अफसरों की लापरवाही में फंसी #स्मार्ट_सिटी, #झांसी में बने #पिंक_टॉयलेट में लगा ताला

बुन्देलखंड

लम्बे समय के बाद चल पड़ी बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस,कन्फर्म टिकट वाले ही कर पायेगें यात्रा

1.35KViews

 (रिपोर्ट-सैय्यद तामीर उद्दीन) महोबा । लॉकडाउन से लेकर अनलॉक की लम्बी अवधि गुजर जाने के बाद झांसी मानिकपुर रेलखण्ड में शनिवार की रात से बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस चल पड़ी है। कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुये अहतियात के पूरे कदम उठाये गये है। निश्चित टिकट वालों को ही उनके गंतव्य की यात्रा की अनुमति है। स्टेशन परिसर में वहीं यात्री प्रवेश ले पा रहे है जिनके टिकट आरक्षण के बाद कन्फर्म है वेटिंग वालों को अपनी यात्रा के लिये प्रतीक्षा करनी पड़ेगी टिकट कन्फर्म होने के बाद उन्हें यात्रा की अनुमति है।
कोरोना वायरस को मददेनजर रखते हुये देश भर में यात्री ट्रेनों का संचालन 22 मार्च से बंद कर दिया गया था इस बीच तकरीबन दो महीनें तक लॉकडाउन रहा, अप्रैल से लेकर 31 मई तक लॉकडाउन की अवधि रही और एक जून से अनलॉक शुरू हुआ है। सितंबर में अनलॉक-4 चल रहा है।
अब धीरे-धीरे यात्री सुविधाओं को बहाल किया जा रहा है और इसी सिलसिले में ग्वालियर से वाराणसी के बीच चलने वाली बुन्देलखण्ड एक्सप्रेेस का संचालन 12 सितंबर की रात से उसके पूर्व के निर्धारित के समय अनुसार शुरू किया गया है।
कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुये कोई ठोस अहतियाती कदम उठाये गये है और उन्हीं का अनुपालन करते हुये यात्रियों को अपने गंतव्य की यात्रा करने की अनुमति है। पहली बात तो यह है कि बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस में बिना आरक्षण के किसी भी मुसाफिर को यात्रा की इजाजत नहीं है यात्रा शुरू करने के पहले मुसाफिर का स्टेशन परिसर पर तापमान मापा जा रहा है तत्पश्चात उसके हाथों को सैनेटाइज किया जा रहा है, खास बात यह है कि टिकट चेकिंग के दौरान यात्री में अगर ज्वर है तो बजर बजते ही यात्री को स्टेशन में प्रवेश नहीं मिलेगा। ट्रेन में किसी भी तरह का वेटिंग टिकट नहीं है वेटिंग टिकट होने पर उसे बैठने की अनुमति नहीं होगी उधर स्टेशन परिसर के अंदर सिर्फ यात्रा करने वाले मुसाफिर ही प्रवेश कर पायेगें इसके अतिरिक्त स्टेशन परिसर के अंदर किसी को भी जाने की इजाजत नहीं है।

jhansitimes
the authorjhansitimes