यकीन न हो लेकिन पूरी तरह सच, आज भी इन घिनौने तरीकों से कराई जाती है लड़कियों की वर्जिनिटी !

By: jhansitimes.com
Apr 13 2018 09:23 am
1059

दुनिया के कई हिस्सों में आज भी महिलाओं के खिलाफ तरह-तरह की घिनौनी करतूत खुले तौर पे की जाती रहती है| सारा समाज मूकदर्शक बनकर मज़े लेने और उन घिनौने करतूतों को रोकने के बजाए बढ़ावा देने का काम करता  है. भला करे भी क्यों नहीं, आखिर वो भी तो उसी समाज के हिस्सों में से होते हैं| 

आज मै आपको लड़कियों की वर्जिनिटी टेस्ट के बारे में जो कुछ बताने जा रही हूँ आपको शायद उसपे यकीन न हो लेकिन पूरी तरह सच है, हो सकता है की आपने इसके बारे में पहले भी कभी किसी से सुना होगा या फिर कहीं पढ़ा होगा. और आप सोचेंगे की ये सदियों पुरानी बात होगी लेकिन ऐसा नहीं हैं क्योंकि ऐसा आज भी निरंतर कई समाज में चला आ रहा हैं.

महिलाओं के प्रति इस अमानवीय व्यवहार को जानकर आपका दिल भी पसीज जाएगा. आज भी इन घिनौने तरीकों से लड़कियों की वर्जिनिटी टेस्ट कराइ जाती हैं और महिलाएं पीड़िता बनकर अपने ऊपर होनेवाले जुर्म के खिलाफ एक आवाज़ तक नहीं लगा पाती हैं. आज भले ही हमने चांद और मंगल की दूरी तय कर ली हो लेकिन जब घटिया सोच की बात की जाए तो उससे हम उबर नहीं पाए हैं.

आज के उन्नत समाज में भी लड़कियों की वर्जिनिटी को उसके संस्कारों से जोड़ा जाता है. शादी की बात जैसे ही आती है तो मामला उसकी वर्जिनिटी पर अटक कर रह जाता है. नासिक और बेंगलुरु की बात करें तो यहां भी कुछ ऐसा ही है. लड़की की शादी से पहले ये जानकारी हासिल करना बड़ा मुद्दा होता है कि अपनी गर्लफ्रेंड या फिर अपनी पत्नी की वर्जिनिटी के बारे में पता कैसे लगा सके? जबकि इसका एक मात्र जवाब है कि ऐसा कोई भी तरीका है ही नहीं.

साइंस ने इतनी प्रगति कर ली है बावजूद इसके हमारी धारणा यही कहती है कि जब कोई लड़की पहली बार शारीरिक संबंध बनाती है तो उस समय ब्लीडिंग होना अनिवार्य है. लेकिन सच तो ये है कि ये धारणा पूरी तरह गलत है. खैर इस बारे में यहां हम ज्यादा बात नहीं करेंगे क्योंकि यहां हम आपको बता रहे हैं कि आज के समय में भी कइ ऐसे समुदाय हैं जहां लड़कियों की वर्जिनिटी टेस्ट करने के लिए बेहद घिलौने तरीके अपनाए जाते हैं.

स्कॉलरशिप के लिए वर्जिनिटी टेस्ट

इसके बारे में शायद आपने पहले कभी नहीं सुना होगा. ये बात आपको हैरान कर देगी लेकिन सच है. हम भारत देश की बात नहीं कर रहे हैं बल्कि साउथ अफ्रीका के उथूकेलख में मौजूद स्कूल और कॉलेज में पढ़ने वाली लड़कियों को उस जिला की जो महिला मेयर है, वो स्कॉलरशिप देती है. जिन लड़कियों को ये स्कॉलरशिप चाहिए होता है उसे वर्जिनिटी टेस्ट देना पड़ता है. साफ तौर पर कहे तो स्कॉलरशिप पाने के लिए लड़कियों की वर्जिनिटी टेस्ट देना होता है अगर उसमें पास हो गई तो उन्हें स्कॉलरशिप मिलता है अथवा नहीं.

