अफसरों की लापरवाही में फंसी #स्मार्ट_सिटी, #झांसी में बने #पिंक_टॉयलेट में लगा ताला

बुन्देलखंड

बिना बेटी के अधूरा है घर, परिवार

Views

(रिपोर्ट-सैय्यद तामीर उद्दीन) महोबा। यहां चल रहे चंन्द्रिका महिला स्नातकोत्तर महाविघालय के विशेष शिविर में स्वयं सेविकाआंे ने मामना ग्राम के लोगों को समूह के माध्यम से बेटी, बचाओं, बेटी पढ़ाओं को लेकर जागरूक किया और यहां के लोगों से अपील की वे कन्या भू्रण हत्या, जघन्य अपराध, को रोको बेटियायों की अच्छी तरह से देखभाल करे और पढ़ाई की समूचित व्यवस्था करे। कहां गया कि परिवार में बेटी शिक्षित होती है, तो एक परिवार को नहीं बल्कि दो परिवारों को शिक्षित कर सकती है।
इसके बाद रैली शिविर स्थल वापस आई संगोष्ठी का आयोजन हुआ इसकी मुख्यअतिथि श्रीमति दीपाली जिला संयोजिका बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं ने उच्च विषय में विस्तार से छात्राओं को जानकारी दी उन्होंने कहां कि बेटियां घर की लक्ष्मी होती है बिना बेटी के घर परिवार अधूरा है। उन्होंने बेटियों को समाज का आधार बताया। इस मौके पर डा. ज्योति चतुर्वेदी भारतीय महिला अधिकार संरक्षण संस्था की जिलाध्यक्ष, प्राचार्य डा. ज्योति सिहं समस्त स्टाफ मौजूद रहा। मां चन्द्रिका महिला महाविघालय का राष्ट्रीय सेवा योजना विशेष शिविर मामना गांव में चल रहा है, यहां शिविर में छात्राओं द्वारा ग्राम वासियों को जागरूक किया जा रहा है उन्हें साफ, सफाई के महत्व से अवगत कराया जा रहा है और कोविड-19 को लेकर जागरूक किया जा रहा है।

jhansitimes
the authorjhansitimes