अफसरों की लापरवाही में फंसी #स्मार्ट_सिटी, #झांसी में बने #पिंक_टॉयलेट में लगा ताला

बुन्देलखंड

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में गोली लगने से चपरासी की मौत, हत्या और आत्महत्या में उलझा मामला

959Views

बांदा। बुन्देलखंड में बांदा जिले के बबेरू कस्बे में स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय के चपरासी का स्कूल में बने एक कमरे में खून से लथपथ शव मिला। मृतक के सीने पर ही एक तमंचा रखा हुआ था। मृतक के परिजन जहां उसकी हत्या का आरोप लगा रहे है तो वहीं दूसरी ओर स्कूल के कर्मचारी इसे आत्महत्या बता रहे है। फिलहाल इसकी सूचना थाने की पुलिस को दी गई।
बांदा जिले में बबेरू कस्बे के मर्का रोड पर बने कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में लगभग 50 वर्षीय चंद्रशेखर द्विवेदी चपरासी के पद पर तैनात था। बताया जा रहा है कि शनिवार की सुबह वह ड्यूटी पर विद्यालय गया था। जहां कुछ देर बाद मौजूद कर्मचारियों को कमरे से गोली चलने की आवाज की सुनाई दी गई। कर्मचारियों से भागकर देखा तो चन्द्रशेखर खून से लथ-पथ पड़ा था और उसके पास में ही 315 बोर का तमंचा पड़ा था। सूचना मिलते ही आनन-फानन में पुलिस और परिजन मौके पर पहुंचे और उसे उपचार के लिए अस्पताल भेजा। जहां डॉक्टरों ने चन्द्रशेखर को मृत घोषित कर दिया।
मृतक के परिजन जहां उसकी हत्या का आरोप लगा रहे है तो वहीं दूसरी ओर विद्यालय के कर्मचारी इसे आत्महत्या बता रहे है। फिलहाल पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
परिजनों ने बताया कि चंद्रशेखर का परिवार सर्वाेदय नगर (बांदा) में रहता है। परिजनों ने हत्या की आशंका जताई है। उधर, पुलिस को विद्यालय स्टाफ ने बताया कि विद्यालय की एक पूर्व छात्रा से चंद्रशेखर अक्सर देर तक बातें करता था। चर्चा है कि घटना के कुछ देर पहले छात्रा का भाई विद्यालय आया और चंद्रशेखर की शिकायत की। माना जा रहा है कि इसी से क्षुब्ध और शर्मसार होकर चंद्रशेखर ने खुद को गोली मार ली। पुलिस ने मृतक के खिलाफ शस्त्र अधिनियम की धारा 3/25 के तहत रिपोर्ट दर्ज की है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

jhansitimes
the authorjhansitimes