इन वजहों से होते हैं बलात्कार, हैवान रुपी इंसान बेटियों की जिंदगी कर रहा बर्बाद

By: jhansitimes.com
Apr 28 2018 03:48 pm
517

चिंतन की बात है कि आखिर समाज में लोगों की मानसिकता ऐसी क्यों है कि वो हैवान बन बैठा है. इन कारणों के बारे में जब आप गौर फरमाएंगे तो आपका दिमाग ठनक जाएगा. यकीनन कहीं ना कहीं ये कुछ बलात्कार की वजहें है जिनसे इंसान हैवान बन बैठता है. कुकर्म करने पर मजबूर महिलाओं का दुश्मन बन जाता है. देश को आजाद हुए जमाने हो गए है. लेकिन हमारे समाज में आज भी हमारी ही मां, बहन, बेटी आजाद नहीं है. हर दिन बलात्कार के दर्दनाक मामले सामने आते रहते हैं. छोटी-छोटी बच्चियां इंसान रुपी हैवान का शिकार होकर अपनी जिंदगी गवा देती है. दिन के समय में भी महिलाओं का घर से निकलना सुरक्षित नहीं लगता.

1. एकांत में मवालियों का अड्डा

गांव हो या फिर शहर इन जगहों पर बने पुराने खंडहरों कि जब कोई सुध लेने वाला नहीं रहता तब ये एकांत जगह आपराधिक किस्म वाले लोगों और आवारा मवालियों का अड्डा बन जाया करता है. बिगड़ैल अमीरजादों की बात करें तो उनके लिए उनके फार्म हाउस अपने गलत मंसूबों को अंजाम देने का अड्डा बना करता है. जबकि पुराने एकांत खंडहरों में झुग्गी बस्ती में रहने वाले अपराधिक तत्वों के व्यक्ति अपना अड्डा बनाया करते हैं. दौलतमंद लोगों की बात करें तो हर कोई बड़े-बड़े फार्म हाउस अपने लिए बनाते हैं. पुलिस और प्रशासन से दूर इन जगहों पर किस तरह के कार्यों को अंजाम दिया जाता है इसकी सुध लेने वाला कोई नहीं होता. ऐसे में इंसान रुपी चोला पहने हैवान अपने करतूतों को बेफिक्री से अंजाम देते रहते हैं. ये जगह ऐसे होते हैं जहां महिलाओं के साथ जबरन बलात्कार हो जाए और वह चीखती-चिल्लाती रह जाए तो भी कोई भी आवाज सुनकर नहीं पहुंच पाता. देश में 60 फ़ीसदी केस बलात्कार के इसी तरह के मामले सामने आए हैं.

2. लचर कानून व्यवस्था

इस बात को तो हर देशवासी मानता है कि हमारा कानून व्यवस्था काफी लचर-पचर है. कानून अगर पूरी तरह से सख्त हो तो आपराधिक मामले काफी हद तक कम हो जाते हैं. अपराधी को सजा मिलने में काफी देरी होती है. कई बार पीड़ित को इंसाफ मिलने में ताउम्र लग जाती है. बावजूद इसके कई बार कानून फैसला कर पाने में असमर्थ रह जाता है.  पुलिस हो या प्रशासन वो कमजोर नहीं है बल्कि कमजोर है उनकी इच्छा शक्ति. कई बार आप यूं कह सकते हैं कि लालच की वजह से भी दौलतमंदों के सामने प्रशासनिक शिथिलता देखने को मिलती है. अपराधियों को जेल की सलाखों के बजाए गलियारों में ले जाने का काम करती है. पुलिस की लाठी बस और लाचार लोगों पर जुल्म ढाने का काम करती है. कमजोर कानून की वजह से अपराधी आसानी से बच निकलने में सफल हो जाते हैं तो कई बार सबूत के अभाव में अपराधी को सजा नहीं मिल पाता और वे आजादी से चैन की सांस लेते रहते हैं.

3. पुरुषों की मानसिक दुर्बलता

इस पुरुष प्रधान समाज में पुरुषों के दिमाग में महिलाओं के लिए वैसे ही बहुत अच्छी सोच नहीं होती. ऊपर से सोशल मीडिया के इस चलन में लोग जब चाहे जहां चाहे और जो चाहे आसानी से देख सकता है. इंटरनेट पर उत्तेजक और घटिया फोटोज जब शेयर किए जाते हैं तो उस पर आने वाले गंदे कमेंट्स पुरुषों की गंदी मानसिकता को दर्शाने का काम करती है. उत्तेजक किताबें पढ़कर और पोर्न फिल्मों को देखकर पुरुषों की सोच और भी दुर्बल हो जाती है. वे अपनी उत्तेजना पर काबू पाने में असमर्थ हो जाते हैं और बलात्कार जैसे कुकर्म को अंजाम दे बैठते हैं.

4. महिलाओं का कमज़ोर आत्मविश्वास

महिलाएं अगर आत्मविश्वास से भरी हो तो कोई भी पुरुष उनसे टक्कर लेने से पहले हजार बार सोचेगा. साथ ही सभी महिलाओं को शारीरिक रूप से सबल होना चाहिए ताकि कोई भी विपरीत परिस्थिति हो उससे अपने आप को बचा पाने में सक्षम हो सके. जिस तरह बलात्कार की घटनाएं होती है ऐसे में हर किसी को अपनी बेटियों को निडर बनाने की आवश्यकता है और उन्हें विपरीत परिस्थितियों से लड़ने की ट्रेनिंग देने की आवश्यकता है.

5. फैलता नशा

नशे की हालत में इंसान इंसान नहीं रह जाता वो अपना नियंत्रण खो बैठता है. नशे की हालत में व्यक्ति के बहकने की संभावनाएं सौ फ़ीसदी बढ़ जाती है. ऐसे में किसी महिला को देखकर उसका हवस प्रबल हो जाए तो कोई बड़ी बात नहीं. रिपोर्ट के अनुसार 85 फ़ीसदी बलात्कार के मामले ऐसे होते हैं जिसके पीछे की मुख्य वजह नशा है.

 अंत में मैं अपने देशवासियों से यही कहना चाहूंगी कि बलात्कारियों को धर्म और मजहब के चश्मे से ना देख कर इंसानियत के नाते देखें. बलात्कारी किसी भी धर्म या मजहब वाले हो सकते हैं. आवश्यकता है कि हम सब एक होकर समाज को बलात्कारियों से निजात दिलाएं. आवश्यकता इस बात की भी है कि हम अपनी बहन बेटियों को इतने सक्षम बनाएं कि किसी भी विपरीत परिस्थिति से वो निपट सके और इससे भी अधिक आवश्यकता इस बात की है कि हम अपने बेटों को ऐसी शिक्षा दें कि वह समाज से बुराइयों को मिटाने की सोचे ना कि बुराइयों फैलाने की.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।