क्या बीजेपी सांसदों और विधायकों ने विवादित बयानों पर कर रखी है पीएचडी !

By: jhansitimes.com
Jun 12 2019 11:20 am
117

देश में नई सरकार ने सत्ता संभाल ली...एक बार फिर नरेंद्र मोदी ने देश की बागड़ोर प्रचंड बहुमत के साथ संभाली और विपक्ष के सारे समीकरण धरे के धरे रह गए...जातिय समीकरण खंड खंड हो गए...देश ने एक बार फिर पूर्ण बहुमत की सरकार बनते देखा...

लेकिन अफसोस की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लाख नसीहतों के बाद भी उनके नेताओं की ना तो भाषा संयमित हो पाई और ना ही स्वभाव...जिसका खामियाजा कहीं ना कही पीएम मोदी को फेस करना पड़ा है...बीजेपी के बयानवीरों की ही देन है कि विपक्ष लगातार सरकार को घेरने में लगा हुआ है...बावजूद इसके बीजेपी के माननियों के विवादित बयान रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं....जो कि सरकार और संगठन दोनो के लिए ठीक नहीं हैं...

आईए जानते है बीजेपी के कुछ बयानवीरों के बारे में जो कि पूर्व और वर्तमान में अपने कामों के लिए कम बयानो के लिए ज्यादा सुर्खियों में रहे...

बीजेपी के ललितपुर से विधायक रामरतन कुशवाहा जी..जिनके वर्मान विवादित बयान ने सूबे की राजनीति को खूब गरमा दिया है...दरअसल बीजेपी सांसद अनुराग शर्मा के सम्मान कार्यक्रम के दौरान सरकारी कर्मचारियों को लेकर विधायक जी ने ऐसा बयान दिया कि अब उस पर जवाब देना भारी पड़ रहा है...बीजेपी विधायक कुशवाहा जी ने कहा कि, "अभी प्रदेश में जो सरकारी कर्मचारी हैं, अगर महीने-दो महीने में ठीक नहीं होते हैं और हमारे कार्यकर्ताओं का सम्मान नहीं करते तो मैं कहता हूं कि जूता उतारिए और मारिए, क्योंकि एक सीमा होती है बर्दाश्त करने की."

मजे कि बात ये है कि कुशवाहा जी यहीं चुप नहीं हुए, उन्होंने आगे कहा कि, "सपा-बसपा की मानसिकता के अधिकारी हैं, जिन्होंने चुनाव के समय भी बदतमीजी की थी...हमारे कार्यकर्ता को हड़काया था और सदस्यता के लिए मजबूर किया था." उन्होंने आगे कहा कि उनके पास ऐसे पुलिस और राजस्व कर्मचारियों के बारे में सूचना है और वे अभी सतर्क हो जाएं....अब ऐसे बयान देकर नेताजी फंस गए...और उनकी चौतरफा आलोचना हो रही है....

बीजेपी के दूसरे महापुरुष हैं बलिया से विधायक सुरेंद्र जो अपने विवादित बयानो की वजह से सुर्खियों में हैं...जनाब बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की तुलना लंकिनी से कर दी....और बखेड़ा खड़ा कर दिया...

अगला नाम तो आप जानते ही हैं....साक्षी महाराज...जिनका विवादित बयानो से पूराना नाता है.. लेकिन इस बार उन्होंने गजब काम कर दिया...वो विधायकों से एक कदम आगे बढ़कर रेप के आरोप में जेल में बंद उन्नाव के विधायक कुलदीप सेंगर से जेल में मिलने पहुंच गए....और कहा कि, "हमारे यहां के बहुत ही यशस्वी और लोकप्रिय विधायक कुलदीप सेंगर जी काफी दिन से यहां हैं. चुनाव के बाद उन्हें धन्यवाद देना उचित समझा तो मिलने आ गया."वाह रे सांसद जी...ऐसे तो साक्षी महाराज के अनेकों बयान मीडिया में सुर्खियां बने..

जबकि प्रधानमंत्री मोदी ने सभी चुने गये सांसदों को खास तौर पर नसीहत देते हुए कहा था कि छपास और दिखास से बचे रहें तो अच्छा है...उन्होंने सांसदों को नसीहत देते हुए कहा कि टीवी के माइक सामने देखते ही कुछ भी ना बोलें, क्योंकि इससे पार्टी को बहुत नुकसान होता है....लेकिन बीजेपी के माननियगण हैं कि उनपर कोई असर होता ही नहीं...

बहरहाल हम तो यही उम्मीद करते हैं कि नेता संभलकर...सोचसमझ कर बोलें..और बोलने ज्यादा क्षेत्र की जनता का भला करने पर विचार करें..तभी अच्छे दिन आ पाएंगे नहीं तो सिर्फ बयानवीर बनकर ही रह जाएंगे...


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।