ये बीज तो पौरुष शक्ति बढ़ाते है, इन 12 रोगों में भी वरदान

By: jhansitimes.com
Nov 30 2017 08:29 pm
716

पपीता हमारी सेहत के लिए बहुत ज्यादा ही फायदेमंद हैं यह तो आप जानते ही होंगे लेकिन क्या आप जानते है की अगर पपीता के बीज का सेवन आप करेंगे तो आपको कितने फायदे हो सकते हैं। अगर आप नहीं जानते हैं तो यह आर्टिकल अंत तक पढ़े इसके बाद आपको मालूम हो जाएगा की यह आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकता हैं।

पपीता बीज के अद्भुत ५ फ़ायदे :

कैंसर का खतरा : पपीता बीज में ऐसे एजेंट होते हैं जो कैंसर कोशिकाओं और ट्यूमर के विकास को रोकते हैं। इसमें इसोथाइसाइनेट शामिल है जो कोलन, फेफड़े, ल्यूकेमिया और प्रोस्टेट कैंसर के लिए अच्छा काम करता है।

परजीवी नाशक : पपीता के बीज में "कार्पाइन" नामक एक क्षारीय पदार्थ होता है जो आंतों की कीड़े और अमीबा परजीवी को मारता है। जबकि पपीता फल प्रोटीन को मेटाबोलाइज करने में मदद करता है और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट पर परजीवी रहने और विकसित करने के लिए एक अत्यंत प्रतिकूल जगह बनाता है। अध्ययनों से पता चला है कि नाइजीरिया के बच्चों ने 7 दिनों के लिए पपीता बीज का रस लेने के समय 75% बार अपनी आंत में परजीवी से छुटकारा दिलाया है।

लिवर : पपीता के बीज में महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते हैं जो जिगर के सिरोसिस को ठीक करने में मदद करते हैं। 5-6 पपीता बीज को पीसकर क्रश करें और उन्हें भोजन या रस के साथ। विशेष रूप से चूने का रस भी दें। यह 30 दिनों के लिए किया जाना चाहिए। इसके अलावा जिन्हें यकृत रोग रहता है, उन्हें पपीता के बीज की छोटी मात्रा में नियमित रूप से सेवन करने से मदद मिलती है।

किडनी : कराची विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने पाया है कि पपीता बीज का उपयोग गुर्दा स्वास्थ्य में सुधार और गुर्दे की विफलता को रोकने के लिए किया जा सकता है। यही काम करता है कि गुर्दे की जहर संबंधी बीमारियों के लिए चमत्कार।

एंटी-सूजन : पपीता बीज गहनों, जोड़ों की बीमारी, सूजन, दर्द और लालिमा को कम करने के लिए उन्हें बहुत अच्छा बनाता है।

पपीता बीज और शहद के ७ अद्भुत फ़ायदे : 

पपीता बीज और शहद के मिश्रण की विधि : 

सबसे पहले २ टी स्पून पपीते के बीज लें, इसमें एक टी स्पून शहद मिलाएँ फिर इन्हें अच्छी तरह मिलाएँ और रोज सुबह खाली पेट इसका सेवन करें इससे आपको स्वस्थ्य के बहुत सारे लाभ होंगे।

बॉडी को करे डेटोक्स : पपीते के बीज और शहद के मिश्रण में कई पावरफुल एसिड्स और एंटी-ओक्सीडेंट्स होते हैं जिससे पेट में और शरीर के अन्य अंगों में मौजूद जहरीले पदार्थ बाहर निकलते हैं इसका मतलब यह है की यह आपकी बॉडी की साड़ी गन्दी बाहर निकालकर आपके शरीर को डेटोक्स करके आपको रोग मुक्त करता है।

पेट केकीड़े मरते हैं : पेट के कीड़े किसी भी उम्र में हो जाते हिन्इ फिर चाहे वो बचपना हो या बुढापा क्योकि इसमें एसिड की अधिकता होती है इसलिए पेट के पाचन तंत्र को प्रभावित करने वाले कीड़ों को मारने का यह एक बेहतरीन नुस्खा हैं इससे आसानी से आपके पेट कीड़े मर जाते हैं।

वजन कम करने में सहायक : अगर आप अपने बढ़ते वज़न से परेशान हैं तो आप इसके नुस्खे  का लाभ ईज़िली उठा सकते हैं पपीते के बीज और शहद में कई लिपिड और पोटेशियम होते हैं जो कि पाचन क्रिया को बढ़ाते हैं जिससे यह वजन कम होता हैं वज़न कम करने के लिए मेटाबोलिज्म अच्छा होना चाहिए तभी आपका वज़न कम हो सकता हैं इसीलिए इसक सेवन आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा।

मसल्स निर्माण में मददगार : प्रोटीन की अधिकता वाले इस मिश्रण का रोजाना सेवन करने से, मांसपेशियों के ऊतकों का निर्माण होता है और आपकी शेप अच्छी दिखती है तो अगर आप जिम कर रहे है तो आप इसका सेवन कर के अपनी बॉडी को फिट रख सकते हैं।

थकान को बाय : क्या ऐसा होता हैं की सुबह पूरी नींद लेने के बाद भी आपको थकान महसूस होती रहती हैं जिसके कारण आप कोई भी काम ठीक से नहीं कर पाते हैं या आपको हर वक़्त थकान महसूस होती रहती हैं अगर ऐसा है तो आप इस नुस्खे का सेवन करे इस मिश्रण में ग्लूकोसिनॉलेट्स होते हैं, जो थकान को दूर करते हैं और शरीर की कोशिकाओं को पोषण प्रदान करते हैं और आप एनर्जेटिक बने रहते है।

मौसमी बुखार से अब ना डरे : कुछ लोग ऐसे होते हैं जिन्हें मौसम बदलते ही बुखार की शिकायत हो जाती हैं इससे बचने के लिए इस प्राकृतिक मिश्रण में एंटी-ओक्सीडेंट्स भरपूर होते हैं इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, और इन्फेक्शन व वायरल से लड़ने में मददगार है जिससे आप इस मौसमी बुखार से बचे रहते है।

पुरुषों में क्षमता बढाए : पपीते के बीजों में कई एंजाइम्स होते हैं जिससे यह पुरुषों में शक्ति वृद्धि करता है, और क्षमता को बढ़ाता है तो अगर आप कमज़ोरी की समस्या से पीड़ित हैं तो इसका सेवन कर आप अपनी यह समस्या खत्म कर सकते हैं।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।