अफसरों की लापरवाही में फंसी #स्मार्ट_सिटी, #झांसी में बने #पिंक_टॉयलेट में लगा ताला

बुन्देलखंड

व्यापारियों की समस्याओं का निदान कराने के निर्देश

222Views

(रिपोर्ट-सैय्यद तामीर उद्दीन) महोबा।  कलेक्ट्रेट सभागार में जिला मजिस्ट्रेट सत्येंद्र कुमार की अध्यक्षता में जिला उद्योग बंधु की बैठक सम्पन्न हुई।
इस अवसर पर डीएम ने जिला उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन केंद्र द्वारा संचालित जन कल्याणकारी एवं रोजगारपरक योजनायें क्रमशः प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना, एक जनपद एक उत्पाद (ओडीओपी) आदि की समीक्षा की।जिसमें उन्होंने पाया कि इस वित्तीय वर्ष प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत 25 लक्ष्य के सापेक्ष 7, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना में 25 के सापेक्ष 2 तथा एक जनपद एक उत्पाद (ओडीओपी) में 22 लक्ष्य के सापेक्ष मात्र 1मामले में ही ऋण वितरण किया गया है।इसको लेकर उन्होंने उपायुक्त उद्योग को निर्देश दिए कि एलडीएम से बात करते हुए समय से सरकार द्वारा दिये गए लक्ष्यों की प्राप्ति की जाये।
इस दौरान जिला मजिस्ट्रेट ने निवेश मित्र पोर्टल पर लम्बित प्रकरणों की समीक्षा करते हुए पाया कि पोर्टल पर 29 सितम्बर तक 10 प्रकरण ( श्रम विभाग में 6, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड में 1, यूपीपीसीएल में 1 तथा फूड सेफ्टी में 2) लंबित हैं।उन्होंने उपायुक्त को सख्त निर्देश दिया कि निवेश मित्र पोर्टल पर एक भी आवेदन लंबित नहीं रहना चाहिए क्योंकि ईज ऑफ डूइंग बिजनिस में प्रदेश में जनपद की रैंक उच्च स्तरीय बनाये रखने के लिए अत्यंत आवश्यक हैं।उन्होंने कहा कि यदि किसी भी विभाग में निर्धारित समय सीमा के उपरांत भी प्रकरण लंबित पाया जाता है तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाही की जाएगी।
इस अवसर पर उद्यमियों ने गुगौरा चौकी से डहर्रा पहुंच मार्ग, मकरबई अंदर ब्रिज, महोबा व चरखारी नगर में जलनिकास व साफ- सफाई तथा कबरई क्षेत्र में विद्युत समस्या आदि से सम्बंधित समस्याएं रखीं।इसके अलावा महोबा के व्यापारियों ने 2019-20 में बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा बच्चों की ड्रेस हेतु खरीदे गए कपड़े का 50 प्रतिशत पेमेंट न होने की बात कही, इस पर डीएम ने सीडीओ हीरा सिंह से कहा कि बीएसए को बुलाकर इस समस्या का अतिशीघ्र निदान कराएं।
बैठक में उपायुक्त उद्योग विमल द्विवेदी, उपायुक्त वाणिज्य कर राम प्रकाश पाण्डेय, सूचना अधिकारी सतीश यादव सहित जनपद के उद्यमी और व्यापारी गण मौजूद रहे।

jhansitimes
the authorjhansitimes