योगी जी ! भ्रष्टाचार की छूट का पर्याय नहीं है हिंदू राष्ट्र, पढ़ लीजिये- के. पी सिंह के साथ

By: jhansitimes.com
Jan 04 2019 09:39 am
296

एक निजी टीवी चैनल के स्टिंग आपरेशन में प्रदेश के तीन मंत्रियों के निजी सचिव खुफिया कैमरे पर करोड़ों रुपये के ठेके-पट्टे दिलाने के लिए सौदेबाजी करते हुए कैद हो गए। जिसके बाद सत्ता के गलियारों में हड़कंप मच गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तीनों निजी सचिवों को निलंबित करके उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने का आदेश जारी कर दिया। साथ ही लखनऊ पुलिस जोन के एडीजी राजीव कृष्ण के नेतृत्व में इस पूरे मामले की जांच के लिए विशेष अनुसंधान टीम गठित कर दी। हालांकि संबंधित मंत्रियों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया है। खास बात यह है कि इनमें सरकार के खिलाफ बगावत का परचम उठाने वाले पिछड़ा वर्ग एवं दिव्यांगजन सशक्तिकरण मंत्री ओमप्रकाश राजभर के निजी सचिव ओमप्रकाश कश्यप भी शामिल हैं। पर वे उनके विभाग की बजाय दूसरे विभागों में तबादले और अन्य कामों के लिए सौदेबाजी कर रहे थे। ओमप्रकाश राजभर ने खुद अपने इस निजी सचिव के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की सिफारिश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से की है। साथ ही यह भी कहा है कि जिस समय वे पिछड़ा वर्ग के आरक्षण में अति पिछड़ा वर्ग के लिए बंटवारे का फार्मूला लागू करने की मांग जोरशोर से उठा रहे थे, उसी समय यह स्टिंग आपरेशन किया गया। यह भी एक सवाल है। उनके कहने का मकसद यह था कि उनकी छवि को संदेहास्पद बनाने के लिए ऐसे समय स्टिंग आपरेशन को प्रसारित किया जाना एक षड्यंत्र है।

जिस तरह से सत्ता के गलियारों में वर्तमान में दरबाजी साजिशों की गंध चप्पे-चप्पे पर तैर रही है, उसके मद्देनजर हर घटना परिघटना के पीछे के निहितार्थ तलाशे जाना लाजिमी है। ओमप्रकाश राजभर के अलावा खनन राज्यमंत्री अर्चना पांडेय के निजी सचिव एसपी त्रिपाठी और बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री संदीप सिंह, जो कि राजस्थान के राज्यपाल और भाजपा के कद्दावर नेता कल्याण सिंह के पौत्र हैं, उनके निजी सचिव संतोष अवस्थी इस खतरनाक स्टिंग आपरेशन की चपेट में उलझे हैं। हमेशा की तरह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डींग हांकी है कि भ्रष्टाचार के मामले में उनकी सरकार की नीति जीरो टॉलरेंस की है। इसलिए इस मामले में कठोर कार्रवाई होगी। उनके बयान से ऐसा लगता है कि इस मामले में कोई बहुत बड़ा पहाड़ टूटने वाला है। लेकिन पौने दो वर्ष के उनके कार्यकाल में न ऐसा कुछ हुआ है और न ही होगा, यह सभी जानते हैं।

