबर के मुताबिक, उनके पति रॉबर्ट की 10 साल पहले कैंसर से मौत हो गई थी. जिसके बाद उन्होंने ऐसा फैसला लिया जिससे सभी हैरान रह गए. 47 साल की ये पूर्व मॉडल 100 से ज्यादा शादीशुदा मर्दों के साथ संबंध बना चुकी है. पार्टनर डेटिंग साइट इलिसिट एनकाउंटर पर उन्होंने साइन अप किया.

जो शादीशुदा लोगों के लिए मैच मेकिंग करने में स्पेशलाइज है. जहां वो शादीशुदा मर्दों के संपर्क में आईं. ली ने कहा- ''ये दुखी पतियों के लिए सही समाधान है. बहुत सी शादियां सिर्फ इसलिए टूट जाती हैं, क्योंकि इन पुरुषों को सपोर्ट करने वाला और वक्त देने वाले मेरे जैसा पार्टनर नहीं मिलता.''

ली का कहना है- ''किसी दूसरे से संबंध बनाना चीटिंग नहीं बल्कि पुरुष बरकरार रखने के लिए फिजिकल और मेंटल सपोर्ट चाहते हैं, जो उन्हें मैं देती हूं. शादी के सालों बाद महिलाएं बच्चों में बिजी हो जाती हैं. जिससे पतियों को टाइम नहीं दे पातीं. ऐसे में मर्द अकेले पड़ जाते हैं. मैं उनको सपोर्ट करती हूं. मैं उनके साथ घूमने जाती हूं, क्वालिटी टाइम स्पेंड करती हूं.''

डेटिंग साइट इलिसिट एनकाउंटर के जरिए वो 100 से ज्यादा शादीशुदा मर्दों से संबंध बना चुकी हैं. वहां ज्यादातर अमीर बिजनेसमैन होते हैं जिनकी सैलेरी कम से कम 52 हजार यूरो होती है. उनकी मानना है कि ऐसा करने में कोई पछतावा नहीं है. बल्कि वो संबंध बनाकर पति-पत्नी के बीच के रिश्ते को और भी मजबूत कर रही हैं.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।