शादी के बाद वर्जिनिटी टेस्ट

शादी के बाद लड़का लड़की को एक कमरे में भेज दिया जाता है उस कमरे से पहले से ही नुकीली चीजें बाहर निकाल दी जाती है. लड़की की चूड़ियों को गिनकर कपड़े से बांध दिए जाते हैं. और अब बारी आती है लड़के के कमरे में जाने की तो लड़का अपने साथ एक सफेद चादर लेकर जाता है. कुछ समय बाद लड़का वो सफेद चादर अपने साथ लेकर बाहर आता है. उस चादर पर अगर खून के निशान है तो इसका मतलब है कि लड़की वर्जिन है यानी कि कुंवारी है. लेकिन अगर चादर पर खून के निशान नहीं है तो इसका मतलब ये निकाला जाता है कि लड़की ने शादी से पहले भी किसी और के साथ शारीरिक संबंध बनाए हैं और वो लड़की ‘खराब’ है.

अगर लड़की इस टेस्ट में पास हो गई फिर तो ठीक है नहीं तो समाज में हर तरीके से उसे प्रताड़ित किया जाता है. उसके साथ मारपीट की जाती है. और लड़की पर इस बात का काफी दबाव डाला जाता है कि वह लड़का कौन था जिसके साथ तुमने संबंध बनाए थे. ऐसे में अगर वो लड़की गलती से भी किसी लड़के का नाम ले लेती है तो उस लड़के को घसीटकर पंचायत के सामने लाया जाता है और उस पर कई तरह के दंड लगाए जाते हैं जिसमें आर्थिक दंड भी शामिल होते हैं. उसके घरों में तोड़-फोड़ मचाई जाती है. इतना ही नहीं लड़की के मायके वालों पर भी आर्थिक दंड लगाया जाता है और कई बार तो लड़का उस दुल्हन को हमेशा के लिए ठुकरा भी देता है ये कहकर कि वो कुंवारी नहीं है.

दोस्तों बता दें कि इस तरह की प्रथा कंजरभाट समाज में लगातार चली आ रही है. भारत देश के महाराष्ट्र में इस समुदाय की आबादी लगभग 50,000 की है. ना सिर्फ महाराष्ट्र में बल्कि देश के दूसरे हिस्से में भी ये होते हैं. जैसे दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान और गुजरात में.

सफेद कपड़े में समेट कर रखते हैं

मिस्र और सऊदी अरब जैसे कई मुस्लिम देशों में लड़कियों की वर्जिनिटी टेस्ट करने की एक प्रथा निरंतर चली आ रही है जिसमें शादी के दिन ही दुल्हन को अपने अंगूठे को एक सफेद कपड़े में लपेटना होता है और उस अंगूठे को अपनी योनि में डालना होता है. कुछ समय बाद बाहर निकालने पर उस कपड़े पर अगर खून लगा हुआ होता है तो इसका मतलब होता है कि लड़की वर्जिन है नहीं तो वर्जिन नहीं है. मतलब कि उसने पहले भी किसी के साथ शारीरिक संबंध बनाए हैं.

 

लड़के के स्कार्फ के साथ

यूथोपियन कल्चर में जिस लड़के की शादी होती है उसके स्कार्फ के ऊपर सुहागरात मनाने के लिए कहा जाता है. सुहागरात के बाद अगर उस स्कार्फ पर खून के निशान मिलते हैं तब तो ठीक है. लेकिन अगर खून के निशान नहीं दिखते हैं तो उसके साथ काफी मारपीट की जाती है.

पानी के अंदर सांस रोक कर रहना

भारत देश के कई समुदाय ऐसे हैं जहां लड़कियों की वर्जिनिटी टेस्ट के लिए अजीबो-गरीब तरीके अपनाए जाते हैं. इसी में एक है महिला को पानी के अंदर सांस रोककर तब तक रहना होता है जब तक बाहर एक व्यक्ति सौ कदम चले. जो महिला इस टेस्ट में पास हो जाती है उसे कुंवारी मान लिया जाता है नहीं तो उसे अपवित्र समझा जाता है.

कितने आश्चर्य की बात है कि आज हम अपने आप को उन्नत और हाई क्लास सोच वाले मानते हैं. 21वीं सदी में पहुंचने के बावजूद कई देशों के कई समुदायों में लड़कियों की वर्जिनिटी को उसकी पवित्रता के साथ जोड़ा जाता है.

ना जाने इस तरह के समाज और उनके घटिया सोचों में बदलाव कब तक आ पाएगा ? आखिर महिलाएं ही इस तरह की वर्जिनिटी टेस्ट की प्रथाओं का शिकार क्यों होती है ? आखिर पुरुष से कोई इस तरह के सवाल क्यों नहीं करता ? घिन आती है हमें ऐसी घटिया सोच रखने वाले पुरुष प्रधान समाज से, जहां महिलाओं को मात्र इस्तेमाल की वस्तु समझा जाए|  


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।