मंत्रियों के निजी सचिवों द्वारा काम कराने के लिए सौदेबाजी का बाजार गर्म होना कोई रहस्योद्घाटन नहीं है। यह स्टिंग आपरेशन न भी होता तो भी सब जानते थे कि योगी आदित्यनाथ के कुर्सी संभालने के एक महीने बाद ही सत्ता के केंद्र में भ्रष्टाचार का खुला खेल धड़ल्ले से शुरू हो गया था। ओमप्रकाश राजभर के निजी सचिव ओमप्रकाश कश्यप स्टिंग आपरेशन में बीएसए को हटवाने का रेट 40 लाख रुपये बताते सुने गए। उन्होंने ठेकेदार बने पत्रकार से स्कूल बैग सप्लाई के लिए बेसिक शिक्षा मंत्री के पति से मिलवाने की बात कही। बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल हैं, जिनके पति इस स्टिंग आपरेशन के पहले से ही चर्चाओं में रहे हैं और यह चर्चाएं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कानों तक न पहुंची हों, यह तो हो ही नहीं सकता। लेकिन योगी आदित्यनाथ ने उन पर अंकुश लगाने का कोई प्रयास नहीं किया। वे कर भी नहीं सकते क्योंकि अनुपमा जायसवाल भाजपा की प्रदेश कमेटी के एक ताकतवर पदाधिकारी की चहेती हैं। उस पदाधिकारी के बारे में भी चर्चा काफी समय से  हो रही है कि उसे चढ़ौती चढ़ाकर शासन के पदों से लेकर डीएम, एसपी की पोस्टिंग तक अधिकारियों ने हासिल की है। जब भाजपा के क्षेत्रीय संगठन मंत्रियों पर गाज गिरी थी तब उस पदाधिकारी पर भी जल्द ही कार्रवाई होने का अनुमान जाहिर किया गया था। लेकिन वह पदाधिकारी अभी तक सुरक्षित है। भाजपा की रीति-नीति इसी से स्पष्ट हो जाती है।

योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के कुछ ही समय बाद वृंदावन में संघ की समन्वय समिति की बैठक हुई थी। जिसमें आरोप लगाया गया था कि भाजपा के नवनिर्वाचित विधायक चुने जाते ही छिछोरेपन की सीमा तक जाकर कमाने में लग गए हैें, जिससे पार्टी की बड़ी बदनामी हो रही है। इन आरोपों पर मुख्यमंत्री ने बहुत संजीदा हो जाने का अभिनय किया था और यह भरोसा दिलाने की कोशिश की थी कि इस मामले में उनकी ओर से कड़ा संदेश दिया जाएगा। लेकिन शायद भ्रष्टाचार पर अंकुश उनके एजेंडे में कतई नदारद है। इसलिए उन्होंने कुछ ऐसा नहीं किया जिससे विधायको को डरने की जरूरत पड़ती। वृंदावन बैठक के कुछ हफ्तों तक विधायक अपने आप ही सहमे रहे, लेकिन जब वे योगी की मानसिकता समझ गए तो उनसे छूट का आभास पाकर उन्होंने दोगुनी गति से अपना धंधा शुरू कर दिया। इस बयार के चलते भाजपा के लगभग सभी मंत्री आंधी के आम की तरह सत्ता को कैश कराने में जुट पड़े हैं। जिससे प्रशासन चरमरा कर रह गया है।

योगी की अग्रसरता उत्तर प्रदेश को हिंदू राष्ट्र के मॉडल के रूप में प्रस्तुत करने की है और इस एजेंडे को उन्होंने भ्रष्टाचार के मामलों की ढाल बना दिया है। भ्रष्टाचार के कई रूप हैं। एक भ्रष्टाचार वह होता है जिसमें सरकार के लोग अपने निजी या पार्टी के फायदे के लिए व्यापारियो को राजस्व की कीमत पर अनुचित छूट देते हैं, जो कि ठेका और टेंडर के मामले में बेईमानी के रूप में सामने आता है। दूसरा भ्रष्टाचार विकास कार्यों में कमीशनबाजी का है जिससे कार्यों और सप्लाई का स्टीमेट बढ़ जाता है। तीसरा भ्रष्टाचार वह है जिसमें मौलिक अधिकारों का दमन करके लोगों को पैसे देने के लिए बाध्य किया जाए। इसी से जुड़ा है पैसे के लिए शासन-प्रशासन का व्यक्तियों के साथ अन्याय में सहभागी होना। व्यवस्था जब तकनीकी या अन्य कारणों से बहुत द्रुत गति से बदलती है तब ऐसी स्थितियां बन जाती हैं कि उसके संचालन की जरूरतें प्रचलित नैतिक, विधिक संहिता का अतिक्रमण करने वाली बन जाएं। दूसरे शब्दों में कहा जा सकता है कि द्रुत गति से बदलती व्यवस्था के संदर्भ में किसी भी ऐसी नैतिक, विधिक संहिता की कल्पना नहीं की जा सकती जो  पूरी तरह व्यवस्था को बांध सके। ऐसे में अनिवार्य बुराई की तरह उन कामों की अनदेखी करनी पड़ सकती है जो भ्रष्टाचार के तहत परिभाषित होते हैं। सारी दुनिया में ऐसा होता है। लेकिन ऐसे भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता जो कि लोगों के मौलिक अधिकारों को अर्थहीन बनाकर व्यवस्था के अस्तित्व पर ही प्रश्नचिन्ह लगा दे। ऐसे भ्रष्टाचार पर नियंत्रण की जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ने का मतलब है गर्वनेंस से पल्ला झाड़ना और आज ऐसा ही हो रहा है।

