प्रचार खत्म होते ही अपने संसदीय क्षेत्र में पहुंची केन्द्रीय मंत्री उमा भारती, अब नहीं देना पड़ेग

By: jhansitimes.com
Nov 25 2017 11:11 am
2341

(रिपोर्ट-नितिन गिरि/कृष्णा) ललितपुर। जहां एक ओर भारतीय जनता पार्टी के आलाकमान से लेकर दिग्गज स्थानीय निकाय चुनाव में जीत हासिल करने के लिए कार्यकर्ताओं की नाराजगी दूर करने और प्रत्याशी को जीत दिलाने के लिए ताबड़तोड़ सभायें कर रहे है तो वहीं केन्द्रीय मंत्री/झांसी-ललितपुर सांसद उमा भारती पूरे चुनाव प्रचार से दूरी बनाए रहीं। इतना ही नहीं 24 नवम्बर को झांसी में हुई सीएम योगी आदित्यनाथ की रैली से भी दूरी बनाई है। राजनैतिक गलियारों में उमा भारती चर्चा का विषय बनी हुई है। हालांकि वह प्रचार से ही नहीं बल्कि सांसद बनने के बाद यदा-कदा ही अपने संसदीय क्षेत्र में नजर आ रही है। 

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश में स्थानीय निकाय चुनाव की बेला चल रही है। जिसमें भाजपा, बसपा, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी व आम आदमी पार्टी ताल ठोक रहीं हैं। स्थानीय निकाय चुनाव का 26 नवम्बर को दूसरा चरण है। जिसमें बुन्देलखंड का ललितपुर जनपद शामिल है। ललितपुर जनपद केन्द्रीय मंत्री उमा भारती के संसदीय क्षेत्र में है। वह अपनी पार्टी के प्रत्याशियों के पूरे प्रचार-प्रसार में नजर नहीं आई हैं। लेकिन जब प्रचार-प्रसार थम गया तब वह संसदीय क्षेत्र में पहुंची है।

ऐसा ही हाल झांसी जनपद में नजर आ रहा है। ससंदीय क्षेत्र के प्रत्याशियों से उमा भारती का दूरी बनाये रखना और अब अचानक प्रचार-प्रसार थमने के बाद उनका पहुंचना, कई सवाल खड़े कर रहा है। हालांकि सीएम योगी की चुनावी जनसभा से दूरी बनाने के बाद उमा भारती आज जरुर झांसी पहुंची हैं। जहां वह प्रचार कर खानापूर्ति करेंगी। 

सवाल नम्बर 1- स्थानीय निकाय चुनाव में प्रत्याशियों के प्रचार-प्रसार से दूरी बनाने का कारण कहीं उनके उम्मीदवारों को टिकट न मिलना तो नहीं?

सवाल नम्बर 2- झांसी/ललितपुर संसदीय क्षेत्र के चुनने और केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद वह यदा-कदा ही अपने संसदीय क्षेत्र में नजर आती है। जिससे जनता उनसे सवाल न पूछे। कहीं इसी लिए तो वह अपने संसदीय क्षेत्र में प्रचार करने नहीं पहुंची। 

ऐसे ही कई सवाल है, जिनको लेकर उनके संसदीय क्षेत्र और राजनैतिक गलियारों से निकलकर सामने आ रहे है। जिसका संतोषजनक जवाब न तो उमा भारती के पास और न ही पार्टी के किसी अन्य बड़े नेता के पास। स्थानीय निकाय चुनाव में झांसी/ललितपुर संसदीय क्षेत्र के प्रत्याशियों के प्रचार-प्रसार से उमा भारती की यह दूरी कहीं पार्टी के नुकसान का कारण न बन जाये। फिलहाल यह तो आने वाली 1 दिसम्बर ही तय करेंगी। क्योंकि संसदीय क्षेत्र से पलायन आज भी जारी है...। 

रोजगार को लोग तरस रहे है...


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।