60 से अधिक मासूमों की मौत को आंकड़ों में उलझाने में जुटी योगी सरकार, कहा-रोज होतीं हैं 17-18 मौतें

By: jhansitimes.com
Aug 12 2017 05:30 pm
112

बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में आक्सीजन नहीं मिलने से 60 से ज्यादा बच्चों की मौत के बाद यूपी के कैब‌िनेट मंत्री स‌िद्धार्थ स‌िंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके आंकड़ों में उलझाकर अपनी जिम्मेदारी से बचने की कोशिशें शुरू कर दी हैं|  स‌िंह ने कहा योगी जी यहां 9 जुलाई और 9 अगस्त को भी आए थे। यहां उन्होंने डॉक्टरों से भी चर्चा की थी। एक व‌िषय जो क्र‌िट‌िकल है वो है गैस सप्लाई का वो रखा नहीं गया। उन्होंने बताया क‌ि हमने आंकड़े भी देखने की कोश‌िश की है क्योंक‌ि 20 से 23 बच्चों के मरने की खबर आई है वो चौंकाने वाला मामला है।

ये सरकार संवेदनशील है और एक बच्चे की मौत की जांच की वजह भी हमारे ल‌िए बड़ी है। हम 23 मौतों को कम आंकने का प्रयास नहीं कर रहे हैं। 2014 से आंकड़े न‌िकलवाए हैं। अगस्त के महीने में बच्चों की मौतें 19 प्रत‌िद‌िन होता है। 2015 में 22 और 2016 में प्रत‌िद‌िन 19 से ज्यादा है। इसका ये मतलब ये नहीं है क‌ि हम इसे कम आंक रहे हैं पर आगे का न‌िष्कर्ष न‌िकालने के ल‌िए ऐसा कर रहे हैं। बीआरडी मेड‌िकल कॉलेज में मौतों का आंकड़ा 17 से 18 न‌िकलता है क्योंक‌ि बच्चे यहां कई जगहों से आते हैं।

सरकार की ओर से बताया गया कि इस साल मरने वालों की संख्या पिछले वर्षों के मुकाबले कम है। प्रदेश सरकार ने शनिवार को कॉलेज के प्रिंसिपल राजीव मिश्रा को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। बच्चों की मौत की खबरें आने के बाद भी कई घंटे तक गायब रहे स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने आज सरकार का बचाव किया सिद्धार्थनाथ ने पिछले तीन साल के दौरान इंसेफेलाइटिस में हुई मौतों का आंकड़ा पेश कर यह जताना चाहा कि योगी सरकार के कार्यकाल के दौरान मौतों की संख्या कम हुई है।

लीपापोती में लग गई सरकार

-64 से ज्यादा लोगों की मौतों के बाद योगी सरकार अब पूरे मामले में लीपापोती में लग गई है।

-स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह और आशुतोष टंडन ने पिछले तीन सालों के दौरान हुई मौतों का आंकड़ा पेश किया। दोनों ने कहा कि आक्सीजन की कमी से मौतें नहीं हुई है। 

-गांव के लोग लास्ट स्टेज में बच्चों को अस्पताल लाते हैं। 2014 में कुल 567 मौतें हुई थीं। 2014 के अगस्त महीने में औसतन 22 मौतें हुई थी। 2015 में कुल 668 मौत हुई थी। 

-2015 के अगस्त महीने में औसतन 22 मौत हुई। जबकि 2017 के अगस्त महीने में औसत 17 मौतें हुईं।

-योगी सरकार ने चीफ सेक्रेटरी की अध्यक्षता में एक जांच टीम बनाई गई है। जांच टीम की रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

-सीएम योगी नौ जुलाई और नौ अगस्त को कॉलेज आए थे लेकिन उन्हें गैस सप्लाई का भुगतान नहीं होने की जानकारी नहीं दी गई थी।

-दोनों मंत्रियों का कहना है कि उन्होंने साढ़े तीन चार घंटे हर पहलुओं को बारीकी से देखा है और उसे समझने का प्रयास किया।

ऑक्सीजन गैस की सप्लाई स्लो हुई थी

-यह सरकार संवेदनशील सरकार है। एक भी मौत होती है तो पता लगाया जाता है कि लापरवाही से हुई है या नहीं

-सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि सरकार घटना को ढकने की कोशिश नहीं कर रही है।

-दस तारीख को साढ़े पांच बजे ऑक्सीजन गैस की सप्लाई स्लो होने लगी थी। मीटर बीप करना शुरू कर दिया।

-गैस सप्लाई लो होने पर सिलेंडर लगाया जाता है। लेकिन यह व्यवस्था साढ़े ग्यारह बजे तक ही चली।

-साढे ग्यारह बजे से रात डेढ़ बजे तक गैस सप्लाई नहीं हो पाई। दो घंटे गैस सप्लाई बाधित थी। गैस सप्लाई बाधित होने से कोई मौत नहीं हुई है।

-गैस सप्लाई करने वाली कंपनी का भुगतान बाकी था। एक तारीख को पत्र लिखा। 5 तारीख को भुगतान कर दिया गया।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।