कई-कई दिन तक पहनते हैं गंदे अंडरगारमेंट्स तो हो जाये सावधान, होते हैं ये रोग

By: jhansitimes.com
Jan 26 2018 01:04 pm
287

ना ना इसमें शर्माने वाली कोई बात नहीं है। कई लोगों को गंदे अंडरगारमेंट्स पहनने की आदत होती है। खासकर लड़कियां ब्रा और लड़के बनियान दो-दो, तीन-तीन दिन तक एक ही पहनते हैं। ठंड में तो इन दिनों में बढ़ोतरी होते जाती है।

अगर आप भी ऐसा करते हैं तो सावधान हो जाएं। क्योंकि ये अंडरगारमेंट्स कई सारे रोगों को भी बुलावा देते हैं।

गंदे अंदरगारमेंट्स

गंदे अंडरगारमेंट्स काफी ज्यादा अनहाइज़ीन और अनहेल्दी होते हैं। अब ये उसी तरह से ही जैसे कि आप नहाते नहीं है तो धीरे-धीरे आपका शरीर गंदा होने लगता है। ऐसा ही अंडरगारमेंट्स के साथ भी होता है। धूप व हवा से दूर रहने और जननंगों के लगातार संपर्क में बने रहने के कारण अंडरगार्मेंट्स में बहुत से कीटाणु पनप लगते हैं जो कई सारी बीमारियों को न्यौता देते हैं। इसके साथ ही गंदे अंडरगार्मेंट प्राइवेट पार्ट्स के संपर्क में आकर उन हिस्सों में इंफेक्शन फैलाने का भी काम करते हैं।

होती हैं ये बीमारियां

किसी के घर जाने के दौरान या फिर ठंड में ही नहाना स्कीप के कारण लोग अंडरगारमेंट्स तक नहीं बदलते। जबकि अंडरगारमेंट्स हर दिन बदलने चाहिए। अगर आप भी ऐसा करते हैं तो सतर्क हो जाएं क्योंक इससे किडनी स्टोन और यूटीआई जैसी गंभीर बीमारियां होती हैं। इन बीमारियों के बारे में जानें और आज से ही गंदे अंडरगारमेंट्स पहनने की अपनी आदत में बदलाव करें।

गंदे अंडरगार्मेंट से हो सकती है किडनी में पथरी

आजकल किडनी स्टोन की समस्या काफी आम हो गई है। इनके मरीजों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। किडनी स्टोन में गुर्दों में पथरी हो जाती है और असहनीय दर्द होता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह बीमारी गंदे अंडरगार्मेंट पहनने से भी होती है। गंदे अंडरगार्मेंट पहनने से गुप्तांग में इंफेक्शन होने का खतरा भी बना रहता है, जिससे किडनी में स्टोन भी हो सकता है। अगर आप दो या तीन दिन में अपनी पैंटी नहीं बदलते हैं तो पैंटी की गंदगी ब्लैडर में चली जाती है, जो किडनी स्टोन का कारण बनती है। किडनी रोग विशेषज्ञ डॉ. रोहित कुमार के अनुसार असुरक्षित यौन संबंध और अंडर गारमेंट की नियमित सफाई न करने पर किडनी में पथरी या संक्रमण का खतरा रहता है।

हो सकता है यूटीआई भी

गंदे अंडरगार्मेंट्स की वजह से यूटीआई की भी समस्या होती है। अगर आप गंदे अंडरगारमेंट्स पहनने के आदी हैं और साफ-सफाई के अभाव वाले टॉयलेट्स भी यूज़ करते हैं तो यूटीआई होने की संभावना बढ़ जाती है। इसके अलावा दूषित भोजन व पानी के संपर्क में आने से हानिकारक कीटाणु यूरेथ्रा में प्रवेश कर जाते हैं और इंफेक्शन बढ़ाते हैं। इसलिए रोज साफ अंडरगार्मेंट पहनने चाहिए और गंदे अंडरगारमेंट्स को धूप में जरूर सुखाने चाहिए।

होता है स्किन इंफेक्शन का भी खतरा

गंदे अंडरगार्मेंट्स पहनने से सबसे स्किन को नुकसान पहुंचता है और स्किन इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। दूसरे ही दिन के बाद अंडरगारमेंट्स में कीटाणु पनपने लगते हैं, जिससे स्किन संक्रमित हो जाती है और गुप्तांग में खुजली और रैशेज होने की समस्या पैदा हो जाती है। इसलिए हमेशा अंडरगारमेंट्स साफ-सुथरे पहनने चाहिए।

हेपिटाइटिस बीमारी

कई बार गंदे अंडरगार्मेंट्स हेपिटाइटिस बीमारी का भी कारण बन जाते हैं। क्योंकि गंदे अंडरवियर के बैक्टीरिया लिवर को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं जिससे आपको हेपिटाइटिस बीमारी के भी होने का खतरा बढ़ जाता है।

ये रोग होते है गंदे अंडरगारमेंट्स पहनने से –

 इन सारी बीमारियों से बचने के लिए रोज साफ-सुथरे अंडरगार्मेंट्स पहनें। अगर रोज नहा नहीं सकते तो कम से कम अंडरगारमेंट्स चेंज कर लें। अगर आप रोज साफ-सुथरे अंडरगार्मेंट्स चेंज करके पहनेंगे तो इन सारी बीमारियों से बचे रहेंगे और हेल्दी लाइफ जी सकेंगे। वैसे भी गंदे अंडर गारमेंट्स पहनना अच्छी आदत नहीं है। इसलिए आज ही अपने आदत में बदलाव करिए और फिर जिएं हेल्दी लाइफ।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।