अफसरों की लापरवाही में फंसी #स्मार्ट_सिटी, #झांसी में बने #पिंक_टॉयलेट में लगा ताला

बुन्देलखंड

सपा जिलाध्यक्ष को दल बदलुओं से सावधान और सतर्क रहना होगा

(रिपोर्ट-सैय्यद तामीर उद्दीन) महोबा। जिले की समाजवादी पार्टी में अंदर खाने कुछ चल रहा है। देखने में तो पार्टी के पदाधिकारी एक दूसरे के साथ नजर आते है, लेकिन बाद में एक दूसरे की टांग खींचने का काम जारी हो जाता है। अभी सोशल मीडिया में सपा के ही एक कार्यकर्ता द्वारा पार्टी में आपसी खींचतान को वायरल किया था। हालांकि पार्टी के जिलाध्यक्ष पार्टी  में अधिक से अधिक सदस्य जोड़ने के लिये जनपद का भ्रमण कर रहे है लेकिन गुटबाजी के चलते वह पूरी तरह से सफल नही हो पा रहे है।

बताते चले सपा जिलाध्यक्ष बनते ही प्राण सिंह यादव द्वारा जिले का भ्रमण करते हुये पार्टी से अधिक से अधिक लोग जोड़ने के लिये भ्रमण किया जा रहा है। सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव का संदेश पत्र भी गांव, गांव जाकर दिया जा रहा है। लेकिन पार्टी के कुछ लोगों को यह सब रास नही आ रहा है तो वह अंदर खाने नया गुल खिलाने का चक्रव्यूह रच रहे है। नेताओं  के समक्ष कार्यक्रम में तो नजर आते है और उनकी पीठ घूमते ही एक दूसरे की टांग खींचने का खेल प्रारम्भ कर देते है। हालांकि लम्बे समय बाद सपा जिलाध्यक्ष की घोषणा हुई थी और जिलाध्यक्ष जिले का भ्रमण करते हुये अधिक से अधिक सदस्यों को पार्टी से जोड़ने का काम कर रहे है लेकिन उनके करीबी ही अंदर खाने नया गुल खिला रहे है। हालांकि इस बात की जिलाध्यक्ष को कोई भनक न हो लेकिन यह खेल जारी है और बहुत जल्द ही यह कार्यकर्ता कोई नया गुल खिला सकते है। पार्टी के कुछ ऐसे भी कार्यकर्ता है जो दोनों पाली झाड़ रहे है। जिलाध्यक्ष के सामने उनकी हां में हां और उनके जाते ही विरोध करने वालों की गोद में जाकर बैठ जाते है। ऐसा नही कि सपा में नेताओं की कमी हो और उमनें ऊर्जा न हो सपा के ऐसे भी नेता है जिन्होंने सपा से ही राजनीति प्रारम्भ की और अभी तक सपा का ही  दामन थामें है। कुछ नेता ऐसे सपा में शामिल हो गये जो सपा का दामन छोड़ भाजपा में चले गये थे और अब फिर अपना मकसद सिद्ध करने के लिये भाजपा को छोड़ सपा का दामन थामें है ऐसे नेताओं से पार्टी के जिलाध्यक्ष को सावधान और सतर्क रहना होगा।

jhansitimes
the authorjhansitimes