अफसरों की लापरवाही में फंसी #स्मार्ट_सिटी, #झांसी में बने #पिंक_टॉयलेट में लगा ताला

झांसीबुन्देलखंड

श्रद्धा और भक्ति के साथ मनाया गया देवोत्थान एकादशी पर्व

Views

(रिपोर्ट-सैय्यद तामीर उद्दीन) महोबा। देवोत्थान एकादशी का पर्व श्रद्धा, भक्ति, व धार्मिक रीति रिवाज के अनुसार मनाया गया, घर, घर शाम के वक्त पूजा अर्चना की गयी। दिये जला कर रोशनी की गयी। एकादशी पर्व पर गन्नों और ईंख की जमकर बिक्री हुयी। पूजन सामग्री खरीदने के लिये बाजार में जमकर भीड़ उमड़ी।
सुबह से ही शहर के विभिन्न स्थानों पर गन्ना और ईंख की दुकानें सज गयी थी, ऊदल चैक, आल्हा चैक, तहसील चैराहा में इनकी दुकानें लगी हुयी थी, जहां पहुंचकर लोग इनकी खरीददारी कर रहे थे। गन्ना और ईंख के भाव में खासा उछाल दिखाई पड़ा। एक गन्ना 50 रुपये के दाम पर बिका मामूली किस्म का गन्ना का भाव 30 रुपये था। ईंख भी 20 रुपये प्रति के हिसाब से बिक रही थी। इसके अलावा पूजन में लगने वाली अन्य सामग्रियां की भी खरीददारी की गयी, जिसमें चना की पत्ती, ज्वार के दाने आदि शामिल थे, जिन्हें एक पात्र में सजाकर बेंचा जा रहा था। इनकी कीमत 40 से 50 रुपये थी, लोगों में इन सामग्रियों की बाजार में पहुंचकर व्यापक पैमाने पर खरीददारी की।
सुबह से ही एकादशी पर्व को लेकर बाजार में खासी चहल, पहल दिखाई पड़ी।, यहां गन्ना और ईंख की अनेक दुकाने दुकानदारों द्वारा लगा रखी गयी थी। जहा खरीददारों खरीदारी की। कोई दो ईंख और एक ईंख तो कोई चार गन्ना, तो कइयों ने आधा दर्जन से अधिक गन्नों की खरीददारी की। पर्व को लेकर मंहगाई का असर छूमंतर था। मंहगाई से बेपरवाह होकर गन्ना और ईंख की जमकर बिक्री हुयी। इसके अलावा दिये और रूई की भी दुकाने लगी थी, लोग इन्हें फुटपाथ पर सजाकर जगह, जगह बेंच रहे थे। जहां इनकी खरीददारी की गयी, शाम के वक्त श्रद्धा और भक्ति के साथ पूजा, अर्चना की गयी, घरों में दिये जलाकर रोशनी की गयी।

jhansitimes
the authorjhansitimes