योगी का इस मामले में ढुलमुलपन तभी जाहिर हो गया था जब उन्होंने कार्यभार संभालते ही सभी अधिकारियों को नियम के मुताबिक अपनी आय और परिसंपत्तियों का ब्यौरा हर वर्ष दाखिल करने का निर्देश जारी किया था। लेकिन अधिकारियों ने इसकी अवज्ञा कर दी और अंततोगत्वा योगी को उनके आगे सरेंडर करना पड़ा। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो, सतर्कता, आर्थिक अपराध अनुसंधान विभाग और सीबीसीआइडी की अधिकारियों के विरुद्ध जांचों का भी यही हश्र किया जा रहा है। जिन अधिकारियों के खिलाफ जांचें अपनी तार्किक परिणति पर पहुंच चुकी हैं उन पर एफआईआर दर्ज करने या कोर्ट में उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने को मुख्यमंत्री हरी झंडी नहीं दे पा रहे हैं जबकि इसके लिए वे कई बार बैठकें कर चुके हैं। लोकायुक्त संस्था प्रदेश में डेड हो चुकी है। भ्रष्टाचार से संंबंधित सभी विभागों और इकाइयों को समन्वित करके प्रभावी बनाने का प्रस्ताव भी पहले से विचाराधीन है और इस मामले में भी योगी सरकार कोई प्रगति करने की इच्छुक नजर नहीं आ रही है। यहां तक कि जनशिकायतों की सुनवाई के तंत्र को भी उन्होंने पंगु कर दिया है। मुख्यमंत्री के जनसुनवाई पोर्टल पर दाखिल होने वाली शिकायतों की जांच तहसील स्तरीय अधिकारियों को भेजने की व्यवस्था कायम कर दी गई है जबकि अगर लोगों की समस्याओ का तहसील या जिला स्तर पर ही समाधान हो रहा हो तो उन्हें मुख्यमंत्री के पोर्टल पर शिकायत करने की जहमत क्यों उठानी पड़े। मुख्यमंत्री पोर्टल की हर शिकायत बिना किसी कार्रवाई के निस्तारित की रिपोर्ट भेजकर दफन कर दी जाती है। यहां तक कि शिकायतकर्ता का बयान दर्ज करने तक की औपचारिकता नहीं निभाई जा रही। पीड़ित आदमी के लिए अरण्यरोधन जैसा यह माहौल पहले के किसी निजाम में नहीं रहा।

होना तो यह चाहिए था हिंदू राष्ट्र का प्रस्तुतिकरण कठोर नैतिक व्यवस्था वाले निजाम के रूप में किया जाता तो शायद लोग इसके प्रति सकारात्मक रुख अपनाते। दुनिया के हर धार्मिक निजाम में नैतिक बंदिशों का पालन कराने के लिए कठोरता का परिचय दिया जाता है। जो भी धार्मिक राष्ट्र हैं उनमें इसके उदाहरण साफ देखे जा सकते हैं लेकिन योगी ने हिंदू राष्ट्र को भ्रष्टाचार और कुशासन का पर्याय बनाने की जैसे कसम खा ली है। हिंदू राष्ट्र की गरिमा के साथ इससे बड़ा खिलवाड़ कोई दूसरा नहीं हो सकता। जो लोग हिंदू राष्ट्र की अवधारणा में विश्वास करते हैं उन्हें वर्तमान सरकार के क्रियाकलाप के इस पहलू पर भी ध्यान देना होगा। कोई भी हुकूमत नैतिक श्रेष्ठता के आधार पर ही लोगों से अपने को मनवा सकती है, यह ध्रुवसत्य है। वरना ऐसी हुकूमत चलना तो दूर कायम होना भी दुश्वार हो सकता है।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।