जहां पुरूषों की होती है No Entry !

By: jhansitimes.com
Jan 07 2018 06:00 pm
205

आपने ऐसी बहुत सी जगहों के बारे में सुना होगा जहां महिलाओं का आना-जाना बंद होता है। लेकिन आपने कभी किसी ऐसी जगह के बारे में सुना है जहां पुरुषों की ‘No Entry’ होती हो?

नहीं ना… आज हम ऐसे ही कुछ जगहों की बात करने वाले हैं जहां पुरुषों का आना-जाना पूरी तरह से बंद है। या अगर कहीं पर आना-जाना पुरुष कर भी सकते हैं तो किसी समय पर ही। अरे और हैरान होने की बात नहीं है और न ही हम केवल शब्द झाड़ने वाले हैं।अब हम डायरेक्ट मुद्दे पर आते हैं और कुछ ऐसी जगहों के बारे में बात करते हैं जहां पुरूषों की No Entry है –

1 – मणिपुर का मदर्स मार्केट

मणिपुर में एक ऐसा मार्केट है जहां पुरुषों के आने-जाने पर पाबंदी है। मणिपुर का ये बाजार इम्फाल में स्थित है। इस बाजार में भी विक्रेता जोर-जोर से आवाज देकर अपना सामान बेचते हुए नजर आते हैं। यहां भीड़ भी खूब होती है, लेकिन यहां केवल एक फर्क है। यहां आपको एक भी पुरुष नहीं दिखेगी। इस बाजार का नाम IMA Keithal है जो इम्फाल में है। यह बाजार 500 साल से भी पुराना है , जिसे मदर्स मार्केट के नाम से भी जाना जाता है। यहां केवल शादी-शुदा महिलाएं ही अपनी दुकान लगाती हैं। कई बार पुरुष इस बाजार तो तोड़ने की कोशिश कर चुके हैं लेकिन महिलाएं हमेशा एक-जुट होकर मार्केट की रक्षा के लिए उतर जाती हैं। इसे एशिया की ही नहीं पूरी दुनिया की सबसे बड़ी मार्केट माना जाता है।

– उमोजा गांव

यह गांव भी बाकी गांव की तरह ही है, लेकिन फर्क बस इतना है कि इस गांव में केवल महिलाएं रहती हैं। आपको इस गांव में एक भी पुरुष नहीं मिलेगी। यहां रेप विक्टिम, घरेलू हिंसा की सरवाइवर्स और घर से निकाली गई महिलाएं रहती हैं। यह गांव केन्या में है जिसकी स्थापना 1990 में 15 महिलाओं ने मिलकर की थी। ब्रिटिश सैनिकों ने इन महिलाओं का रेप कर गांव से बाहर निकाल दिया था। अब इस गांव की महिलाएं ज्वैलरी बनाती हैं और टूरिस्ट इन्हें खुशी से खरीदते हैं।

2015 में ”द गार्जेन” में एक छपी रिपोर्ट के अनुसार यहां 47 महिलाएं और 200 बच्चे रहते हैं। यहां रहने वाली लड़कियां व महिलाएं अपने आपको उन क्रूर प्रथाओं, जैसे जेनेटिल म्यूटिलेशन से बचाव में भी कामयाब हो गई हैं। यहां बाल-विवाह भी नहीं होते। मतलब की 15 महिलाओं की रेप की घटना बाकी की पीढ़ी के लिए एक तरह का वरदान साबित हुई।

3 – पुष्कर का ब्रह्मा मंदिर

दुनिया के इकलौते ब्रह्मा मंदिर में पुरुषों को जाने की मनाही है। यहां शादी-शुदा पुरुषों का जाना वर्जित है। वैसे तो ब्रह्मा की पूजा नहीं की जाती लेकिन जिन पुरुषों की शादी हो गई है वे यहां ब्रह्माजी के दर्शन करने भी नहीं आ सकते।

४ – कन्याकुमारी मंदिर, तमिलनाडु

माता के शाक्ति पीठ में से एक मंदिर में कुंवारे पुरुषों के जाने की मनाही है। मान्यता है कि जब विष्णु भगवान ने देवी सती के शरीर को खंडित किया था तो उनकी रीढ़ की हड्डी इस जगह पर गिरी थी। जिसके कारण ये शक्तिपीठ माना जाता है। माना जाता है कि यहां भगवती देवी का वास है और वो संयासी हैं, इसलिए यहां कुंवारे पुरुषों के जाने की मनाही है।

५ – अट्टुकल मंदिर, केरल

केरल के इस मंदिर में पोंगल त्यौहार का सबसे बड़ा आयोजन किया जाता है। जिसमें लगभग 30 लाख से भी ज्यादा महिलाएं शामिल होती हैं। यह त्यौहार यहां 10 दिनों तक मनाया जाता है और इन 10 दिनों के दौरान पुरुषों का यहां आना वर्जित होता है। इस मंदिर का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में भी शामिल है क्योंकि यह एक ऐसा धार्मिक स्थल है जहां इतनी ज्यादा संख्या में महिलाएं खुद इकट्ठी होती हैं।

यहाँ है पुरूषों की No Entry – इसी तरह और भी कई जगहें जहां पुरुषों के जाने की मनाही है। उन जगहों के बारे में जल्द ही मालूम कर हम आपके लिए अगले हिस्से में लाएंगे। तबतक के लिए इन मंदिरों और जगहों के बारे में याद तक अपनी जानकारी बढ़ाएं और दूसरों को भी बताएं।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।