अफसरों की लापरवाही में फंसी #स्मार्ट_सिटी, #झांसी में बने #पिंक_टॉयलेट में लगा ताला

बुन्देलखंड

मंडी शुल्क में कमी से दौड़ पड़ेगा व्यापार

Views

(रिपोर्ट-सैय्यद तामीर उद्दीन) महोबा। थोड़ा मण्डी शुल्क कम किया गया है इससे व्यापारियों को राहत मिली है, लेकिन अभी थोड़ा और मण्डी शुल्क कम कर दिया जाये तो कारोबार का पहिया दौड़ पड़ेगा, इससे जहां कारोबारियों को राहत मिलेगी वही किसानों को भी उनकी फसल का उचित मूल्य मिलने लगेगा, मण्डी शुल्क अधिक होने के कारण यहां का कारोबार प्रभावित हो रहा है और जिसके चलते व्यापारियों को अपने कर्मचारियों की छटनी करने के लिये बाध्य होना पड़ रहा है और मण्डी का कारोबार फिर से सुचारू रूप से चल पड़े और कर्मचारियों को रोजगार मिल सके, किसानों को उनकी मेहनत व फसल का उचित मूल्य मिल सके इसके लिये मण्डी शुल्क 50 पैसे सैकड़ा की दर से लिया जाये। इससे मण्डी का खर्च भी चलता रहेगा और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा।
जिला उद्योग व्यापार मण्डल के जिलाध्यक्ष भागीरथ नगायच ने मण्डी सचिव के माध्यम से ज्ञापन सूबे के मुख्यमन्त्री को भेजा है। जिसमें कहा गया है कि उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मण्डल मण्डी शुल्क की समाप्ति की मांग कर रहा था इस पर राज्य सरकार ने मात्र एक प्रतिशत की कमी करके कुछ राहत प्रदान की, इसके लिये व्यापार मण्डल ने राज्य सरकार को धन्यवाद दिया है, लेकिन मण्डल का कहना है कि सिर्फ एक प्रतिशत की कमी से भ्रष्टाचार कम नही हो रहा है, मांग की गयी है कि मण्डी शुल्क में 50 पैसे सरचार्ज, 50 पैसे मण्डी शुल्क की और कमी की जाये, व्यापार मण्डल का कहना है कि मण्डी शुल्क की दर अधिक होने के कारण भ्रष्टाचार में अंकुश नही लग पा रहा है और इस पर अंकुश लगाने के लिये शुल्क में कमी बेहद जरूरी है। इस मौके पर महामन्त्री रामजी गुप्ता, उमेश लाक्षाकार, रवि साहू, आदि मौजूद रहे।

jhansitimes
the authorjhansitimes