मह‌िला न्यायिक अधिकारी ने प्रेमनगर थाने में जमकर क‌िया बवाल, सिपाही को जड़े थप्पड़, वीडियो वायरल

By: jhansitimes.com
Sep 13 2017 09:39 am
1207

देहरादून; मंगलवार को मारपीट और कार में तोड़फोड़ के आरोप में पकड़े बेटे को छुड़ाने गई यूपी की एक महिला न्यायिक अधिकारी ने प्रेमनगर थाने में बवाल कर दिया। मोबाइल से वीडियो बनाने पर बिफरी न्यायिक अधिकारी ने सिपाही को एक के बाद एक कई थप्पड़ जड़ दिए। मारपीट का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो उत्तराखंड से लेकर यूपी तक मामला गरमा गया। 

न्यायिक अधिकारी से जुड़ा मामला होने के कारण फिलहाल एफआईआर दर्ज नहीं की गई। मामले को जनरल डायरी में अंकित कर दिया है। जनरल डायरी (जीडी) की प्रति, वीडियो लेकर एक पुलिस टीम इलाहाबाद हाईकोर्ट रवाना कर दी गई है। तय हुआ है कि हाईकोर्ट के निर्देशानुसार कार्रवाई की जाएगी। 

एसएसपी के मुताबिक हंगामा काटने वाली महिला ने खुद को न्यायिक अधिकारी बताते हुए, खुद को उन्नाव (यूपी) में तैनात बताया। पीड़ित कांस्टेबल मुकेश ने उनके खिलाफ तहरीर दी है। एक न्यायिक अधिकारी से जुड़ा मामला होने से तत्काल एफआईआर दर्ज नहीं की गई है। महिला के बयान को सही मानकर मामला इलाहाबाद हाईकोर्ट के संज्ञान में लाया जा रहा है। वीडियो, जीडी की प्रति और दूसरे साक्ष्यों को लेकर पुलिस टीम को इलाहाबाद हाईकोर्ट भेज दिया है। बुधवार को हाईकोर्ट के रजिट्रार को पूरे मामले से अवगत कराकर दिशा-निर्देश लिया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक देहरादून के प्रेमनगर की एक प्राइवेट यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले छात्रों के दो गुटों में मारपीट हो गई। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस दोनों पक्षों को लेकर थाने आ गई। इनमें से एक यूपी की महिला न्यायिक अधिकारी का बेटा था। बेटे पर आरोप था कि उसने साथियों के साथ दूसरे पक्ष की कार में तोड़फोड़ कर दी। इसी बीच महिला न्यायिक अधिकारी अपने पति के साथ वहां पहुंची। 

पुलिसकर्मियों के मुताबिक बेटे को पकड़ने से नाराज महिला अधिकारी ने पुलिस को आडे़ हाथों लेते हुए हंगामा कर दिया। अभद्र भाषा का प्रयोग करने पर थाने के सिपाही मुकेश पुरी ने मोबाइल से वीडियो बनानी शुरू कर दी। इस बात से खफा महिला अधिकारी ने सिपाही से मारपीट कर दी। एसओ नरेश राठौड ने बीच में आकर महिला अधिकारी से कड़ी नाराजगी जताई। 

काफी देर तक हंगामा चलता रहा। उस समय थाना परिसर में वाहनों की नीलामी होने के कारण काफी लोगों का जमावडा था। इनमें से किसी ने सिपाही से मारपीट की वीडियो बना ली। कुछ देर बाद ही यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। इस संबंध में थाने पर ही महिला का पक्ष जानने की कोशिश गई तो बीच में पड़ते हुए महिला के पति ने कहा कि इधर कैमरा मत करना और हमसे कोई बात भी न करना। हमें कोई बात नहीं करनी।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।