UP: एक हफ्ते मां और उसके दो बच्‍चों की भूख से मौत! सरकार ने बताई- फूड प्वॉइजनिंग थी वजह

By: jhansitimes.com
Sep 14 2018 07:58 am
296

लखनऊ: एक हफ़्ते के अंदर एक मां और उसके दो बच्चों की यूपी के कुशीनगर जिले में भूख और कुपोषण से मौत हो गई है. ऐसा गांववालों का दावा है. हालाकि सरकार का कहना है कि उनकी मौत फूड प्वॉइजनिंग से हुई है. यूपी देश के सबसे ज्यादा कुपोषित राज्यों में से एक है और पहले भी यहां भूख से मौतों की ख़बरें आती रही हैं. आपको बता दे कि ये मौतें तब हुई है जब यूपी सरकार 'राष्‍ट्रीय पोषण माह' मना रही है. 

कुशीनगर में एक घर से एक हफ्ते में तीन अर्थियां उठ गई हैं और 30 साल की संगीता और उसका आठ साल का बेटा सूरज गुरुवार को मर गए. संगीता के दो महीने की बेटी मंगलवार को चल बसी. सरकार कहती है कि मौत की वजह भूख नहीं डाइरिया और फूड प्वॉइजनिंग है लेकिन ये उनकी घर की हालत गरीबी की इंतेहा बयां करती है. उनके पास राशन कार्ड तो है लेकिन घर में अनाज का एक दाना नहीं है. 

संगीता का पति 35 साल का पति दिहाड़ी मजदूर है. वो मूशहर जाति के है जो अनूसूचित जाति है. संगीता के पति वीरेंद्र का कहना है कि मैं घर में नहीं था. मैंने पूरे दिन कुछ खाया नहीं है. मेरे पास मनरेगा का जॉब कार्ड है लेकिन मुझे एक साल से कोई काम नहीं मिला है. प्रधान दिनेश वर्मा ने कहा कि पिछले महीने उन्‍हें राशन कार्ड मिला था. इस महीने राशन अभी नहीं बंटा है. इसमें कोई शक नहीं की परिवार बहुत गरीब है.  भूख से मौत की खबरें कई बार आती हैं लेकिन हमेशा विपक्ष उसे सही और सरकार गलत ठहराती है. सरकार कहती है कि उन्‍होंने मामूली दर पर राशन मिलता है इसलिए मौत की वजह भूख नहीं हो सकती. 

इस मामले में उपमुख्‍यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा है कि जिला प्रशासन का कहना है कि मौत फूड प्वॉइजनिंग की वजह से हुई है लेकिन पोस्‍टमार्टम की रिपोर्ट नहीं है. उधर, कुशीनगर के चीफ मेडिकल ऑफिसर हरिनारायण सिंह का कहना है कि इससे इनकार नहीं किया जा सकता कि वे गरीब हैं लेकिन उनकी मौत इसलिए हुई है क्‍योंकि उनका खान-पान सही नहीं था.  

एक तरफ कुपोषण और गरीबी से मौत हैं तो दूसरी तरफ सरकारी पीडीएस सिस्‍टम के घोटाले है. मुलायम और मायवती के वक्‍त के खड़े घोटालों की सीबीआई जांच हो रही है. योगी सरकार में तीन महीने में 30 करोड़ का राशन का अनाज बाजार में बेच दिया गया. उधर, अफसर कहते हैं कि उनके खाने-पीने की आदतें सही नहीं है इसलिए मर गए. 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।